loader

यूरोपीय सांसदों ने अनुच्छेद 370 को हटाने के फ़ैसले का किया समर्थन

जम्मू-कश्मीर के दौरे पर आये यूरोपीय संसद के 23 सदस्यों के प्रतिनिधिमंडल ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस की है। यूरोपीय सांसदों के प्रतिनिधिमंडल ने केंद्र सरकार के जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने के फ़ैसले का समर्थन किया है। सांसदों ने कहा कि अनुच्छेद 370 भारत का आतंरिक मामला है। सांसदों ने उन्हें नात्सी समर्थक कहे जाने पर नाराज़गी भी जताई है। 

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने उन्हें नात्सी समर्थक बताया था। सांसदों ने कहा कि अगर वे नात्सी समर्थक होते तो वे चुनकर नहीं आते। एक सांसद ने कहा कि नात्सी समर्थक कहे जाने पर वे लोग बेहद नाराज हैं।
ताज़ा ख़बरें
ओवैसी ने कहा था, ‘इन सासंदों का चुनाव वाक़ई अद्भुत है, ये सभी इसलामोफोबिया की बीमारी से पीड़ित हैं, नात्सी-प्रेमी हैं और मुसलिम बहुल घाटी जा रहे हैं। निश्चिय ही जनता उनका स्वागत करेगी। ग़ैरों पे रहम, अपनों पे सितम, ऐ जाने वफ़ा ये ज़ुल्म न कर!’
यूरोपीय सांसदों ने शांति के लिये भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत की भी वक़ालत की है। सांसदों ने कहा कि उन्हें घाटी में बहुत ज़्यादा लोगों से मिलने का मौक़ा नहीं मिला लेकिन यह छोटी सी यात्रा न आने से ज़्यादा अच्छी रही। 
यूरोपीय सांसदों ने कहा कि आतंकवाद यूरोप में भी एक समस्या था और इसीलिए वे सभी लोग इस मुद्दे पर भारत के साथ खड़े हैं। सांसदों ने कहा कि वे भारत में कोई राजनीतिक दख़ल नहीं देना चाहते बल्कि ज़मीनी हालात के बारे में जानने आये थे। सांसदों ने कहा कि वे यूरोपियन संघ को इस बारे में कोई रिपोर्ट नहीं देंगे। 
इस प्रतिनिधिमंडल में पोलैंड के रिसज़र्ड ज़ारनेची, फ्रांस से चुनी गई एमईपी टेरी मारियानी, पोलैंड के कोस्मा ज्लोतोवस्की, पोलैंड की एमईपी बोग्दाँ रज़ोचाँ और जोआना कॉपसिंचस्का, इटली की गियाना जान्चिया, सिल्विया सारडन और फलवियो मार्तुसीलो, डेमोक्रेटिक पार्टी के जिसेप फ़ेरान्डिनो, फ्रांस से चुनी गई जूली लीचेनतो, मैक्सेट परबकस, वर्नीजिया जोरोन, फ्रांस जैमेट और निकोला बे शामिल हैं। 
देश से और ख़बरें
यूरोपीय सांसदों के प्रतिनिधिमंडल के दौरे को लेकर विपक्षी दलों के नेताओं ने सवाल उठाये थे।भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के महासचिव सीताराम येचुरी ने इस टीम के दौरे पर तीखी प्रतिक्रिया जताई थी। उन्होंने कहा था, ‘इस दल में ज़्यादातर वे लोग हैं जो किसी न किसी धुर दक्षिणपंथी और फ़ासिस्ट समर्थक पार्टी के हैं, जो बीजेपी से जुड़ी हैं।’ येचुरी ने कहा था, ‘इससे साफ़ हो जाता है कि मोदी ने इनका स्वागत किया, पर हमारे सांसदों को कश्मीर नहीं जाने दिया। तीन पूर्व मुख्यमंत्री और एक हज़ार से ज़्यादा लोग जेल में हैं और भारतीय दलों के नेताओं पर इन एमईपी को तरजीह दी जा रही है।’ 
कांग्रेस सांसद राहुल गाँधी ने इस दौरे को 'गाइडेड टूर' क़रार दिया है। उन्होंने कहा था, 'यूरोप के सांसदों का इस गाइडेड टूर पर स्वागत है, जबकि भारत के सांसदों पर प्रतिबंध लगा हुआ है और उन्हें वहां नहीं जाने दिया जा रहा है।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें