loader

मोदी-शाह के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका

राकेश अस्थाना को दिल्ली का पुलिस कमिश्नर नियुक्त किए जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में अवमानना की याचिका दायर की गई है। 

मोहन लाल शर्मा नामक वकील ने सर्वोच्च न्यायालय में दायर याचिका में कहा है कि दिल्ली का पुलिस कमिश्नर नियुक्त करने में जानबूझ कर सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का उल्लंघन किया गया है। 

याचिका में कहा गया है कि राकेश अस्थाना की नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश का  उल्लंघन है, जिसमें कहा गया है कि सभी रिक्तियों के बारे में पहले संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) को सूचित किया जाना चाहिए।  इसमें यह भी कहा गया है कि छह महीने से कम नौकरी के दिन बचे होने की स्थिति में किसी भी अधिकारी को डीजीपी नहीं बनाया जाना चाहिए।

ख़ास ख़बरें

जनहित याचिका में दावा किया गया है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का उल्लंघन करने की वजह से मोदी और अमित शाह पद पर बने रहने का संवैधानिक अधिकार खो चुके हैं।

याचिकाकर्ता ने माँग की है कि इस मामले की जाँच कम से कम पाँच जजों वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच को सौंपा जाना चाहिए वरना संवैधानिक संकट पैदा हो सकता है और लोगों का देश में भरोसा ख़त्म हो सकता है।

contempt of court petition against narendra modi, amit shah - Satya Hindi
राकेश अस्थाना, पुलिस कमिश्नर, दिल्ली

कौन हैं राकेश अस्थाना?

बता दें कि इस नियुक्ति के ठीक पहले राकेश अस्थाना बीएसएफ़ के महानिदेशक पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। वे 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अफ़सर हैं।

तीन दिन बाद वह सेवानिवृत्त होने वाले थे, लेकिन उससे पहले ही उन्हें यह अहम जिम्मेदारी दी गई है। 

अस्थाना सीबीआई प्रमुख की दौड़ में भी थे लेकिन उनकी जगह सुबोध जायसवाल इस पद पर चुने गए थे। 

आलोक वर्मा से था झगड़ा 

केंद्र सरकार ने राकेश अस्थाना को 2019 में सीबीआई के विशेष निदेशक पद से हटा दिया था। यहाँ उनका तत्कालीन निदेशक आलोक वर्मा से झगड़ा चल रहा था लेकिन केंद्र सरकार ने वर्मा को भी पद से हटा दिया था। 

राकेश अस्थाना के बारे में कहा जाता है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नज़दीकी हैं और इसीलिए उन्हें सीबीआई में लाया गया था। विशेष निदेशक रहते हुए वह सीबीआई में तमाम बड़े और नीतिगत निर्णय लिया करते थे।लेकिन बाद में आलोक वर्मा की उनसे अनबन शुरू हो गई थी। 

दोनों ने एक-दूसरे के ख़िलाफ़ शिकायत की थी और मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया था। इसके बाद दोनों को ही पद से हटा दिया गया था। इस मामले से तब मोदी सरकार की ख़ासी किरकिरी हुई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें