loader

अब ईडी ने कार्ति पर दर्ज किया मनी लॉन्ड्रिंग का केस

एक कंपनी के चीनी अधिकारियों को वीजा देने में कथित भ्रष्टाचार के मामले में ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय ने अब कार्ति चिदंबरम के ख़िलाफ़ मनी लॉउन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। इस मामले में सीबीआई ने उनके ख़िलाफ़ एक हफ़्ते पहले भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था। केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई ने पिछले हफ्ते इसी मामले में कार्ति से जुड़े विभिन्न परिसरों में देश भर में तलाशी ली थी।

एफ़आईआर इस आरोप पर आधारित है कि कार्ति ने पंजाब में एक बिजली परियोजना के लिए वेदांत की सहायक कंपनी के सहयोग से काम करने वाली एक कंपनी के 300 चीनी नागरिकों के लिए वीजा की सुविधा के लिए वेदांत समूह से 50 लाख रुपये की कथित रिश्वत ली थी। आरोप लगाया गया है कि यह मामला 2010 से 2014 के बीच का है।

ताज़ा ख़बरें

सीबीआई का यह मामला प्रवर्तन निदेशालय द्वारा 2018 में सीबीआई को भेजे गए एक संदर्भ पर आधारित है। ईडी द्वारा भेजे गए पत्र में दावा किया गया था कि आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम के ख़िलाफ़ अपनी जांच के दौरान उसे कुछ सबूत मिले थे कि कार्ति से कथित रूप से जुड़ी एक कंपनी को वेदांता समूह ने 50 लाख रुपये की पेशकश की थी ताकि उनके पिता पी चिदंबरम के गृह मंत्री रहते हुए 300 चीनी नागरिकों को वीजा की सुविधा मिल सके।

प्रवर्तन निदेशालय ने कहा था कि कार्ति के चार्टर्ड एकाउंटेंट एस भास्कर रमन को 2011 में वेदांत समूह द्वारा प्रस्ताव दिया गया था। रिपोर्ट के अनुसार ईडी के दावे भास्कर रमन के लैपटॉप की हार्ड डिस्क से प्राप्त कुछ ईमेल पर आधारित थे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि एजेंसी ने अब और ईमेल बरामद किए हैं जो कथित तौर पर बताते हैं कि वेदांत द्वारा इस नौकरी के लिए अगस्त 2011 में एडवांटेज स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड (एएससीपीएल) को 50 लाख रुपये की पेशकश की गई थी। सीबीआई ने आरोप लगाया है कि एएससीपीएल अप्रत्यक्ष रूप से कार्ति द्वारा नियंत्रित है।
देश से और ख़बरें

बता दें कि इस मामले में सीबीआई ने पिछले हफ़्ते मंगलवार को कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के क़रीबी सहयोगी एस. भास्कर रमन को गिरफ्तार किया था। सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम के चेन्नई, मुंबई, ओडिशा और दिल्ली स्थित घर और दफ्तरों पर छापेमारी की थी। इस दौरान कार्ति चिदंबरम के सहयोगियों के ठिकानों को भी खंगाला गया था। 

इस मामले में सीबीआई ने एस. भास्कर रमन के अलावा इस पावर प्रोजेक्ट से जुड़े मानसा और विकास को भी आरोपी बनाया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें