loader

मोदी की लोकप्रियता सात साल के निम्नतम स्तर पर!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता पिछले सात साल के न्यूनतम स्तर पर है। हालांकि वे अभी भी देश के सबसे लोकप्रिय नेता हैं, पर उन्हें पसंद करने वालों से ज़्यादा संख्या उन्हें नापसंद करने वालों की है और यह भी सात साल में पहली बार हुआ है। 

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, सर्वेक्षण करने वाली एजेंसी सी-वोटर ने अपने हालिया सर्वेक्षण में पाया है कि इसमें भाग लेने वालों में से सिर्फ 37 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे नरेंद्र मोदी के कामकाज से बहुत संतुष्ट हैं। 

पिछले साल के सर्वेक्षण में मोदी के कामकाज से बहुत संतुष्ट लोगों की तादाद 65 प्रतिशत थी। ज़ाहिर है, यह बहुत बड़ी गिरावट है। 

सी-वोटर के संस्थापक यशवंत दशमुख ने रॉयटर्स से कहा,

ख़ास ख़बरें

नरेंद्र मोदी अपने राजनीतिक जीवन की सबसे बड़ी चुनौती का सामना कर रहे हैं।


यशवंत देशमुख, संस्थापक, सी-वोटर

'मॉर्निंग कनसल्ट' का सर्वे

लेकिन इसके सर्वेक्षण से ही यह भी पता चलता है कि नरेंद्र मोदी लोकप्रियता गिरने के बावजूद देश के सबसे लोकप्रिय नेता हैं।

दूसरी ओर, 'मॉर्निंग कंसल्ट' नामक अमेरिकी संस्था ने कहा है कि नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता में सितंबर 2019 से अब तक 22 प्रतिशत अंक की गिरावट आई है।

राजनीतिक सर्वेक्षण करने वाली इस कंपनी का कहना है कि उसने अगस्त 2019 से भारतीय प्रधानमंत्री की लोकप्रियता पर सर्वेक्षण करना शुरू किया था। तब से यह सबसे बड़ी गिरावट आ रही है।

'मॉर्निंग कंसल्ट' का कहना है कि नरेंद्र मोदी की रेटिंग इस हफ़्ते 63 फ़ीसदी रही, जो अप्रैल की तुलना में 22 पॉइंट कम है।
सर्वे के मुताबिक़, महानगरों में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के साथ ही मोदी की लोकप्रियता में गिरावट आई है।

क्या कहना है लोगों का?

इस सर्वे में भी महामारी से निपटने के मामले में सरकार के प्रति लोगों का भरोसा कम हुआ है। सर्वे में शामिल केवल 59 फ़ीसदी लोगों ने कहा कि सरकार ने संकट से निपटने में अच्छा काम किया है।

कोरोना की पिछली लहर में ऐसे लोगों की तादाद 89 फ़ीसदी थी। मोदी को 2024 के पहले आम चुनाव का सामना नहीं करना है।

इन दोनों सर्वेक्षणों के नतीजों का अध्ययन किया जाए तो यह साफ़ होता है कि कोरोना महामारी, इसका कहर, उससे मरते लोग और तबाही के मंजर के बीच सरकार व सत्तारूढ़ दल का डैमेज कंट्रोल बहुत कारगर नहीं हो रहा है और नरेंद्र मोदी ब्रांड बुरी तरह अपनी चमक खो रहा है।

मतलब साफ है, तमाम ब्रांड इमेज बिल्डिंग के बावजूद प्रधानमंत्री तेज़ी से और लगातार लोकप्रियता खो रहे हैं।

'मॉर्निंग कंसल्ट' के सर्वेक्षण का नतीजा ऐसे समय आया है जब गाँवों में एकाएक मौत के मामले बढ़ गए हैं। गंगा में सैकड़ों लाशें तैरती मिल रही हैं। हज़ारों लाशों को गंगा किनारे रेत में दफ़न करने की ख़बरें हैं। गाँवों में बड़ी संख्या में बुखार से पीड़ित होने की रिपोर्ट है।

गाँवों में तो लोगों के पास कोरोना जाँच की सुविधा ही नहीं है या फिर लोग जाँच करा नहीं रहे हैं। डॉक्टर और एंबुलेंस जैसी सुविधा भी नहीं है। गंभीर हालत होने पर मरीज़ों को शहरों में लेकर जाँच कराने पर अधिकतर मामलों में कोरोना की रिपोर्ट आ रही है। कई मरीज तो शहरों के अस्पताल पहुँचते-पहुँचते ही दम तोड़ दे रहे हैं। 

क्या है नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का सच और कैसे और क्यों उसमें गिरावट आ रही है? देखें, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष की क्या राय है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें