loader

डिजिटल न्यूज़ मीडिया नियमों के अनुपालन की जानकारी 15 दिनों में दें

केंद्र सरकार ने डिजिटल न्यूज़ मीडिया और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स से कहा है कि वे नए डिजिटल नियमों के अनुपालन की जानकारी 15 दिनों में दें। 

नए नियमों के तहत डिजिटल दुनिया की इन कंपनियों को आचार संहिता लागू करनी होगी और तीन स्तरों का शिकायत निवारण ढाँचा तैयार करना होगा। 

इस तीन स्तरीय शिकायत निवारण व्यवस्था में अनुपालन अधिकारियों यानी कंप्लायंस अफ़सरों की नियुक्ति, शिकायत समाधान, आपत्तिजनक सामग्री की निगरानी, अनुपालन रिपोर्ट और आपत्तिजनक सामग्री को हटाना  शामिल है।

ख़ास ख़बरें
बता दें कि इसके पहले इलेक्ट्रॉनिक्स और इंफॉर्मेशन टेक्नलॉजी मंत्रालय के नोटिस के एक दिन बाद आया है जिसमें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से नए नियमों के तहत जानकारी माँगी गई थी।

क्या हैं नए नियम?

नए नियमों के तहत डिजिटल न्यूज़ से जुड़ी कंपनियों को  नाम, निदेशक के नाम, पते, फोन नंबर, शिकायत निवारण अधिकारी की जानकारी सरकार को देनी होगी। 

सरकार का कहना है कि अभी तक सिर्फ 60 डिजिटल न्यूज़ प्लैटफॉर्म ने बताया है कि उन्होंने नए नियमों के तहत सेल्फ रेग्युलेशन संस्था बनाना शुरू कर दिया है। कुछ प्रकाशकों ने मंत्रालय को नए नियमों के तहत पंजीकरण कि लिए लिखा है।

centre asks Digital Media Platforms, OTT Platforms to give compliance report - Satya Hindi

तीन श्रेणियाँ

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म को तीन श्रेणियों में बाँटा है। पहली श्रेणी उन परंपरागत प्रकाशकों की है जो अपने अख़बार या टीवी के अलावा ऑनलाइन समाचार देते हैं। 

दूसरी श्रेणी ऐसे डिजिटल न्यूज प्रकाशकों की है जो सिर्फ ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल चलाते हैं।

तीसरी श्रेणी ओवर द टॉप यानी ओटीटी प्लेटफॉर्म की बनाई गई है जो डिजिटल माध्यम से मनोरंजन तथा दूसरी जानकारियाँ देते हैं।

सरकार को क्या चाहिए?

पहली श्रेणी के प्रकाशकों से डोनेम नाम, यूआरएल, भाषा, ऐप, सोशल मीडिया अकाउंट जैसी बुनियादी सूचनाएँ माँगी गई है। 

उन्हें इसके साथ ही टीवी चैनल की अनुमति, या अख़बार का आरएनआई पंजीकरण क्रमांक, कॉंटेक्ट सूचना, और शिकायत निवारण की व्यवस्था के बारे में भी जानकारी देनी है। 

दूसरी श्रेणी के कंपनियों से भी इसी तरह की जानकारियाँ माँगी गईं हैं, लेकिन इसमें कंपनी आइडेंटिफिकेशन नंबर और निदेशक मंडल की जानकारी भी पूछी गई है। लेकिन यह उनकी इच्छा पर है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें