loader

कोरोना: 533 ज़िलों में ख़तरनाक स्तर 10% से ज़्यादा है पॉजिटिविटी रेट

पिछले दो दिनों में भले ही कोरोना संक्रमण के मामले 4 लाख से कम आए हैं, लेकिन हालात बेहतर नहीं हैं। यदि देश के 734 ज़िलों में से 533 ज़िलों में संक्रमण ख़तरनाक स्तर की तेज़ी से फैल रहा हो तो हालात बेहद गंभीर ही होंगे। देश के 533 ज़िलों में पॉजिटिविटी रेट 10 से ज़्यादा है। 5 प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट से ज़्यादा होने पर स्थिति बेहद ख़राब माना जाती है। केंद्र सरकार की ही रिपोर्ट कहती है कि देश के 90 फ़ीसदी हिस्से में उच्च पॉजिटिविटी रेट है।

पॉजिटिविटी रेट से मतलब है कि जितने लोगों के सैंपल लिए गए उनमें से कितने लोग संक्रमित पाए गए। मिसाल के तौर पर 10 फ़ीसदी पॉजिटिविटी रेट का मतलब है कि 100 लोगों के सैंपल लिए गए तो उसमें से 10 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव की आई। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता लव अग्रवाल ने एक दिन पहले ही मंगलवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश और नागालैंड जैसे नए राज्यों में पॉजिटिविटी रेट ज़्यादा देखी जा रही है। 

ताज़ा ख़बरें

पाँच राज्यों में 30 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी के मामले आ रहे हैं। केंद्र ने मंगलवार को कहा कि मध्य प्रदेश में 45 जिले, उत्तर प्रदेश में 38, महाराष्ट्र में 36, तमिलनाडु में 34, और बिहार में 33 ज़िलों में 10 प्रतिशत से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट है। 

आठ राज्यों में 20 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी रेट है- कर्नाटक में 28, राजस्थान में 28, ओडिशा में 27, छत्तीसगढ़ में 24, गुजरात में 23, हरियाणा में 22, पश्चिम बंगाल में 22, और असम में 20 ज़िले। अन्य आठ राज्यों में 10 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी रेट है- झारखंड में 18, पंजाब में 18, केरल में 14, अरुणाचल प्रदेश में 13, आंध्र प्रदेश में 12, हिमाचल प्रदेश में 12, उत्तराखंड में 12 और दिल्ली में 11 ज़िले।

पॉजिटिविटी रेट से अलग भी देखें तो हालात बेहद ख़राब दिखते हैं। 13 राज्यों में 1-1 लाख से ज़्यादा सक्रिए मामले हैं। 6 राज्यों में 50 हज़ार से 1 लाख के बीच सक्रिए मामले हैं। 17 राज्यों में 50 हज़ार से कम सक्रिए केस हैं। देश में कुल सक्रिए मामले क़रीब 37 लाख हैं। सक्रिए मामलों की संख्या इतनी इसलिए बढ़ गई है कि हाल के दिनों में हर रोज़ 4 लाख से ज़्यादा केस आ रहे थे। हालाँकि पिछले दो दिनों में कम संक्रमण के मामले आए हैं। 24 घंटों में संक्रमण के 3,48,421 मामले सामने आए हैं। जबकि बीते दिन यह आँकड़ा 3,29,942 था।

इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर ने ग्रामीण भारत पर विशेष ध्यान देने के साथ परीक्षण के लिए मानदंडों को संशोधित किया है। इसका कहना है कि आरटी-पीसीआर परीक्षणों पर ध्यान केंद्रित नहीं होना चाहिए, बल्कि रैपिड एंटीजन टेस्ट पर होना चाहिए।

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा, 'दूसरे आरटी-पीसीआर परीक्षण करने की ज़रूरत नहीं है और हम अब आरटी-पीसीआर के 70-30 के अनुपात से अधिक रैपिड एंटीजेन टेस्ट की दिशा में चल रहे हैं।'

डॉ. भार्गव ने कहा, 'अब चूँकि लहर तेज़ है, हमने राज्यों से अनुरोध किया है कि हमें रैपिड एंटीजन टेस्ट करने हैं। यह तेज़ी से परीक्षण, तेज़ी से आईसोलेशन और ट्रांसमिशन की शृंखला को तेज़ी से तोड़ने में मदद करेगा।'

देश से और ख़बरें

बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के हालात से निपटने के लिए इंग्लैंड का मॉडल अपनाया गया है। यह दो स्तरीय है। एक, लॉकडाउन जैसी सख्ती और दूसरा, टीकाकरण में तेज़ी लाना। लेकिन हाल की रिपोर्टों में ऐसा होता नहीं दिख रहा है। टीकाकरण ठीक से नहीं हो पा रहा है। प्रियंका गांधी ने तो ट्वीट कर आरोप लगाए हैं कि 30 दिनों में टीकाकरण में क़रीब 82 फ़ीसदी गिरावट आई है।

सबसे ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले 306 ज़िलों में कोरोना संक्रमण की स्थिति ख़तरनाक स्तर की है, लेकिन इनमें से अधिकतर ज़िलों में कोरोना वैक्सीनेशन धीमा पड़ गया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, 2 से 8 मई के बीच 306 ज़िले ऐसे थे जहाँ पॉजिटिविटी रेट 20 फ़ीसदी से ज़्यादा थी। इन 306 ज़िलों में 24-30 अप्रैल तक 77.23 लाख डोज लगाए गए थे जबकि 1 मई से 7 मई तक इन ज़िलों में 60.51 लाख डोज लगाए जा सके। इसमें 21.64 गिरावट आई। इन ज़िलों में से 67 फ़ीसदी ज़िलों में टीकाकरण में गिरावट आई है। इनमें से अधिकतर ज़िले ग्रामीण क्षेत्रों वाले हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें