loader
रोहित जोशी

मंत्री पुत्र को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस जयपुर पहुंची, घर पर लगाया नोटिस

राजस्थान के मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी को गिरफ्तार करने के लिए दिल्ली पुलिस की एक टीम रविवार सुबह जयपुर पहुंची। मंत्री के बेटे रोहित पर 23 वर्षीय महिला से कथित बलात्कार का आरोप है। महिला ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि मंत्री के बेटे ने पिछले साल आठ जनवरी से इस साल 17 अप्रैल के बीच कई मौकों पर उसके साथ दुष्कर्म किया और उससे शादी करने का वादा भी किया।
दिल्ली पुलिस की 15 सदस्यीय टीम को रोहित घर पर नहीं मिला तो पुलिस ने घर के बाहर नोटिस चिपका दिया है।महिला ने कहा कि उसने पिछले साल फेसबुक पर रोहित जोशी के साथ दोस्ती की और तब से वे संपर्क में हैं। अपनी पहली मुलाकात के दौरान, उसने आरोप लगाया, उसने उसके ड्रिंक में नशीला पदार्थ डाला और जब वह अगली सुबह उठी, तो रोहित ने उसे नग्न तस्वीरें और वीडियो दिखाए, जिससे वह चिंतित थी। उसने यह बात एफआईआर में दर्ज कराई है।

ताजा ख़बरें
एक अन्य मुलाकात का जिक्र करते हुए उसने आरोप लगाया कि रोहित जोशी भी एक बार उनसे दिल्ली में मिले थे और उन पर जबरदस्ती की थी। "रोहित ने मुझे एक होटल में रुकवाया, जहां उसने पति-पत्नी के रूप में हमारे नाम दर्ज करवाए। फिर उसने मुझसे शादी करने का वादा किया ... वह हम दोनों के पुराने फोटो को अपलोड करने और वायरल करने की धमकी देता था।  उसने कहा कि 11 अगस्त, 2021 को, उसे पता चला कि वह गर्भवती थी। महिला ने आरोप लगाया कि रोहित ने उसे गर्भनिरोधक गोली लेने के लिए मजबूर किया, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया।

Delhi Police reached Jaipur to catch the minister's son - Satya Hindi
आरोपी रोहित जोशी के घर के बाहर लगा नोटिस
दिल्ली पुलिस को रोहित जोशी जयपुर में अपने आवास पर नहीं मिला। इसके बाद मंत्री के घर के बाहर दिल्ली पुलिस ने नोटिस चिपकाया है। जिसमें कहा गया है कि वो 18 मई को दोपहर 1 बजे पूछताछ के लिए दिल्ली पुलिस के सामने पेश हो। यह नोटिस सदर पुलिस स्टेशन दिल्ली की जांच अधिकारी शर्मिला यादव की ओर से जारी किया गया है।  
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें