loader

कांग्रेस प्रदर्शनः चिदंबरम की बाईं पसली में फ्रैक्चर, कई और सीनियर नेता भी घायल

दिल्ली में सोमवार को प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के दो सीनियर नेता पी. चिदंबर और प्रमोद तिवारी घायल हो गए। कांग्रेस का आरोप है कि दिल्ली पुलिस ने इन दोनों नेताओं के साथ धक्कामुक्की की। कांग्रेस पार्टी ने सोमवार शाम को जारी बयान में कहा कि वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम को दिल्ली में प्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा धक्का दिए जाने के बाद उनकी बाईं पसली में फ्रैक्चर हो गया।
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि पार्टी नेता केसी वेणुगोपाल पर घातक हमला किया गया, जबकि पी चिदंबरम को पुलिस ने मारा। उनका चश्मा जमीन पर फेंक दिया गया।

ताजा ख़बरें
ट्विटर पर पोस्ट किए गए वीडियो में सुरजेवाला ने कहा, मोदी सरकार ने बर्बरता की सारी हदें पार कर दी हैं। पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम को पुलिस ने मारा, उनका चश्मा जमीन पर फेंका गया. उनकी बायीं पसली में हेयरलाइन फ्रैक्चर है। सांसद प्रमोद तिवारी को सड़क पर फेंका गया, उनके सिर में चोट और पसली में फ्रैक्चर है। क्या यही लोकतंत्र है?

उन्होंने कहा, पूरा दिन बीत गया, लेकिन हमला जारी है। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल पर जानलेवा हमला और सांसद शक्ति सिंह गोहिल पर भी हमला हुआ। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पीटा गया। हजारों जेल में हैं। लोकतंत्र को कुचला गया है। देश मोदी सरकार को माफ नहीं करेगा।

भीषण गर्मी में चलते हुए और राहुल गांधी के साथ एकजुटता के नारे लगाते हुए, कांग्रेस सदस्यों ने पुलिस प्रतिबंधों का उल्लंघन किया क्योंकि वे अपनी पार्टी के नेता के साथ ईडी दफ्तर तक जाना चाहते थे।

कई कार्यकर्ताओं को सुबह उस समय हिरासत में ले लिया गया जब वे विपक्षी दल द्वारा बुलाए गए 'सत्याग्रह मार्च' में शामिल होने जा रहे थे, लेकिन कई अन्य कार्यकर्ता सुबह 9 बजे तक राष्ट्रीय और पार्टी के झंडे लिए पार्टी मुख्यालय में जमा हो गए।

हिरासत में लिए गए लोगों में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वेणुगोपाल और लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी। चौधरी ने ईडी कार्यालय के रास्ते में पुलिसकर्मियों पर मारपीट का आरोप लगाया।

देश से और खबरें
प्रदर्शनकारियों ने तख्तियां लहराईं जिनमें लिखा था: 'सत्यमेव जयते' (सत्य की जीत) और 'डरेंगे नहीं, झुकेंगे नहीं, किसी भी तरह सच्चाई के लिए लड़ेंगे।

सुरजेवाला ने मोदी सरकार की तुलना ब्रिटिश साम्राज्यवादियों से की है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें