loader

कृषि क़ानूनों के समर्थन में थे अधिकतर किसान संगठन : SC कमेटी की रिपोर्ट

कृषि कानूनों के मामले में सुप्रीम कोर्ट के द्वारा बनाई गई कमेटी की रिपोर्ट सामने आ गई है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकतर किसान संगठनों ने तीनों कृषि कानूनों का समर्थन किया था। इन कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली के बॉर्डर्स पर 1 साल तक आंदोलन चला था और किसानों के जबरदस्त विरोध के कारण मोदी सरकार को पीछे हटना पड़ा था और उसने कृषि कानून वापस ले लिए थे।

कृषि कानूनों को लेकर विवाद बढ़ने पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से तीन सदस्यों की यह कमेटी बनाई गई थी। इस कमेटी में किसान नेता अनिल घनावत, कृषि विशेषज्ञ अशोक गुलाटी और प्रमोद जोशी भी थे।

अनिल घनवत ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि यह रिपोर्ट किसानों और नीति निर्माताओं के लिए बेहद अहम है और इसलिए उन्होंने इसे लोगों के बीच में रखने का फैसला किया। 

ताज़ा ख़बरें
रिपोर्ट के मुताबिक, कमेटी ने 266 किसान संगठनों से संपर्क किया और इनमें से कई संगठन ऐसे थे जो किसान आंदोलन में भी शामिल थे। कमेटी को 1,520 ईमेल मिले और 19,727 सुझाव भी। कमेटी ने 19 मार्च, 2021 को सील बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट जमा कर दी थी।

61 संगठनों ने किया समर्थन 

रिपोर्ट के मुताबिक, 73 किसान संगठनों ने कमेटी के सदस्यों से बात की और इनमें से 61 किसान संगठनों ने कृषि कानूनों का समर्थन किया। ये 61 किसान संगठन 3.3 करोड़ किसानों का प्रतिनिधित्व करते हैं। कमेटी की रिपोर्ट के मुताबिक, 4 किसान संगठनों ने तीन कृषि कानूनों का विरोध किया और 7 किसान संगठनों ने इनमें संशोधन करने की बात कही।

कमेटी के सदस्यों ने किसान संगठनों से सीधे या वीडियो लिंक के जरिए बातचीत की। रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों के किसान संगठनों से जुड़े किसानों ने कमेटी के सदस्यों से बातचीत नहीं की। जबकि कमेटी की ओर से इन्हें बातचीत करने के लिए कई बार निमंत्रण भेजा गया था। 

रिपोर्ट कहती है कि केवल 27.5 फीसद किसानों ने अपने अनाज को सरकार के द्वारा घोषित किए गए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेचा और यह किसान छत्तीसगढ़ पंजाब और मध्य प्रदेश के थे। 

Farmers bodies supported 3 farm laws SC panel report  - Satya Hindi

कमेटी की सिफारिशें 

कमेटी ने कुछ सिफारिशें भी दी हैं। एक सिफारिश यह है कि बड़े पैमाने पर अनाज की खरीद करने के बजाए तिलहन और दालों की खरीद में नेशनल को-ऑपरेटिव एग्रीकल्चर मार्केटिंग फेडरेशन (नेफेड) के द्वारा अपनाए गए मॉडल को लागू किया जाए।

घनवत ने बीते साल कहा था कि अगर एमएसपी को लेकर कोई कानून बनाया जाता है तो भारतीय अर्थव्यवस्था को संकट का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने कहा था कि कृषि कानूनों को रद्द करने का निर्णय विशुद्ध रूप से राजनीतिक है और इसका उद्देश्य उत्तर प्रदेश और पंजाब के चुनाव में जीत हासिल करना है।

देश से और खबरें

झेलना पड़ा था विरोध 

तीन कृषि क़ानूनों के कारण पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी को किसानों के पुरजोर विरोध का सामना करना पड़ा था। हालांकि केंद्र सरकार ने चुनाव से ठीक पहले कृषि कानून वापस ले लिए और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी को उतना नुकसान नहीं हुआ जितना होने की बात कही जा रही थी। देखना होगा कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा गठित की गई इस कमेटी की रिपोर्ट पर किसान संगठन क्या प्रतिक्रिया देते हैं। 

किसान संगठनों ने कहा था कि केंद्र सरकार ने उन्हें आश्वासन देकर धरना तो खत्म करवा लिया लेकिन उसने अपने वादों को पूरा नहीं किया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें