loader

सीबीआई की छापेमारी पूरी तरह गैर क़ानूनी: कार्ति चिदंबरम

कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने कहा है कि जांच एजेंसी सीबीआई की कार्रवाई से सांसद के रूप में मिले उन्हें विशेष अधिकारों और हकों का उल्लंघन हुआ है।

बता दें कि सीबीआई ने कुछ दिन पहले कार्ति चिदंबरम के चेन्नई, मुंबई, ओडिशा और दिल्ली स्थित घर और दफ्तरों पर छापेमारी की थी और इस दौरान उनके सहयोगियों के ठिकानों को भी खंगाला गया था। यह छापेमारी वीजा घोटाले में की गई थी। 

लोकसभा स्पीकर को पत्र 

चिदंबरम ने लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि सीबीआई की कथित छापेमारी के दौरान कुछ अफसरों ने उनके बेहद गोपनीय और संवेदनशील दस्तावेजों को अपने कब्जे में ले लिया। 

ताज़ा ख़बरें
उन्होंने कहा है कि यह दस्तावेज सूचना और प्रौद्योगिकी से जुड़ी स्थायी समिति के थे और वह इस समिति के सदस्य हैं। कार्ति चिदंबरम को सीबीआई ने शुक्रवार को लगातार दूसरी बार बुलाया था और उनसे वीजा घोटाले को लेकर लगातार 9 घंटे तक पूछताछ की थी। 

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने कहा है कि उनके ड्राफ्ट नोट्स और ऐसे सवाल लिखे हुए पेपर जिन्हें वह समिति के द्वारा बुलाए गए गवाहों से पूछना चाहते थे, उन्हें भी सीबीआई के अफसरों ने अपने कब्जे में ले लिया। 

कांग्रेस सांसद ने कहा है कि सीबीआई की कार्रवाई सांसद के तौर पर उन्हें मिले अधिकारों पर सीधा हमला है। उन्होंने लोकसभा स्पीकर से अपील की है कि वह इस मामले का तुरंत संज्ञान लें। 

कांग्रेस सांसद ने पत्र में कहा है कि उन्हें और उनके परिवार को जांच एजेंसियों द्वारा अभियान चलाकर लगातार निशाना बनाया जा रहा है और ऐसा करके हमारी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है।

वीजा घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने कार्ति चिदंबरम के ख़िलाफ़ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है।

क्या है वीजा घोटाला?

सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम के खिलाफ कथित तौर पर अवैध रिश्वत लेने के लिए एक नया मुकदमा दर्ज किया है। आरोप है कि कांग्रेस सांसद ने 2010 से 2014 के बीच कथित रूप से 50 लाख रुपये की रिश्वत ली थी। आरोप है कि यह रिश्वत उन्होंने पंजाब के तलवंडी साबो में चल रहे एक पावर प्रोजेक्ट में 250 से ज़्यादा चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने के एवज में ली थी। 

देश से और खबरें

यह पावर प्रोजेक्ट अपने पूरा होने के तय कार्यक्रम से काफी पीछे चल रहा था इसलिए किसी तरह के जुर्माने और पावर प्रोजेक्ट के काम में देरी से बचने के लिए तलवंडी साबो पावर लिमिटेड को कुछ और चीनी कर्मचारियों की जरूरत थी। लेकिन गृह मंत्रालय के नियम चीनी कर्मचारियों को वीजा दिलाने में आड़े आ रहे थे।

इसलिए कंपनी ने कार्ति चिदंबरम से संपर्क किया और वीजा नियमों को किनारे करते हुए 250 से ज्यादा चीनी कर्मचारियों को वीजा मिल गया। जिस महीने वीजा के लिए आवेदन किया गया, उसी महीने में गृह मंत्रालय ने इन कर्मचारियों के वीजा को स्वीकृति दे दी। 

आरोप है कि कंपनी की ओर से फर्जी बिलों के जरिये कार्ति चिदंबरम को मोटी रिश्वत दी गई। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें