loader

18 साल से ऊपर की उम्र के सभी लोगों को लगेगी बूस्टर डोज! 

भारत में 18 साल से ऊपर की उम्र के सभी लोगों को बूस्टर डोज लग सकती है। अभी तक बूस्टर डोज वरिष्ठ नागरिकों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही लगाई जा रही थी। कोरोना के मामले हालांकि भारत में काफी कम हो गए हैं लेकिन चीन में जिस तरह एक बार फिर कोरोना के मामले बढ़े हैं उससे भारत में भी चिंता बढ़ने लगी है। 

केंद्र सरकार ने कुछ दिन पहले ही इसे लेकर राज्यों को आगाह किया है। केंद्र ने राज्यों से अपील की थी कि वह एशिया और यूरोप में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस बीमारी की रोकथाम के लिए उठाए जा रहे अपने क़दमों को तेज करें।

एनडीटीवी के मुताबिक़, केंद्र सरकार अभी इस बात पर विचार कर रही है कि बूस्टर डोज को फ्री में दिया जाए या इसके लिए फीस ली जाए। वरिष्ठ नागरिकों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को बूस्टर डोज फ्री में लगाई जा रही है।

ताज़ा ख़बरें

उधर, भारत में संक्रमण के मामले इतने कम हो गए हैं कि बीते 24 घंटे में सिर्फ 1,549 नए मामले आए हैं और 31 लोगों की मौत हुई है। हालांकि देश में अभी तक कुल 4 करोड़ 30 लाख से ज्यादा संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं और 5,16,510 लोगों की मौत हो चुकी है।

भारत वैक्सीन लगाने के मामले में भी बेहद तेज़ गति के साथ काम कर रहा है। अभी तक 181 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की डोज लग चुकी हैं और सक्रिय मामले घटकर 25106 रह गए हैं।

भारत में हर दिन का पॉजिटिविटी रेट .40 फीसद है जबकि साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट भी .40 फीसद है।

देश से और खबरें

ट्विटर पर कुछ भारतीयों ने कहा है कि उन्हें बूस्टर डोज न लगे होने के कारण विदेशों में कार्यक्रमों में भाग लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में भारत सरकार इस मामले में जल्द से जल्द विचार कर सभी वयस्कों को बूस्टर डोज लगाने के बारे में फैसला ले सकती है।

बच्चों को लग रही वैक्सीन 

12 से 14 साल की उम्र के बच्चों को भी बीते 16 मार्च से वैक्सीन लगाई जा रही है। कोरोना के कम हुए मामलों के मद्देनजर कई राज्यों में स्कूल खुल गए हैं। ऐसे में बच्चों के बीच संक्रमण फैलने का खतरा है और इसे देखते हुए ही केंद्र सरकार ने इस आयु वर्ग के बच्चों को वैक्सीन लगाने का फ़ैसला किया था। इस साल की शुरुआत में ही 15 से 18 साल की उम्र के बच्चों को वैक्सीन लगाने का काम शुरू किया गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें