loader

अयोध्या विवाद पर 29 जनवरी को होगी सुनवाई, बनेगी नई बेंच

राम मंदिर-बाबरी मसजिद विवाद पर सुनवाई के लिए अब नया खंडपीठ बनेगा और इसकी सुनवाई 29 जनवरी को शुरू होगी। गुरुवार को सुनवाई शुरू होते ही वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने कहा कि जस्टिस यू. यू. ललित एक बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह के वकील रह चुके हैं, लिहाज़ा उनका खंडपीठ में बने रहना ठीक नहीं है। जस्टिस ललित ने इसके बाद ख़ुद को इस मामले की  सुनवाई से अलग कर लिया। 

खंडपीठ के प्रमुख और मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई ने इसके बाद नए खंडपीठ के गठन और अगली सुनवाई की तारीख तय कर दी। इन नए खंडपीठ में कौन होते हैं, यह अभी तय नही है। इसके बाद अदालत के बाहर कुछ लोगों ने प्रदर्शन किया और सुप्रीम कोर्ट के ख़िलाफ़ नारे लगाए। उन्होंने यह  सवाल भी उठाया कि ख़ुद रंजन गोगोई कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री केशव चंद्र गोगोई के बेटे हैं। केशव चंद्र गोगोई कांग्रेस की ओर से 1982 में दो महीने के लिए मुख्यमंत्री बने थे। 

अदालत ने यह भी कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार जल्द ही बताएँगे कि मामले से जुड़े तमाम दस्तावेज़ के अनुवाद का काम कब तक पूरा हो जाएगा और कब तक सुनवाई शुरू करने की तैयारियाँ मुकम्मल हो जाएँगी। तक़रीबगन 8 हज़ार पेज का अनुवाद होना था। ये काग़ज़ात उर्दू, फ़ारसी, अरबी और दूसरी भाषाओं में लिखे गए हैं। उनका अनुवाद पहले से ही चल रहा है, पर यह भी देखना है कि उनका अनुवाद ठीक हुआ है या नहीं। साथ ही कुछ अनुवाद का काम बाकी भी है। 
पाँच जजों के खंडपीठ में रंजन गोगोई के अलावा, जस्टिस एसके बोबडे, जस्टिस एन. वी. रमन्ना, जस्टिस यू.यू. ललित और जस्टिस डी. वाई चंद्रचूड़ शामिल हैं।

कुछ लोगों का कहना है कि राम मंदिर विवाद पर लोकसभा चुनाव से पहले सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आ जाएगा और मंदिर निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा। दूसरे तबक़े का मानना है कि यह मामला बहुत जटिल है, ऐसे में न तो लोकसभा चुनाव के पहले सुनवाई पूरी होगी और न ही मंदिर निर्माण का काम शुरू हो पाएगा। कुछ लोग तो यह भी शर्त लगाने को तैयार हैं कि यह मामला अभी बहुत लंबा खिंचेगा, हो सकता है कि इसमें सालों लग जाएँ। 

सरकार पर बनाया दबाव 

राम मंदिर के मसले पर पिछले कुछ महीनों से आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और बीजेपी की तरफ़ से ज़बरदस्त बयानबाज़ियाँ हुईं। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने विजयदशमी के दिन कहा कि हिंदुओं के सब्र की सीमा ख़त्म हो रही है और सरकार हिंदुओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए जल्द से जल्द क़ानून बनाकर मंदिर निर्माण का काम शुरू करे। 

इसी तरीके से रामलीला मैदान में आरएसएस के नंबर 2 नेता माने जाने वाले भैया जी जोशी ने कहा कि यह सरकार की ज़िम्मेदारी है कि वह लोगों की भावनाओं को समझे और राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करे। विश्व हिंदू परिषद ने तो सीधे तौर पर राम मंदिर निर्माण में देरी के लिए सुप्रीम कोर्ट को ही कठघरे में खड़ा कर दिया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें