loader

शर्मनाक! सुल्ली डील के बाद अब 'बुल्ली बाई' एप पर मुसलिम महिलाओं की तसवीरें

नफ़रत फैलाने की भी एक हद होती है! क़रीब छह महीने पहले 'सुल्ली डील' पर मुसलिम महिलाओं की तसवीरें पोस्ट कर 'नीलामी' करने जैसा शर्मनाक मामला आने के बाद अब 'बुल्ली बाई' का मामला आया है। ओपन-सोर्स प्लेटफॉर्म गिटहब का इस्तेमाल करते हुए 'बुल्ली बाई' ऐप बनाई गई और इस पर मुसलिम महिलाओं की तसवीरें अपलोड की गई हैं। यह मामला आने के बाद संवेदनशील लोगों ने सोशल मीडिया पर ग़ुस्सा जाहिर किया है। शिकायत किए जाने के बाद इस मामले की पुलिस ने जाँच भी शुरू कर दी है।

रिपोर्ट के अनुसार, सैकड़ों मुसलिम महिलाओं की तसवीरें आपत्तिजनक ऐप 'बुल्ली बाई' पर अपलोड की गईं। इसमें कई जानी-मानी हस्तियाँ भी शामिल हैं।

ताज़ा ख़बरें

इस आपत्तिजनक ऐप पर जिन महिलाओं को निशाना बनाया गया है उनमें से कुछ ने सोशल मीडिया पर शिकायत की है। एक जानी मानी पत्रकार ने ट्विटर पर इस मामले को साझा किया है। उन्होंने दावा किया कि गिटहब पर 'सुल्ली डील्स' की तरह 'बुल्ली बाई' नाम का एक समूह बनाया गया जो मुसलिम महिलाओं की तसवीरें उनके सोशल मीडिया खातों से लेकर लोगों को उनकी 'नीलामी' में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

जब ऑन लाइन इसकी शिकायत की गई तो शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी से लेकर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी तक उन महिलाओं के समर्थन में आ गए। 

प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्विटर पर लिखा, 'मैंने बार-बार माननीय आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव जी से सुल्ली डील जैसे प्लेटफॉर्म के माध्यम से महिलाओं के इस तरह के बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक तौर पर निशाना बनाए जाने के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा है। शर्म की बात है कि इसे लगातार नज़रअंदाज़ किया जा रहा है।' हालाँकि, बाद में उनके ट्वीट के जवाब में अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि गिटहब ने आज सुबह ही उपयोगकर्ता को ब्लॉक करने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि सीईआरटी और पुलिस अधिकारी आगे की कार्रवाई में समन्वय कर रहे हैं।

देश से और ख़बरें

इस मामले पर ऑल्ट न्यूज़ से जुड़े मोहम्मद ज़ुबैर ने ट्वीट किया, 'उनके पास कम से कम 100 प्रभावशाली भारतीय मुसलिम महिलाओं की तसवीरें हैं। यह ट्विटर हैंडल था @wannabesigmaf जिसने उनके बारे में ट्वीट किया था। हटाए गए ट्वीट्स के आर्काइव लिंक और स्क्रीनशॉट उपलब्ध हैं। ट्विटर के लिए यह पता लगाना आसान है कि इसके पीछे कौन है। क्या कोई मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज कर सकता है।'

इसके आगे वह लिखते हैं, 'कृपया मुंबई में पुलिस शिकायत दर्ज करें, दिल्ली में नहीं। आपने दिल्ली पुलिस द्वारा की गई जांच को देखा होगा जब पिछले साल इसी तरह के मामले की शिकायत हुई थी। क्रिकेटर की बेटी को अपने गुमनाम अकाउंट से रेप की धमकी देने वाले शख्स को गिरफ्तार करने में मुंबई पुलिस को 3-4 दिन ही लगे थे।'

इसके बाद प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्वीट किया, 'मुंबई पुलिस के सीपी और और डीसीपी (क्राइम) रश्मि करंदीकर जी से बात की है। वे इसकी जांच करेंगे। हस्तक्षेप करने के लिए महाराष्ट्र डीजीपी से भी बात की है। उम्मीद है कि इस तरह की ग़लत और सेक्सिस्ट साइटों को बंद किया जाएगा।'

हालाँकि, इस बीच दिल्ली पुलिस ने भी ट्वीट कर कहा है कि इस मामले को संज्ञान में लिया गया है। उसने यह भी कहा है कि संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि उचित कार्रवाई करें। 

बता दें कि इसी साल जुलाई में 'सुल्ली फॉर सेल' नामक एक ओपन सोर्स वेबसाइट बनाई गई थी, जिस पर मुसलमान महिलाओं के ट्विटर हैंडल से जानकारियाँ और तसवीरें निकाल कर डाली गई थीं और इन्हें सार्वजनिक तौर पर नीलाम किया गया था, जिसे 'सुल्ली डील' कहा गया। 'सुल्ली फॉर सेल' और 'सुल्ली डील' के ज़रिए मुसलमान महिला पत्रकारों, कार्यकर्ताओं, कलाकारों और शोधार्थियों को निशाना बनाया गया था।

ख़ास ख़बरें

उन्हें इसके ज़रिए ट्रोल किया गया था, उनकी तसवीरें नीलाम की गईं, ट्विटर हैंडल व दूसरी निजी जानकारियाँ सार्वजनिक की गईं और उनके लिए 'सुल्ली' जैसे अपमानजनक शब्द का इस्तेमाल किया गया था। 

तब गिटहब की सीओओ एरिका ब्रेसिया ने ट्वीट कर कहा था कि इस अकाउंट को सस्पेंड किया जा चुका है, लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया था कि आख़िर ये सब हुआ कैसे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें