loader

अफसरों की लड़ाई में हुए सीबीआई से जुड़े विस्फोटक खुलासे

सीबीआई के निदेशक और विशेष निदेशक की निजी लड़ाई से इस जाँच एजेंसी की कलई खुल गई है। यह साफ़ हो गया है कि यह ब्यूरो का अंदरूनी मामला नहीं है। यह प्रधानमंत्री कार्यालय की कार्यशैली, उसके हस्तक्षेप और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाले उसके फ़ैसलों की पोल खोलता है। विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की शिकायत पर केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) ने निदेशक आलोक वर्मा से कुछ सवाल पूछे थे। उन्होंने अस्थाना के आरोपों के बिंदुवार जवाब दिए। अंग्रेजी वेबसाइट ‘द वायर’ ने इस पर एक रिपोर्ट छापी थी। आइए, जानते हैं कि इस रिपोर्ट में क्या था।‘द वायर’ में छपी ख़बर के मुताबिक़, वर्मा ने पीएमओ, सीवीसी और दूसरे लोगों पर गंभीर आरोप लगाए।  
वर्मा ने सीवीसी के सवालों के जो जवाब दिए, उनसे पीएमओ, उसके तहत आने वाले कार्मिक विभाग और स्वयं सीवीसी प्रमुख पर सवालिया निशान लगते हैं। इससे साफ़ होता है कि प्रधानमंत्री कार्यालय ऐसे भ्रष्ट अफ़सरों को ख़ास पसंद करता है, उनकी नियुक्ति करता है और उनका खुल कर बचाव करता है।

पीएमओ पर आरोप

‘द वायर’ में छपी ख़बर के मुताबिक़, वर्मा ने सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय पर निशाना साधते हुए कहा कि साल 2017 में विशेष निदेशक के पद पर अस्थाना की नियुक्ति के समय ही उन्होंने चेताया था कि अस्थाना भ्रष्टाचार के कम से कम 6 मामलों में शामिल हैं। सीवीसी और पीएमओ ने उनकी एक न सुनी और अस्थाना की नियुक्ति कर दी गई। उन्होंने किसी का नाम तो नहीं लिया, पर यह संकेत ज़रूर दिया कि ऊपर के किसी आदमी के कहने पर ऐसा हुआ था। वर्मा ने सीवीसी को दिए जवाब में अस्थाना के आरोपों का बिंदुवार उत्तर दिया।
CBI Director puts PMO in dock - Satya Hindi

लालू मामले में पीएमओ का दबाव

विशेष निदेशक अस्थाना ने वर्मा पर आरोप लगाया था कि उन्होंने आईआरसीटीसी घोटाले में लालू प्रसाद यादव के ख़िलाफ़ सीबीआई का केस जान-बूझ कर ख़राब कर दिया था। वर्मा का ज़वाब है कि अस्थाना इस मामले में एक भी पुख़्ता सबूत नहीं जुटा सके और वर्मा सभी नियम-क़ानूनों का पालन कर ही कोई कर्रवाई करना चाहते थे।
सीबीआई निदेशक ने लालू मुद्दे पर पीएमओ पर गंभीर सवाल उठाए हें। उन्होंने कहा है कि पीएमओ के एक बड़े अफ़सर और बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ख़ास दिलचस्पी ले रहे थे और दबाव बना रहे थे। लेकिन सीबीआई के पास पुख़्ता सबूत नहीं थे।

अस्थाना पर पलटवार

अस्थाना का आरोप है कि वर्मा ने मोइन क़ुरैशी मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सना बाबू सतीश को साक्षी बनाया न कि अभियुक्त और इस तरह उन्हें बचाया गया। सीबीआई निदेशक ने अपने जूनियर अफ़सर के इस आरोप के ज़वाब में कहा है कि पहले ही प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले में सना सतीश को साक्षी बना दिया था। इसी कारण उन्होंने उसे अलग से अभियुक्त नहीं बनाया वरना क़ानूनी विवाद पैदा हो जाता। उन्होंने पलटवार करते हुए कहा कि अस्थाना इस मामले को उलझाने के लिए ही सना को अभियुक्त बनाने पर ज़ोर दे रहे हैं।

वर्मा ने प्रधानमंत्री कार्यालय के तहत काम करने वाले कार्मिक विभाग को निशाने पर लेते हुए कहा कि आख़िर क्यों अस्थाना पर लगे आरोपों की जाँच कर रहे लोगों को रातोंरात तबादला कर जबलपुर भेज दिया गया।  

सीबीआई प्रमुख ने पीएमओ पर आरोप लगाते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे अफ़सरों को ब्यूरो के ऊँचे पदों पर जान-बूझ कर बैठाया गया और इस बारे में उनकी चेतावनियों की अनदेखी की गई।
उन्होंने कहा कि ज्योति नारायण जैसे अफ़सरों की नियुक्ति के समय उन्होंने यह मुद्दा उठाया था पर ख़ुद सीवीसी और कार्मिक विभाग ने उनकी एक न सुनी।

सतकर्ता आयुक्त भी साफ़ नहीं

वर्मा ने सीवीसी चौधरी पर पक्षपात करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के छोटे-मोटे आरोपों का संज्ञान लेते हुए उनके (वर्मा के) ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरू की मगर अस्थाना के बड़े घपलों को नज़रअंदाज़ किया ताकि उन्हें बचाया जा सके।
CBI Director puts PMO in dock - Satya Hindi
सबसे मज़े की बात तो यह है कि दूसरों पर नज़र रखने वाले सतर्कता आयोग के प्रमुख पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं। के वी चौधरी पर आरोप है कि उन्होंने सहारा-बिड़ला डायरी मामले में साक्ष्यों को जान-बूझ कर दबा दिया था।
साल 2017 में उनकी नियुक्ति को चुनौती दी गयी थी। पर उन पर आँच न आयी।

कटघरे में पीएमओ

सुप्रीम कोर्ट ने अस्थाना की शिकायतों पर वर्मा पर लगे आरोपों की जाँच सीवीसी को करने कहा था। सीवीसी ने वर्मा को सवालों की एक लिस्ट भेजी थी और उनपर उनसे ज़वाब माँगा था। अपने ज़वाब में वर्मा ने पीएमओ समेत सबको लपेट लिया है।यहाँ मामला सिर्फ़ सीबीआई का नहीं रहा। वर्मा के आरोपों से प्रधानमंत्री कार्यालय भी कटघरे में आ गया है है। द वायर की पूरी रिपोर्ट आप यहाँ पढ़ सकते हैं - https://thewire.in/government/cbi-cvc-alok-verma-rakesh-asthana

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें