loader

चीन की शर्त: भारत के पैंगोंग त्सो खाली करने के बाद ही होगी बातचीत 

भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा के आर-पार लगभग एक लाख सैनिक तैनात हैं, दोनों सेनाएं मुस्तैद हैं और तनाव पहले की तरह ही बरक़रार है। इसके बावजूद भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच सात दौर की बातचीत नाकाम हो चुकी है।
इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, अब चीन यह कह रहा है कि पहले की स्थिति फिर से बहाल करने पर बातचीत शुरू करने के लिए यह ज़रूरी है कि पहले भारत पैंगोंग त्सो का दक्षिणी इलाक़ा खाली करे। भारत अब तक यह कहता रहा है कि अप्रैल में एलएसी की जो स्थिति थी, वह बहाल की जाए, यानी दोनों देशों की सेनाएं अपने-अपने सैनिकों को वहां तक वापस बुला लें जहां तक अप्रैल में उनकी मौजूदगी थी।
ख़ास ख़बरें

जिच बरक़रार

दरअसल दोनों देशों के बीच बातचीत इसी मुद्दे पर हो रही है। शुरू के कुछ दौर की बातचीत के बाद दोनों देशों में गलवान घाटी से सैनिकों को वापस बुलाने पर सहमति बनी थी। इसके बाद जितनी बार बातचीत हुई है, भारत ने हमेशा यही कहा है कि एलएसी पर मौजूदा संकट शुरू होने के पहले की स्थिति बहाल की जाए। चीन हर बार अपने सैनिकों को मौजूदा स्थिति से पीछे ले जाने से इनकार कर रहा है।
इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि भारतीय सेना ने चीनी सेना को रोकने के लिए 7 जगहों पर वास्तविक नियंत्रण को पार कर चीनी इलाक़े पर कब्जा कर लिया है। इससे भारतीय सेना को चीन के मुक़ाबले बढ़त मिली है और स्थिति मजबूत हो गई है। 
भारत ने पैंगोंग त्सो के दक्षिणी इलाक़ों की जिन चोटियों पर कब्जा कर लिया है, वहाँ से वह स्पंगर गैप तक नज़र रख सकता है। अब भारतीय सेना की नज़र की जद में मोल्डो भी आ गया है, यह वह जगह है जहां चीनी सेना की उस इलाक़े की बड़ी और मजबूत चौकी है।

चीन की शर्त

अख़बार ने सूत्रों के हवाले से कहा है, 'अंतिम बातचीत में चीन ने कहा है कि पहले भारत पैगोंग त्सो का दक्षिणी इलाक़ा खाली करे, उसके बाद स्थिति सामान्य करने की अगली बातचीत होगी। भारत ने ज़ोर दिया है कि पैंगोंग त्सो के दक्षिणी और उत्तरी इलाक़े एक साथ ही खाली किए जाएं, यानी दोनों सेनाएं एक साथ अपने सैनिक वापस बुलाएं।' भारतीय सेना का आकलन है कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच बातचीत में गतिरोध बने रहने की असली वजह यही है।
लेकिन राजनीतिक स्तर पर दोनों देशों के बीच अधिक गहरे मतभेद हैं। रूस की राजधानी मास्को में दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों के बीच हुई बातचीत में यह तय हुआ था कि वे सीमा पर शांति बहाल करेंगे और ऐसा कोई काम नहीं करेंगे, जिससे दूसरे को किसी तरह का उकसावा मिले। इसके बाद दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच हुई बातचीत में भी यही बात दुहराई गई। 

सेनाएं आमने-सामने

लेकिन ज़मीनी स्तर पर यह नहीं दिखा। चीन ने अपनी सेना पीछे नहीं हटाई और इस कारण भारतीय सेना भी अपनी जगह जमी हुई है। ठंड का मौसम शुरू हो चुका है और लद्दाख में 18 से 20 हज़ार फीट की ऊंचाई पर जाड़े में हज़ारों सैनिकों को टिकाए रखना बेहद चुनौती भरा काम है। यह दिक्कत दोनों देशों की सेनाओं को समान रूप से है। इसके बाद वे सैनिकों को वापस बुलाने पर सहमत नहीं हो पा रहे हैं।
दोनों देशों के बीच राजनीतिक नेतृत्व के स्तर पर अविश्वास चरम पर है और कटुता पहले से बढ़ती जा रही है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने इस पर चिंता चताते हुए कहा है कि 'चीन का रवैया पहले से एकदम बदला हुआ है' और इसके 'दूरगामी राजनीतिक नतीजे' होंगे। उन्होंने कहा कि गलवान घाटी में हुई हिंसा और उसमें भारतीय सैनिकों की शहादत से द्विपक्षीय संबंधे बुरी तरह प्रभावित हुए।

ऑस्ट्रेलिया की दिलचस्पी

जयशंकर की एक किताब बीते दिनों प्रकाशित हुई, जिसका नाम है  'द इंडिया वे : स्ट्रैटेजीज़ फ़ॉर एन अनसर्टेन वर्ल्ड।' इस पर हुई एक चर्चा में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व प्रधानमंत्री केविन रड भी मौजूद थे।
भारतीय विदेश मंत्री ने इस पुस्तक परिचर्चा में कहा कि वे आज तक नहीं समझ पाए हैं कि आखिरकार चीन को इतनी बड़ी संख्या में इस जगह सैनिकों को तैनात करने की ज़रूरत ही क्यों है। यह भारत की सुरक्षा के लिए चुनौती है।
यह बेहद अहम है कि केविन रड ने इस मुद्दे पर चीन की आलोचना की और भारत के रुख का समर्थन किया। रड ने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा से लेकर दक्षिण चीन सागर और ऑस्ट्रेलिया के साथ रिश्ते तक में चीन के व्यवहार में एक तरह का आक्रमक रवैया साफ झलकता है।
केविन रड और उनकी पार्टी आज सत्ता में नहीं है, लेकिन उनकी बातों से यह साफ है कि ऑस्ट्रेलिया का बड़ा तबका इस मुद्दे पर भारत से सहानुभूति रखता है।
इस परिचर्चा से एक और बात साफ हुई है कि चीन के साथ मतभेद सिर्फ सैन्य मामलों में नहीं है, राजनीतिक व आर्थिक मुद्दे भी हैं। भारतीय विदेश मंत्री ने इस ओर भी लोगों का ध्यान दिलाया और कहा कि आर्थिक मुद्दों पर भी चीन भारत के प्रति संवेदनशील नहीं है और उसके उत्पादों पर अधिक कर लगाता है। इसी तरह बीजिंग भारत की राजनीतिक संवेदनाओं के प्रति भी उदासीन है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें