loader

एबीवीपी की शिकायत पर ईसाई नन को ट्रेन से उतारा गया

बीजेपी और आरएसएस से जुड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद यानी एबीवीपी के सदस्यों ने चलती ट्रेन से चार ईसाई महिलाओं को ज़बरन उतरवा दिया। उन पर धर्म परिवर्तन कराने का आरोप लगाया गया। केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने इस पर गहरी आपत्ति जताते हुए गृह मंत्री अमित शाह को कड़ी चिट्ठी लिखी है। केरल में चुनाव प्रचार कर रहे गृह मंत्री ने कहा है कि दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

यह वारदात 19 मार्च की है जब एबीवीपी के लोगों ने रेलवे पुलिस से शिकायत की कि हरिद्वार से पुरी जा रही उत्कल एक्सप्रेस में कुछ ईसाई महिलाएं ट्रेन में धर्म परिवर्तन करवा रही हैं।

ख़ास ख़बरें

क्या है मामला?

उनकी इस शिकायत पर चार ईसाई महिलाओं को ट्रेन से उतार लिया गया। इनमें से दो नन थीं और उस लिबास में थी, जबकि दो युवतियाँ सादे लिबास में थीं और नन का प्रशिक्षण ले रही थीं। 

christian nuns deboarded on ABVP conversion charge, amit shah promises action - Satya Hindi

बाद में जब यह साबित हो गया कि वे धर्म परिवर्तन नहीं करा रही थीं तो उन्हें आगे की यात्रा करने की अनुमित दी गई। 

रेलवे पुलिस के डिप्टी पुलिस सुपरिटेंडेंट नईम खान मंसूरी ने इस घटना की पुष्टि करते हुए एनडीटीवी से कहा, "अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कुछ सदस्य ऋषिकेश से ट्रेनिंग कैम्प से वापस आ रहे थे। उसी ट्रेन में हज़रत निज़ामुद्दीन से राउरकेला के लिए चार क्रिश्चिन लेडीज यात्रा कर रही थीं, जिनमें दो नन्स थीं और दो लेडीज अंडर ट्रेनिंग थीं, जो दिल्ली में ट्रेनिंग कर रही थीं।" उन्होंने इसके आगे कहा,

"विद्यार्थी परिषद के सदस्यों को ऐसा शक हुआ कि शायद ये दो नन्स जो हैं वे दो अन्य लेडीज को धर्म परिवर्तन के लिए ले जा रही हैं क्योंकि वे आपस में बात कर रही थीं।"


नईम खान मंसूरी, डिप्टी पुलिस सुपरिटेंडेंट, रेलवे पुलिस

तीखी प्रतिक्रिया

उन्होंने इसके आगे से कहा, "इस शक पर एबीवीपी के लोगों ने आरपीएफ कंट्रोल रूम को सूचना दी। आरपीएफ़ ने जीआरपी से कहा। एबीवीपी के अजय शंकर तिवारी ने इसकी लिखित तहरीर दी। हम लोग मौके पर पहुँचे तो पता चला कि नन्स के साथ सादे लिबास वाली लड़कियाँ भी जन्म से ईसाई हैं और वे नन बनने की ट्रेनिंग ले रही थीं। बाद में उन्हें जाने दिया गया।" 

इस वारदात पर तीखी प्रतिक्रिया हुई है। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने गृह मंत्री को एक कड़ी चिट्ठी लिखी है। उन्होंने उस चिट्ठी में लिखा है,

"ऐसी घटनाएँ देश और उसकी धार्मिक सहिष्णुता की छवि दाग़दार करती हैं। केंद्र सरकार को ऐसी घटनाओं की कड़ी निंदा करनी चाहिए।


पिनराई विजयन, मुख्यमंत्री, केरल

उन्होंने इस मामले में तुरन्त हस्तक्षेप करने की माँग करते हुए गृह मंत्री से कहा, "इसमें शामिल उन सभी लोगों और संगठनों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करें जो संविधान से मिली नागरिक स्वतंत्रता को छीनने की कोशिश कर रहे हैं।"

केरल में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और उसका प्रचार काम ज़ोरों से चल रहा है। अमित शाह केरल ही में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। समझा जाता है कि इस वारदात से होने वाले राजनीतिक नुक़सान से बचने के लिए उन्होंने चुनाव जनसभा के मंच से ऐलान किया कि दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

लेकिन सवाल तो यह उठता है कि क्या आरपीएफ या जीआरपी अब सत्तारूढ़ दल के कार्यकर्ताओं के नियंत्रण में है, क्या वह उनके आदेश पर काम करती है। सवाल यह है कि एबीवीपी के कहने पर उन ईसाई महिलाओं को ट्रेन से उतारा ही क्यों गया। सवाल यह भी है कि चलती ट्रेन में भला कोई किसी का धर्म परिवर्तन कैसे करा सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें