loader

हर रोज़ कोरोना के केस आधे हो गए; कोरोना नियंत्रित हो गया या दूसरी लहर आएगी?

देश में 16 सितंबर को क़रीब 98 हज़ार कोरोना संक्रमण के मामले आए थे, लेकिन क़रीब एक महीने में 13 अक्टूबर को संक्रमितों की संख्या क़रीब 55 हज़ार ही रही है। पिछले एक महीने में हर रोज़ आने वाले कोरोना संक्रमण के मामले औसत रूप से कम होते जा रहे हैं और यह संख्या आधे के आसपास पहुँच गयी है। इसके क्या संकेत हैं? क्या कोरोना संक्रमण ढलान पर है और इस वजह से निश्चिंत हुआ जा सकता है? या कहीं ऐसा तो नहीं होगा कि संक्रमण का दूसरा फेज आए और वह पहले से कहीं ज़्यादा तेज़ी से फैले?

क्या केरल में कोरोना की स्थिति इस आशंका को बल नहीं देता है जहाँ कोरोना नियंत्रण के लिए दुनिया भर में चर्चा हो रही थी वहाँ अभी रिकॉर्ड पॉजिटिव केस आ रहे हैं। दक्षिण भारत के कई राज्यों की ऐसी ही स्थिति है। दक्षिण कोरिया और चीन जैसे देशों में भी दूसरा फेज आया था। कई देशों में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर कम ख़तरनाक नहीं रही है। ऐसी आशंका भारत के लिए भी विशेषज्ञ जता चुके हैं कि प्रदूषण बढ़ने पर संक्रमण कहीं ज़्यादा तेज़ी से फैलेगा।

सम्बंधित ख़बरें

इन आशंकाओं से परे ताज़ा आँकड़े भारत में कोरोना संक्रमण के कम होने की तसवीर पेश करते हैं। एक अक्टूबर के बाद से भारत में हर रोज़ कोरोना संक्रमण के मामले 80 हज़ार से नीचे ही रहे हैं। पिछले सात दिनों का औसत निकाला जाए तो हर रोज़ संक्रमण के मामले 70 हज़ार के आसपास रहता है। जबकि 16 सितंबर के आसपास एक हफ़्ते में औसत रूप से 93 हज़ार संक्रमण के मामले आए थे। यानी सितंबर महीने में कोरोना बेलगाम दिख रहा था। इससे पहले अगस्त महीने में ही हर रोज़ भारत में दुनिया में सबसे ज़्यादा मामले आने शुरू हो गए थे।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को कहा है कि क़रीब 87% लोग ठीक हो गए हैं और 11.69% ही फ़िलहाल संक्रमित हैं। उनके अनुसार भारत में कोरोना पॉजिटिविटी दर लगातार नीचे की ओर है। वह कहते हैं कि 62 लाख से ज़्यादा लोग पूरी तरह ठीक हो चुके हैं और क़रीब साढ़े आठ लाख लोग ही फ़िलहाल संक्रमित हैं।

भले ही ये आँकड़े संक्रमण कम होने की ओर इशारा करते हों लेकिन क्या कोरोना संक्रमण के फिर से तेज़ी पकड़ने की आशंका नहीं बनी रहेगी? इस मामले में केरल का उदाहरण सामने है। देश में कोरोना वायरस का सबसे पहला पॉजिटिव मामला केरल में 30 जनवरी को आया था और शुरुआत में संक्रमण तेज़ी से फैला भी। बढ़िया तैयारी और सरकार की सक्रियता से  कोरोना नियंत्रित हो गया। वहाँ 7 मई को एक भी नया मामला नहीं आया था। एक तरह से वहाँ संक्रमण के मामले न के बराबर आ रहे थे, लेकिन अब स्थिति वहाँ बदल गई है। हर रोज़ संक्रमण के मामले क़रीब 8 हज़ार आ रहे हैं। सोमवार को ही वहाँ कोरोना संक्रमण के 7836 मामले सामने आए। फ़िलहाल राज्य में 94 हज़ार से ज़्यादा संक्रमित हैं। स्थिति का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि देश के 11 फ़ीसदी सक्रिय केस सिर्फ़ केरल में हैं। 

देश में केरल के अलावा, कर्नाटक, तमिलनाडु और आँध्र प्रदेश जैसे राज्यों में भी ऐसी ही स्थिति है। कर्नाटक में 13 फ़ीसदी सक्रिय केस हैं। महाराष्ट्र में तो शुरू से ही कोरोना संक्रमण के मामले आ रहे हैं और इसलिए वहाँ 25 फ़ीसदी सक्रिय केस हैं।
कर्नाटक में हर रोज़ 10 हज़ार से ज़्यादा मामले आ रहे हैं और सोमवार को ही वहाँ 12 हज़ार से ज़्यादा पॉजिटिव केस आए हैं। आँध्र प्रदेश में 5500 नये मामले आए, तमिलनाडु में 5100, महाराष्ट्र में 15 हज़ार नये मामले आए थे। 
वीडियो में देखिए, कब आएगी कोरोना वैक्सीन?

बिना लॉकडाउन के ही कोरोना को हराने में दक्षिण कोरिया ने पूरी दुनिया के सामने एक मिसाल पेश की है। लेकिन अप्रैल महीने में कोरोना की दूसरी लहर की चपेट में आता दिख रहा था। कोरोना के जो 91 मरीज ठीक होकर घर जा चुके थे उनका कोरोना टेस्ट फिर से पॉजिटिव आया था। इस मामले पर 'कोरिया सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल' के निदेशक का कहना था कि इन मामलों को देख कर लगता है जैसे कोरोना वायरस इनके शरीर में फिर से एक्टिव हो गया है। इसके बाद भी कई बार कोरोना संक्रमण के मामले तेज़ी से बढ़े थे। चीन में भी ऐसा ही हुआ था। एक बार जब लगा कि चीन ने संक्रमण को पूरी तरह नियंत्रित कर लिया है तब फिर से संक्रमण बढ़ने लगा था और फिर से बीजिंग के कई इलाक़ों में लॉकडाउन करना पड़ा था। हालाँकि यहाँ भी बाद में स्थिति सुधर गई।

अब यदि इन आशंकाओं को छोड़ भी दें तो देश के ही विशेषज्ञ दूसरी लहर की आशंका जता रहे हैं। कहा जा रहा है कि सर्दियों में प्रदूषण बढ़ने पर संक्रमण की दूसरी लहर आ सकती है।
दिल्ली एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि वायु प्रदूषण बढ़ने के साथ कोरोना के मामलों में तेजी आ सकती है। उन्होंने कहा कि जितना अधिक प्रदूषण बढ़ेगा उतना ही ज़्यादा कोरोना वायरस फैलने का ख़तरा है। एम्स निदेशक ने कहा कि कई शोध में यह बात सामने आई है कि प्रदूषण बढ़ने पर कोविड-19 वायरस हवा में ज़्यादा देर तक रहता है जो हमारे साँस लेने पर शरीर में प्रवेश कर सकता है। उन्होंने कहा कि अब देश अनलॉक हो रहा है जिससे प्रदूषण की समस्या एक बार फिर सामने आ रही है लेकिन अगर कोरोना वायरस और प्रदूषण दोनों एक साथ बढ़ेगा तो जनता के लिए बहुत मुश्किल हो जाएगी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें