loader

सिंघु, गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसानों ने मनाया जश्न, पंजाब में भी झूमे अन्नदाता

मोदी सरकार के द्वारा कृषि क़ानून वापस लिए जाने के एलान का किसानों ने जोरदार स्वागत किया है। किसानों ने सिंघु और ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर जोरदार जश्न मनाया और मिठाइयां बांटी। उन्होंने कहा कि सरकार को ये क़ानून पहले ही वापस ले लेने चाहिए थे। इस दौरान किसानों ने किसान एकता और किसान आंदोलन जिंदाबाद के नारे भी लगाए। 

सिंघु और ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर जलेबियां बांटी गई जबकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर किसानों ने डीजे की ऊंची आवाज़ में जश्न मनाया। 

पंजाब, उत्तराखंड और हरियाणा में भी कई जगहों पर किसानों ने एक-दूसरे को लड्डू खिलाकर जश्न मनाया और कहा कि लंबे संघर्ष के बाद उन्हें यह जीत हासिल हुई है। 

ताज़ा ख़बरें
हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा और किसान उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार एमएसपी के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे। 

बजाए गए गाने 

याद दिलाना होगा कि किसान आंदोलन शुरू होने के बाद पंजाब और हरियाणा में आंदोलन के समर्थन में कई गायकों ने गाने रिलीज किए थे। आज एक बार फिर इन गानों को बजाया गया और किसान जमकर झूमे। किसानों ने यह पैगाम भी दिया कि वे पूरी तरह एकजुट हैं। 

अमेरिका से लेकर कनाडा और न्यूजीलैंड से लेकर न्यूयार्क तक और कई देशों में ये पंजाबी गाने काफ़ी मशहूर हुए थे। इन गानों के ये वीडियो यू ट्यूब, फ़ेसबुक पर लाखों बार सुने और देखे गए। 

Celebration at Singhu Ghazipur border on agriculture laws repealed - Satya Hindi

किसानों ने बार-बार कहा था कि वे उनकी मांग माने बिना बॉर्डर्स से नहीं हिलेंगे। कई राज्यों के किसानों का समर्थन इस आंदोलन को मिलने और विपक्षी दलों के नेताओं के साथ आने के बाद दिल्ली की हुक़ूमत की मुश्किलें बढ़ गई थीं। 

देश से और ख़बरें
लेकिन मुंह सामने खड़े पांच राज्यों के चुनाव और इसमें संभावित राजनीतिक नुक़सान को देखते हुए बीजेपी और मोदी सरकार को ये फ़ैसला लेना पड़ा। इस दौरान विपक्ष और किसानों ने सरकार पर जबरदस्त दबाव बना दिया था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें