loader

अर्थव्यवस्था को लेकर चिदंबरम ने मोदी सरकार पर बोला जोरदार हमला

आईएनएक्स मीडिया केस में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों में 106 दिन तक तिहाड़ जेल में बंद रहे पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने बाहर आते ही देश की अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोला है। चिदंबरम ने बृहस्पतिवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दफ़्तर में आयोजित प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा कि मोदी सरकार एक के बाद एक सार्वजनिक उपक्रम बेच रही है और अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर नाकाम रही है। 

चिदंबरम ने कहा, 'सरकार ग़लतियां कर रही है। यह ग़लत है। मैं इसे दुहराता हूँ कि सरकार ग़लत है क्योंकि उन्हें कुछ पता नहीं है।' उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को मंदी से बाहर लाया जा सकता है लेकिन यह सरकार ऐसा करने में असमर्थ रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आमतौर पर अर्थव्यवस्था के मामले में चुप रहते हैं और इसे उन्होंने अपने मंत्रियों पर छोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि हम कभी भी बदले की राजनीति से काम नहीं करेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

चिदंबरम ने कहा, ‘अगर हम साल के अंत में 5 फ़ीसदी की विकास दर हासिल कर लेंगे तो हम भाग्यशाली होंगे। याद कीजिए कि डॉ. अरविंद सुब्रमण्यन ने चेताया था इस सरकार में विकास दर 5 प्रतिशत रहेगी। वास्तव में यह 5 प्रतिशत नहीं है बल्कि 1.5 प्रतिशत से कम है।’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि नेताओं को आरोपों के बिना ही हिरासत में लिया जा रहा है। 

प्याज की बढ़ती क़ीमतों को लेकर भी चिदंबरम ने केंद्र सरकार पर हमला बोला। चिदंबरम ने कहा कि देश में प्याज की क़ीमतें 100 रुपये से ज़्यादा हैं लेकिन वित्त मंत्री को इसकी कोई परवाह नहीं है और वह कहती हैं कि वह प्याज नहीं खातीं।
हैदराबाद रेप पीड़िता की हत्या के मामले को लेकर चिदंबरम ने कहा, ‘मैं शर्मिंदा हूँ, स्तब्ध हूँ। कल मैंने एक अख़बार पढ़ा उसमें बलात्कार की 6 घटनाएँ थीं। पूरे देश में क़ानून-व्यवस्था फ़ेल हो चुकी है। पुलिस क्या कर रही है।’ इस दौरान चिदंबरम भावुक भी हो गए।  

‘क्या वित्त मंत्री एवोकाडो खाती हैं’

इससे पहले संसद परिसर के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के इस बयान पर कि वह ज़्यादा लहसुन-प्याज नहीं खाती हैं, इस पर चिदंबरम ने कहा, ‘वित्त मंत्री ने कहा है कि वह प्याज नहीं खाती हैं, तो वह क्या खाती हैं। क्या वह एवोकाडो खाती हैं।’ एवोकाडो एक फल है और इसे सेहत के लिए काफ़ी बेहतर माना जाता है। चिदंबरम ने कहा कि वह बाहर आकर बेहद ख़ुश हैं और सरकार सदन में उनकी आवाज़ को नहीं दबा पाएगी। 

देश से और ख़बरें
बुधवार सुबह ही चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दी थी। शाम को चिदंबरम को लेने के लिए जेल के बाहर उनके बेटे कार्ति चिदंबरम सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता व समर्थक पहुंचे थे। कार्यकर्ताओं ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता का जोरदार स्वागत किया था। चिदंबरम ने आईएनएक्स मीडिया केस में दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा उन्हें जमानत देने से इनकार करने के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के फ़ैसले को रद्द कर उन्हें जमानत दे दी थी। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईएनक्स मीडिया मामले में मनी लांड्रिंग के आरोप में चिदंबरम को गिरफ़्तार किया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें