loader

कृषि क़ानून के ख़िलाफ़ दिल्ली में इंडिया गेट पर ट्रैक्टर जलाया, आज कर्नाटक बंद

संसद से पास नये कृषि विधेयकों को राष्ट्रपति द्वारा मंजूरी देने और इसके क़ानून बन जाने के एक दिन बाद प्रदर्शन तेज़ हो गया है। नये कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ पंजाब और हरियाणा में तो प्रदर्शन हो ही रहा है बीजेपी शासित कर्नाटक में आज किसान संगठनों ने बंद बुलाया है। प्रदर्शन करने वालों ने कई मार्गों को जाम कर दिया है। इधर दिल्ली में इंडिया गेट पर प्रदर्शन करने वालों ने एक ट्रैक्टर जलाकर कृषि क़ानूनों का विरोध जताया। यूथ कांग्रेस ने इंडिया गेट पर प्रदर्शन किया। 

यूथ कांग्रेस की ओर से ट्वीट कर कहा गया है कि यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने भगत सिंह जी की जयंती पर इंडिया गेट पर प्रदर्शन किया...। उन्होंने लिखा कि कार्यकर्ताओं ने विरोध के दौरान राजपथ पर एक ट्रैक्टर को आग लगाई। 

कर्नाटक में प्रदर्शन कृषि से जुड़े पाँच विधेयकों को लेकर किया जा रहा है। इसमें से तीन विधेयक (जो अब क़ानून बन गए हैं) तो केंद्र सरकार के हैं और दो विधेयक कर्नाटक सरकार के हैं। कर्नाटक से जुड़े इन दोनों विधेयकों को विधानसभा ने पास कर दिया है। इन विधेयकों के क़ानून बनने पर राज्य में कृषि भूमि को खरीदना आसान हो जाएगा। 

केंद्र सरकार ने जिन तीन कृषि विधेयकों को पास किया है उसको लेकर आशंका जताई जा रही है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी ख़त्म हो जाएगा और निजी कंपनियों व कॉर्पोरेट के आने से छोटे और सीमांत किसान तबाह हो जाएँगे। इन तीन कृषि विधेयक को लेकर यह कहा जा रहा है कि ये विधेयक साफ़ तौर पर मौजूदा मंडी व्यवस्था को ख़त्म करने वाले हैं। हालाँकि मोदी सरकार दावा कर रही है कि ये तीनों विधेयक किसानों को फ़ायदा पहुँचाने वाले हैं। 

ताज़ा ख़बरें

पंजाब और हरियाणा के किसानों में कृषि से जुड़े इन तीनों विधेयकों (अब क़ानून) के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त ग़ुस्सा है। आज पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी इसके ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले हैं। 

बता दें कि कृषि विधेयकों के मुद्दे पर ही बीजेपी का सबसे पुराना साथी रहे शिरोमणि अकाली दल ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन यानी एनडीए का साथ छोड़ दिया है।  विवादास्पद तीन कृषि विधेयकों पर असहमति व्यक्त करते हुए अकाली दल ने शनिवार देर शाम को एनडीए से अलग होने की घोषणा की। दस दिन पहले ही अकाली दल ने मोदी मंत्रिमंडल से अलग होने का फ़ैसला लिया था और तब हरसिमरत कौर ने इस्तीफ़ा दे दिया था। 
देश से और ख़बरें

पंजाब और हरियाणा में तो इसका विरोध तब से हो रहा है जब कृषि विधेयक से पहले सरकार इस पर अध्यादेश लेकर आई थी। लेकिन किसानों का यह प्रदर्शन अब यह धीरे-धीरे पूरे देश में फैलता जा रहा है। 

कर्नाटक में आज बड़े स्तर पर प्रदर्शन किया जा रहा है। कर्नाटक में प्रदर्शन करने वाले हुबली में आज सुबह ही बीच सड़क पर धरने पर बैठ गए। कलबुर्गी में भारी तादाद में पुलिस बल को तैनात किया गया है। कई जगहों पर किसानों ने सड़कों पर ट्रैक्टर खड़े कर दिए हैं। राज्य में यातायात प्रभावित हुआ है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें