loader

कोरोना प्रभावित लोगों में 50 साल से छोटे ज़्यादा : आईडीएसपी

कोरोना के बढते संक्रमण के बीच यह तथ्य सामने आया है कि इससे प्रभावित वालों में वे लोग ज़्यादा हैं, जिन्हें पहले से कोई दूसरा रोग है। इसके अलावा इसके रोगियों में 50 साल से कम उम्र के लोगों की संख्या अधिक है। 
कोरोना संक्रमण पूरे देश में फैलने के कारणों पर शोध कर रही संस्था इंटीग्रेटेड डिजीज़ सर्विलान्स प्रोग्राम (आईडीएसपी) का यह कहना है। 
देश से और खबरें
यह डाटा कोरोना जाँच में पॉज़िटिव पाए जाने वाले लगभग एक लाख लोगों के मामलों के अध्ययन का है। कोरोना के अब तक 6.50 लाख से ज़्यादा मामले सामने आ चुके हैं।

मधुमेह-हाइपरटेन्शन की भूमिका

अध्ययन में यह भी पाया गया है कि कोरोना से होने वाली मौतों में पहले से मौजूद दूसरे रोग अधिक घातक साबित होते हैं और उनके होने से मौत का ख़तरा बढ़ जाता है। यह भी पाया गया है कि इस तरह की मौतों में मधुमेह और हाइपरटेन्शन की भूमिका सीमित है। 
आईडीएसपी का कहना है कि उसके पास जो डाटा है, उसके अनुसार 16,155 मामलों में से सिर्फ 8 प्रतिशत लोगों को मधुमेह और 9 प्रतिशत लोगों को हाइपरटेन्सन था। इसके पहले की रिपोर्ट में यह कहा गया था कि कोरोना रोगियों में 29 प्रतिशत को हाइपरटेन्सन और 11 प्रतिशत को मधुमेह है। इसके अलावा कोरोना के साथ 30 प्रतिशत दूसरे रोग पाए गए थे। 

दूसरे रोगों की भूमिका?

विशेषज्ञों का कहना है कि पॉजिटिव पाए गए लोगों में कई तरह के दूसरे रोग भी थे। कोरोना होने में इन रोगों की क्या भूमिका है, यह अभी तय नहीं हो सका है और इसके बारे में निश्चित तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है। नेशनल सेंटर फ़ॉर डिजीज़ कंट्रोल के निदेशक सुजीत कुमार सिंह ने 'द हिन्दू' से कहा, 

'कोरोना प्रभावित लोगों में पाए जाने वाले रोगों में प्रमुख हैं कैंसर, बाईपास, हेपेटाइटिस और किडनी से जुड़े रोग।'


सुजीत कुमार सिंह, निदेशक, नेशनल सेंटर फ़ॉर डिजीज़ कंट्रोल

वे इसके आगे कहते हैं, 'हमारे पास पर्याप्त मामले हैं जिनके आधार पर हम और अधिक गंभीर अध्ययन कर सकते हैं और इस महामारी के बारे में निष्कर्ष निकाल सकते हैं। अब हमें इसके लिए किसी विदेशी शोध पर निर्भर होने की ज़रूरत नहीं है।'

यह भी देखा गया है कि अस्पतालों में दाखिल 19,813 रोगियों के अध्ययन से पता चला है कि कोरोना रोगियों में सिर्फ 26 प्रतिशत लोगों में बुखार आम रोग था, 19 प्रतिशत लोगों को खाँसी थी। 

इसके अलावा 21 प्रतिशत लोगों में दूसरे रोग थे, यानी उनमें 19 प्रतिशत लोगों में डायरिया, सिरदर्द, उल्टी वगैरह देखे गए।

आईडीएसपी ने यह भी कहा है कि वायरस अलग-अलग जगहों पर और अलग-अलग लोगों को अलग-अलग ढंग से प्रभावित करता है। जुलाई महीने तक पाया गया था कि सार्स-कोव 2 की कम से कम 6 प्रजातियाँ भारत में हैं। 
इसके अलावा 83 हज़ार कोरोना रोगियों की भौगोलिक स्थितियों का भी अध्ययन किया गया। यह पाया गया कि इनमें से 37 प्रतिशत महानगर में रहने वाले थे जबकि 13 प्रतिशत लोग गाँव के थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें