loader

सरकारी विज्ञापन देने में जनता का पैसा उड़ा रही मोदी व केजरीवाल सरकार

अख़बार विज्ञापनों से भरे हुए हैं, हालात यह हैं कि आपको ख़बर ढूंढने के लिए ख़ासी मशक्कत करनी पड़ेगी। लगता है कि इस बात की होड़ लगी है कि कौन कितना ज़्यादा विज्ञापन दे सकता है। विज्ञापन का यह पैसा कहीं खैरात से नहीं आता, यह जनता की गाढ़ी कमाई का ही पैसा है जिसके दम पर सरकारें धड़ाधड़ विज्ञापन दे रही हैं। इस मामले में कोई भी पार्टी किसी से कम नहीं है। 

देश से और ख़बरें
इन दिनों दिल्ली के अख़बार अरविंद केजरीवाल की सरकार और केंद्र की मोदी सरकार के विज्ञापनों से पटे हुए हैं। पहले देखिए कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार किस तरह अंधाधुंध विज्ञापन दे रही है। 
bjp and aap spending more money on advertisement - Satya Hindi
अब देखिए कि मोदी और योगी सरकार किस तरह अंधाधुंध विज्ञापन दे रही हैं। 
bjp and aap spending more money on advertisement - Satya Hindi

सरकारों की ओर से आँखें बंद करके दिए जा रहे इन विज्ञापनों को झपटने की होड़ लगी हुई है क्योंकि कुछ ही दिन में आचार संहिता लगने वाली है। उसके बाद सरकारें अपनी उपलब्धियों का प्रचार सरकारी ख़र्चे पर नहीं करवा सकेंगी। इसका सीधा मतलब यह हुआ कि जनता के पैसे का जितना इस्तेमाल किसी काम में होगा, उससे कहीं ज़्यादा उसके प्रचार में ख़र्च किया जाएगा। 

बताया जाता है कि उत्तर प्रदेश में तो अखबारों ने इस सरकारी कृपा को पाने के लिए अपने-अपने संस्थान की ओर से मीडिया कॉन्क्लेव तक का आयोजन कराया। एक ही हफ़्ते में कई अख़बारों ने इन कॉन्क्लेव के जरिये लाखों रुपये के विज्ञापन कमा लिए। 

ताज़ा ख़बरें

पार्टियाँ अलग, जनता एक जैसी 

2018 में दिल्ली में 14 फरवरी को केजरीवाल सरकार के तीन साल पूरे होने पर दिल्ली भर में पोस्टर लगाए गए। इन पोस्टरों में आम लोगों को दिखाया गया था। हैरानी की बात यह थी कि यही लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विज्ञापन में भी थे। प्रधानमंत्री वाले विज्ञापन में पेट्रोलियम एवं नेचुरल गैस मंत्रालय की तरफ़ से गैस सब्सिडी छोड़ने वालों का आभार व्यक्त किया गया था। दो अलग-अलग सरकारें, अलग-अलग दलों की सरकारें और विज्ञापन में जनता एक जैसी, यह वास्तव में बहुत हास्यास्पद है। 

bjp and aap spending more money on advertisement - Satya Hindi

विज्ञापनों से भरा पड़ा है अख़बार

आज का इंडियन एक्सप्रेस अख़बार उठाकर देखिए। पूरा अख़बार विज्ञापनों से भरा पड़ा है। पहले पन्ने पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आपको अपनी सरकार का प्रचार करते मिलेंगे। इसमें उनकी तमाम उपलब्धियों का जिक़्र है। दूसरे पन्ने पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का विज्ञापन है,आगे बढ़ते जाइए छठे पन्ने पर आपको फिर केजरीवाल मिलेंगे और सातवें पन्ने पर मोदी सरकार का विज्ञापन है। आगे पलटेंगे तो आठवें पन्ने पर फिर आपकी मुलाक़ात केजरीवाल के विज्ञापन से होगी और 13 वें पन्ने पर एक बार फिर मोदी सरकार का विज्ञापन आपको मिलेगा। इसके बाद 16 वें पन्ने पर आपको मोदी सरकार का फ़ुल पन्ने का विज्ञापन और 21 वें पन्ने पर मोदी सरकार और योगी सरकार के विज्ञापन मिलेंगे। आगे 22 वाँ, 23 वाँ, 24 वाँ और 27 वाँ पन्ना पूरी तरह मोदी सरकार के विज्ञापनों से भरा हुआ है। 28 वें पन्ने पर एक बार फिर आपको मोदी सरकार का विज्ञापन मिलेगा। 
इसके अलावा अगर आप दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं और एफ़एम रेडियो सुनते हैं तो आपको हर 4-5 मिनट में एक सरकारी विज्ञापन ज़रूर मिलेगा। इसमें अधिकतर विज्ञापन मोदी सरकार के हैं।
डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म की बात करें तो फ़ेसबुक से लेकर तमाम सोशल साइट्स, न्यूज़ वेबसाइट्स पर सरकार की उपलब्धियों का इस तरह प्रचार किया जा रहा है कि इसे देखकर या सुनकर एक बार के लिए आम आदमी कंफ़्यूज़ हो जाएगा कि जितना काम बताया जा रहा है, क्या वह हो चुका है और अगर वह हो चुका है तो फिर चारों ओर इतनी सारी समस्याएँ क्यों हैं। 

सरकारों की ओर से दिए जा रहे इन अंधाधुंध विज्ञापनों को लेकर सोशल मीडिया पर भी सवाल उठाए गए हैं। वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष ने 22 फ़रवरी को अपने ट्विटर हैंडल पर तंज कसते हुए लिखा, ‘आज के अख़बारों में मोदी जी को केजरीवाल ने बुरी तरह पीट दिया। मोदी जी को कोई तो मिला प्रचार में पछाड़ने वाला।’ आशुतोष ने विज्ञापन की फ़ोटो भी पोस्ट की है। 

क्यों दिए जाते हैं विज्ञापन 

सरकारें अपने कामकाज के बारे में जनता को बताने के लिए विज्ञापन देती हैं। लेकिन इसके पीछे खेल यह है कि यह विज्ञापन मीडिया घरानों को अपने पक्ष में ख़बर चलवाने या विरोधियों के ख़िलाफ़ प्रोपेगेंडा चलाने के लिए दिए जाते हैं। ऐसा लगता है कि सरकारों के जनसंपर्क विभाग का काम ही यही रह गया है कि वह देश भर या राज्य भर के तमाम छोटे-बढ़े मीडिया संस्थानों को विज्ञापन देकर उनका मुँह बंद रखे रहें ताकि वे सरकार के ख़िलाफ़ ख़बर छापने की बात भी न सोच सकें। और इसके उलट सरकार की ग़लती पर उनके पक्ष में खुलकर खड़े हो जाएँ। 

पैसे की बर्बादी के ख़िलाफ़ उठाएँ आवाज़

अब आप सोच रहे होंगे कि हम यह सब आपको क्यों बता रहे हैं, हम आपको यह सब सिर्फ़ इसलिए बता रहे हैं कि जनता के पैसे की किस तरह बर्बादी की जा रही है। और यह तो सिर्फ़ एक ही अख़बार की बात है, देश में हज़ारों अख़बार हैं और उनमें अमूमन तो साल भर और चुनाव के नज़दीक आते ही इसी तरह विज्ञापनों का ढेर लग जाता है। इसलिए फ़ैसला आपके हाथ में भी है कि जनता के पैसे की इस तरह बर्बादी के ख़िलाफ़ आप भी आवाज उठाएँ। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें