loader

राज्यसभा की 11 में से 9 सीटें बीजेपी को, कांग्रेस कमज़ोर

सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी अब भी राज्यसभा में बहुमत में नहीं है, पर वह तेजी से इस ओर बढ़ रही है। सोमवार को हुए राज्यसभा चुनावों में बीजेपी ने 11 में से 9 सीटें जीत लीं, जिससे सदन में इसके सदस्यों की संख्या बढ़ कर 92 हो गई।
राज्यसभा चुनावों में बीजेपी की बड़ी जीत हुई है, लेकिन वह अब भी बहुमत से बहुत पीछे है। बहुमत के लिए ज़रूरी 123 सीटों में से बीजेपी के पास अभी 31 सीटें कम हैं।
ख़ास ख़बरें

एनडीए के पास 98 सीटें

बीजेपी के अलावा रिपब्लिकन पार्टी के रामदास अठावले और जनता दल युनाइटेड के 5 सदस्यों को मिला कर एनडीए के पास राज्यसभा में अब 98 सीटें हो गई हैं। एडीएमके के 9 सांसदों और पूर्वोत्तर की कुछ पार्टियों के सांसदों को मिला कर यह तादाद 110 तक पहुँचती है।
राज्यसभा में बहुमत न होने के कारण सरकार को हर बार विधेयक पास कराने में दिक्क़त होती है और उसे दूसरे दलों का सहारा लेना पड़ता है। वह इसके लिए बीजू जनता दल के 9 और वाईएसआर कांग्रेस के 6 सदस्यों पर निर्भर रहती रही है।
एनडीए को राज्यसभा में झटका लगा जब अकाली दल और शिवसेना ने उसका साथ छोड़ दिया। इन दोनों के पास 3-3 राज्यसभा सदस्य हैं।

11 सदस्य होंगे रिटायर

इस चुनाव की ज़रूरत इसलिए पड़ी कि 25 नवंबर को राज्यसभा के 11  सदस्य रिटायर हो रहे हैं। इनमें से उत्तर प्रदेश के 10 और उत्तराखंड से एक सदस्य हैं। रिटायर होने वाले राज्यसभा सदस्यों में कांग्रेस के पी. एल. पूनिया और राज बब्बर भी हैं।
इन चुनावों के बाद राज्यसभा में कांग्रेस के सदस्यों की संख्या 40 से घट कर 38 हो गई। राज्यसभा में कांग्रेस सदस्यों की यह न्यूनतम संख्या है।
bjp wins 9 seats in rajyasabha election - Satya Hindi
उत्तर प्रदेश से चुने गए सदस्य हैं-हरदीप सिंह पुरी, राम गोपाल यादव, नीरज शेखर, अरुण सिंह, गीता शाक्य, हरिद्वार दुबे, बृजलाल, बी. एल. वर्मा, सीमा द्विवेदी और रामजी गौतम। उत्तराखंड से नरेश बंसल चुने गए हैं। 

सरकार होगी मजबूत

यह चुनाव अहम दो कारणों से है। एक तो सत्तारूढ़ दल की स्थिति मजबूत होती जा रही है, जिससे इसे निकट भविष्य में साहसिक कदम उठाने में सहूलियत होगी। इसे अब तक बहुत दिक्क़तों का सामना करना पड़ रहा है। 
इसे कृषि विधेयकों से समझा जा सकता है। कृषि विधयकों को लोकसभा में आसानी से पारित कर दिया गया, पर राज्यसभा में परेशानी हुई। यह आरोप भी लगा कि सरकार ने इसे ग़लत तरीके से पारित करवाया क्योंकि उसके पास ज़रूरत बहुमत नहीं था। इस पर राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश की भूमिका पर भी सवाल उठे थे। 

कांग्रेस कमज़ोर

दूसरी बात यह है कि कांग्रेस 38 सीटों के साथ अपने न्यूनतम स्तर पर है। वह राज्यसभा में ज़ोरदार ढंग से विरोध नहीं कर सकती है। राज्यसभा का सारा दारोमदार छोटे व क्षेत्रीय दलों पर आ जाता है, लेकिन वे एकजुट होकर वोट नहीं कर सकते। कर्नाटक में एक सीट खाली हुई है, वहां उपचुनाव कराना होगा। 
समझा जाता है कि यह भी बीजेपी के पक्ष में ही जाएगी। इसके बाद राज्यसभा में विपक्ष की स्थिति बदतर ही होगी। ऐसे में सरकार के लिए विवादित मुद्दों पर भी विधेयक पारित कराना आसान हो जाएगा। इन चुनावों के बाद संसद में विपक्ष की स्थिति समझी जा सकती है। कांग्रेस का यह हाल हो गया है कि लोकसभा और राज्यसभा मिला कर भी यानी पूरे संसद में उसके पास 100 सदस्य भी नहीं हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें