loader

अधिक कोरोना मामले वाले 10 राज्यों का दौरा करेंगी केंद्रीय टीमें

केंद्र सरकार उन 10 राज्यों में स्वास्थ्य विशेषज्ञों की टीम भेजेगी, जहाँ कोरोना संक्रमण के अधिक मामले सामने आ रहे हैं या कोरोना टीकाकरण की रफ़्तार धीमी है। 

केंद्र सरकार ने शनिवार को यह एलान किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय उत्तर प्रदेश, केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, मिज़ोरम, बिहार, झारखंड व पंजाब में टीमें भेजेगी। 

इनमें पंजाब और उत्तर प्रदेश ऐसे राज्य हैं, जहाँ अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। 

इन केंद्रीय टीमों के लोग राज्यों में पाँच दिन रहेंगे और राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग के लोगों के साथ मिल कर काम करेंगे। वे कोरोना जाँच व निगरानी की स्थिति का जायजा लेंगे और कोरोना दिशा निर्देशों का पालन लागू कराने की दिशा में काम करेंगे। 

इसके अलावा टीम के लोग जीनोम सीक्वेंसिंग का भी जायजा लेंगे और देखेंगे कि नमूने ठीक से लिए जा रहे हैं या नहीं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चिंता जताते हुए कहा है कि ओमिक्रॉन जिस तरह तेज़ी से फैल रहा है उसे देखते हुए कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों से नमूने लेकर उनका जीनोम सीक्वेंसिंग अनिवार्य कर दिया जाए। 

देश से और खबरें

हर शाम रिपोर्ट

केंद्रीय टीम हर राज्य में कोरोना टीकाकरण की प्रगति की जाँच करेगी, अस्पतालों में बेड और मेडिकल ऑक्सीजन की उपलब्धता और अस्पताल के बुनियादी ढाँचे की समीक्षा करेगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है, "राज्य स्तरीय केंद्रीय टीमें स्थिति का आकलन करेंगी, उपचारात्मक कार्रवाई का सुझाव देंगी और हर शाम 7 बजे तक सार्वजनिक स्वास्थ्य गतिविधियों पर एक रिपोर्ट सौंपेंगी।"

पाँच राज्य

जिन पाँच राज्यों में सबसे अधिक कोरोना संक्रमण के मामले पाए गए हैं, वे हैं, केरल (26,265), महाराष्ट्र (12,108), पश्चिम बंगाल (7,466), कर्नाटक (7,280) और तमिलनाडु (6,798)। 

लेकिन, जिन राज्यों में अपेक्षाकृत कम मामले सामने आए हैं। वे हैं, मिज़ोरम (1,498), बिहार (79) और झारखंड (273)। इन राज्यों में भी कोरोना टीमें इसलिए भेजी जाएंगी कि वहां कोरोना टीकाकरण की रफ़्तार धीमी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें