loader

बीजेपी के सहयोगी जदयू ने जेएनयू के वाइस चांसलर को हटाने की माँग की

पहले से ही अलग-अलग कारणों से कई बार विवादों के केंद्र में रहने वाले जेएनयू वाइस चांसलर एम. जगदीश कुमार को पद से हटाने की माँग एक बार फिर ज़ोर  पकड़ने लगी है। इस बार यह माँग सरकार के अपने ही लोग कर रहे हैं। 

बीजेपी के सहयोगी दल जनता दल (युनाइटेड) ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर जगदीश कुमार को पद से हटाने की माँग की है।
देश से और खबरें
उसने इसके साथ ही जेएनयू परिसर में रविवार को हुई हिंसा की सुप्रीम कोर्ट के जज की अध्यक्षता में जाँच कराने की माँग भी की है। जद (यू) ने इसके साथ ही दिल्ली पुलिस पर अपना काम ठीक से नहीं करने का आरोप भी लगाया है। पार्टी के प्रवक्ता के. सी. त्यागी ने कहा : 

‘हम विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर के और दूसरे अधिकारियों के रवैए की कड़े शब्दों में आलोचना करते हैं कि गुंडों के गंदे खेल पर वह मूकदर्शक बने रहे। पुलिस अफ़सर भी अपने कर्तव्य को निभाने में नाकाम रहे।’


के. सी. त्यागी, प्रवक्ता, जनता दल (युनाइटेड)

जदयू ने एक बयान में यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जज की अगुआई में इस पूरे कांड की निष्पक्ष व स्वतंत्र न्यायिक जाँच की जानी चाहिए। 

जदयू की यह माँग महत्वपूर्ण इसलिए है कि वह बीजेपी की सहयोगी दल है। लोकसभा चुनाव दोनों ने एक साथ लड़ा था। केंद्र सरकार में वह शामिल यह कहते हुए नहीं हुई थी कि वह सांकेतिक प्रतिनिधित्व नहीं चाहती है, क्योंकि नरेंद्र मोदी उसे सिर्फ़ एक मंत्रालय दे रहे थे। बिहार में जदयू की नीतीश कुमार सरकार में बीजेपी शामिल है। इस तरह बीजेपी के सहयोगी दल ही जेएनयू के मुद्दे पर उसके ख़िलाफ़ हो रहे हैं। 

जेएनयू के पूर्व वाइस चांसलर ने रविवार को हुई हिंसा पर अचरज जताते हुए कहा कि नकाबपोश लोगों ने विश्वविद्यालय के छात्रों पर हिंसक हमले किए, जिनमें महिलाएँ भी शामिल थीं और पुलिस चुप रही, उन्हें रोकने के लिए कुछ नहीं किया।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी ने भी जेएनयू के वाइस चांसलर की तीखी आलोचना की है। उन्होंने कहा, ‘यह निश्चित तौर पर बाहरी लोगों द्वारा योजनाबद्ध तरीके से किया गया हमला है। वाइस चांसलर ने 5 घंटे तक किसी को कोई जवाब नहीं दिया, न ही उन्होंने पुलिस बुलाई। इससे साफ़ है कि वह भी इसमें शामिल थे।’

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें