loader
मुख्तार अंसारी

मुख्तार अंसारी के सांसद भाई और बेटों से ईडी ने की पूछताछ

यूपी के चर्चित नेता और माफिया के रूप में कुख्यात मुख्तार अंसारी के सांसद भाई अफजाल अंसारी और मुख्तार के विधायक बेटे अब्बास अंसारी व उमर अंसारी से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को दो घंटे तक पूछताछ की। हाल ही में मुख्तार अंसारी ने अपनी जमानत के लिए अर्जी लगाई थी लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उनकी अर्जी खारिज कर दी। 

मुख्तार अंसारी पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। उसी सिलसिले में ईडी ने उनके सांसद भाई और बेटों को पूछताछ के लिए बुलाया था। 

इससे पहले ईडी ने लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) से मुख्तार अंसारी, उनके परिवार के सदस्यों और राज्य की राजधानी में सहयोगियों से संबंधित संपत्तियों के बारे में विवरण मांगा था।

ताजा ख़बरें
ईडी ने इन लोगों के खिलाफ जमीन हथियाने और अवैध कारोबार से जुड़े कई मामलों के आधार पर 1 जुलाई, 2021 को मनी लान्ड्रिंग अधिनियम (पीएमएलए) का मामला दर्ज किया था। यूपी पुलिस ने पिछले तीन वर्षों में 250 करोड़ से अधिक की इन संपत्तियों पर किए गए कई जमीनों को मुक्त करने का दावा किया था और अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया था और इस संबंध में उनके और उनके गिरोह के सदस्यों के खिलाफ कई मामले दर्ज किए थे।सूत्रों ने कहा कि ईडी ने एलडीए के उपाध्यक्ष अक्षय त्रिपाठी को पत्र भेजकर मुख्तार अंसारी, उनकी पत्नी अफसाना, भाई अफजल अंसारी और अंसारी के दो बेटों अब्बास और उमर की संपत्तियों का ब्योरा मांगा है। उन्होंने अंसारी के साथी आतिफ रजा और उसके अन्य सहयोगियों की संपत्तियों का ब्योरा भी मांगा है।  
सूत्रों ने कहा कि एलडीए के उपाध्यक्ष ने अंसारी, उनके परिवार और सहयोगियों से संबंधित संपत्तियों का पता लगाने के लिए एलडीए सचिव पवन गंगवार की अध्यक्षता में एक समिति बनाई थी। उन्होंने कहा कि अंसारी और उसके साथियों से संबंधित 19 संपत्तियों के राज्य की राजधानी में होने का संदेह है।

उन्होंने कहा कि इसमें कुछ इमारतें शामिल हैं जिनका निर्माण एलडीए से बिना नक्शा पास कराए और अन्य की जमीन पर कब्जा किए बिना अवैध रूप से किया गया है।2017 में बीजेपी सरकार के गठन के साथ, यूपी पुलिस ने पिछले कुछ वर्षों में अंसारी और उनके गिरोह से जुड़े लोगों पर शिकंजा कस दिया है।

हालांकि इतनी जबरदस्त घेराबंदी के बावजूद मुख्तार अंसारी परिवार का असर राजनीतिक रूप से कम नहीं हो रहा है। तमाम राजनीतिक दल इस परिवार की जेब में रहते हैं। मुख्तार अंसारी जब तक सक्रिय रहे, वो सांसद और विधायक बनते रहे। बीजेपी सरकार में जब उन्हें जेल भेज दिया गया तो उनके भाई अफजाल अंसारी और दोनों बेटे राजनीतिक रूप से सक्रिय हुए। 

 

देश से और खबरें

अफजाल इस समय गाजीपुर से बीएसपी के सांसद हैं। मऊ से अब्बास अंसारी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के विधायक हैं। तमाम गंभीर आरोपों के बावजूद यह परिवार जनता के बीच अपनी लोकप्रियता बनाए हुए है। गाजीपुर और मऊ के लोग मानते हैं कि मुख्तार अंसारी पर राजनीतिक बदले की भावना से कार्रवाई की जा रही है। लेकिन बीजेपी के मुख्तार अंसारी पर गंभीर आरोप हैं।    

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें