loader

चीन- भारत वार्ता : चीनी सेना पैंगांग झील से पीछे हटने को राज़ी नहीं 

भारत और चीन की सेनाओं में कमांडर स्तर की बातचीत का क्या नतीजा निकला? क्या पीपल्स लिबरेशन आर्मी यानी चीनी सेना हाल फ़िलहाल कब्जा किए गए इलाक़ों को खाली करने पर राज़ी हो गयी है ताकि तनाव कम किया जा सके? क्या चीनी सेना इस पर राजी हो गयी है कि वह वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपने सैनिकों और साजो-सामान के जमावड़े को कम कर देगी ताकि दोनों पक्षों में भरोसा कायम किया जा सके?
मंगलवार को सेना की उत्तरी कमान के 16वीं कोर के कमांडर लेफ़्टीनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीनी सेना के शिनजियांग सैन्य ज़िले के कमांडर मेजर जनरल लिउ लिन के बीच बातचीत हुयी है। 5 जून, 22 जून के बाद यह तीसरे दौर की बातचीत थी, जो तक़रीबन 11 घंटे चली।

देश से और खबरें

क्या हुआ बातचीत में?

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक़, लद्दाख में चुशुल स्थित चीनी चौकी पर हुई बातचीत में इस पर मोटी सहमति बन गई है कि गलवान घाटी और गोगरा हॉट स्प्रिंग्स इलाक़े से दोनों सेनाएं वापस लौट सकती हैं।
चीनी सरकार के अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने भी एक ख़बर में कहा है कि दोनों सेनाएं सीमा से सैनिकों को वापस बुलाने पर राजी हो गई हैं ताकि तनाव कम किया जा सके। ग्लोबल टाइम्स की ख़बर में कहा गया है, 

'चीन और भारत सीमा पर अग्रिम पंक्ति के सैनिकों को वापस बुलाने पर राजी हो गए हैं। यह काम कई चरणों में किया जाएगा। यह इसलिए किया जाएगा कि सीमा पर तनाव कम किया जा सके।'


ग्लोबल टाइम्स, चीनी सरकार का अख़बार

क्या कहना है चीन का?

ग्लोबल टाइम्स में यह भी कहा गया है कि 'दोनों पक्षों को सीमा पर बातचीत की मौजूदा प्रक्रिया, पहले के समझौतों और ऐतिहासिक तथ्यों का सम्मान करना चाहिए और दोनों को एक-दूसरे की मुख्य चिंताओं का ख्याल रखना चाहिए।' 
इसी दिन राजधानी बीजिंग में रोज़ाना की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि 'दोनों देशों ने बातचीत में काफी प्रगति की है।' उन्होंने यह भी कहा कि 'दोनों देश सीमा पर तैनात सैनिकों को वापस बुलाने पर राजी हो गए हैं।' 

चीन का संकेत?

दिलचस्प बात यह है कि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गलवान घाटी का नाम नहीं लिया। चीनी सरकार के अख़बार ने भी गलवान घाटी का नाम नहीं लिया।
लेकिन ग्लोबल टाइम्स की ख़बर में यह ज़रूर कहा गया है कि 'गलवान घाटी सेक्टर बहुत ही संकरा है, वहाँ इतने अधिक सैनिकों की मौजूदगी से इसका संकेत मिलता है कि तनाव बढ़ा हुआ है।' इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि 'तनाव कम करने के लिए अग्रिम पंक्ति के सैनिकों को वापस बुलाने पर सहमति बन गई है।'
इसी लेख में इस बात का उल्लेख है कि 

'यह इलाक़ा 5,000 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है जहाँ सितंबर में किसी मनुष्य का रहना नामुमकिन है। इस स्थिति में कमांडरों का मानना है कि जितनी जल्दी हो सके, मामले को सुलटा लेना चाहिये।'


ग्लोबल टाइम्स, चीनी सरकार का अख़बार

उधर, इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर काफी दिलचस्प है। उसका कहना है कि चीन पैंगोंग झील के किनारे के इलाके और डेप्सांग पर कोई बात करने को तैयार नहीं है। उसका कहना है कि चीन का दावा है ये उसके इलाक़े हैं और वहां से पीछे हटने का कोई सवाल ही नहीं है।

ऐसे में यही तसवीर उभरती है कि चीन गलवान घाटी से सैनिकों को वापस बुलाने पर राजी है, पर वह पैंगोंग झील और डेप्सांग खाली नहीं करने पर अड़ा हुआ है। यानी पिक्चर अभी बाकी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रमोद मल्लिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें