loader
कॉर्बेट नेशनल पार्क, उत्तराखंड

किसे खुश करने के लिए कॉर्बेट पार्क में 6000 पेड़ काटे

उत्तराखंड सरकार ने कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में 6,000 से अधिक पेड़ों को अवैध रूप से काट दिया। इंडियन फॉरेस्ट सर्वे (आईएफएस) रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि 163 की अनुमति के खिलाफ पखरो टाइगर सफारी परियोजना के लिए ये पेड़ काटे गए। न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक उत्तराखंड के पूर्व वन मंत्री हरक सिंह रावत ने दिसंबर 2020 में पखरो टाइगर सफारी की आधारशिला रखी थी। रावत ने कहा था कि 2019 में कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के अपने दौरे के दौरान डिस्कवरी चैनल के मैन वर्सेज वाइल्ड शो की शूटिंग के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्षेत्र में एक सफारी विकसित करने की बात कही थी ताकि पर्यटक बाघों के देखे जाने की पुष्टि कर सकें।

ताजा ख़बरें
द हिंदू की रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली के एक पर्यावरण कार्यकर्ता और वकील गौरव कुमार बंसल ने परियोजना क्षेत्रों में और उसके आसपास हजारों पेड़ों को अवैध रूप से काटे जाने के मामले को उठाया है। राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण को दी गई शिकायत में बंसल ने आरोप लगाया था कि संरक्षित क्षेत्र में काफी पेड़ काटे गए हैं।

इसके बाद राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण और केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने उत्तराखंड वन विभाग को काटे गए पेड़ों की संख्या की जानकारी देने को कहा। अधिकारियों ने वन सर्वेक्षण संस्थान को अवैध कटाई के लिए एक सर्वे करने का भी निर्देश दिया। इंडियन फॉरेस्ट सर्वे एक केंद्रीय संगठन है जो पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय में आता है।
81 पेज की अपनी सर्वे रिपोर्ट में, भारतीय वन सर्वेक्षण ने पाया कि कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में लगभग 6,093 पेड़ अवैध रूप से काटे गए हैं। नौ महीने में तैयार की गई रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि परियोजना के लिए उत्तराखंड वन विभाग के अधिकारियों द्वारा लगभग 16.21 हेक्टेयर भूमि को मंजूरी दे दी गई है।
उत्तराखंड वन विभाग ने अभी तक रिपोर्ट के नतीजों को स्वीकार नहीं किया है। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधान मुख्य वन संरक्षक और वन बल के प्रमुख विनोद सिंघल ने कहा कि विभाग ने भारतीय वन सर्वेक्षण रिपोर्ट के संबंध में कुछ विस्तृत अवलोकन किए हैं और इसे संगठन को भेज दिया है।

सिंघल ने एचटी को बताया कि हम जानना चाहते हैं कि उन्होंने किस टाइमलाइन और किस सैटेलाइट इमेज का इस्तेमाल किया है, वे 6,093 के इस आंकड़े तक कैसे पहुंचे हैं, उन्होंने डेटा और इस तरह के मुद्दों की व्याख्या करने के लिए किस तरीके का इस्तेमाल किया है।

एक अधिकारी ने हिन्दुस्तान टाइम्स से कहा कि हमारे रिकॉर्ड के अनुसार, 163 पेड़ों को काटने की अनुमति थी। लेकिन बाद में हमने पाया कि क्षेत्र में 97 और पेड़ काटे गए थे। अब हम यह समझना चाहते हैं कि एफएसआई इस 6,093 के आंकड़े तक कैसे पहुंचा?
एफएसआई के अलावा, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण और पर्यावरण और वन मंत्रालय ने भी परियोजना के कार्यान्वयन में अनियमितताओं का आरोप लगाया है।

पिछले महीने, केंद्रीय अधिकार प्राप्त समिति ने उत्तराखंड सरकार से कॉर्बेट टाइगर रिजर्व और कालागढ़ वन प्रभाग में पेड़ों की अवैध कटाई और निर्माण गतिविधियों की जांच कर रही विभिन्न जांच समितियों के निष्कर्षों पर अपने विचार प्रस्तुत करने को कहा था। परियोजना में पहले से ही अनियमितताओं की जांच कर रही कुछ जांच समितियों में राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण, केंद्रीय अधिकार प्राप्त समिति के एकीकृत क्षेत्रीय कार्यालय और वन और पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा गठित समितियां शामिल हैं। 

पैनल ने उत्तराखंड सरकार से यह भी निर्दिष्ट करने के लिए कहा था कि पखरो रेंज में टाइगर सफारी के लिए वन भूमि को क्यों डायवर्ट किया गया, जबकि यह साइट-विशिष्ट गतिविधि नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें