loader

किसानों का मोदी को पत्र, बोले- बातचीत का माहौल बनाए केंद्र

मोदी सरकार के कृषि किसानों के ख़िलाफ़ हरियाणा-पंजाब के किसानों ने जन आंदोलन खड़ा कर दिया है। किसानों के जबरदस्त संघर्ष के बाद दिल्ली पुलिस ने उन्हें राजधानी के भीतर आने की इजाजत दे दी है लेकिन इस दौरान पुलिस उनके साथ रहेगी। देश के कई राज्यों के किसान संगठनों ने किसानों के साथ की गई पुलिसिया बर्बरता की निंदा की है। 

आंदोलन को धार देते हुए अब कई राज्यों के किसान संगठनों ने मिलकर संयुक्त किसान मोर्चा बनाया है। इस मोर्चे की अगुवाई में ही किसानों का आंदोलन किया जा रहा है। मोर्चे की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र भी भेजा गया है। 

ताज़ा ख़बरें

पत्र में लिखा है, ‘प्रधानमंत्री जी, आप जानते हैं कि कई राज्यों से बड़ी संख्या में किसान दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं। इनमें पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश उत्तराखंड, मध्य प्रदेश व कई अन्य राज्यों के किसान शामिल हैं। इन किसानों में युवा भी शामिल हैं। हम सभी को हरियाणा, उत्तर प्रदेश और केंद्र की सरकार द्वारा रोका जा रहा है और रास्ते में बैरिकेडिंग, बड़ी संख्या में मिट्टी से भरे ट्रक खड़े कर दिए गए हैं। पानी की बौछार छोड़ी जा रही है और आंसू गैस का इस्तेमाल किया जा रहा है।’ 

पत्र में आगे लिखा है, ‘उत्तर भारत में पड़ रही ठंड के बीच ये सब किया जा रहा है लेकिन इसके बाद भी हम लोग लगातार आगे बढ़ रहे हैं। हज़ारों किसान दिल्ली के बॉर्डर पर पहुंच चुके हैं और आगे बढ़ते रहेंगे।’ 

farmers protest in delhi wrote letter to PM Modi  - Satya Hindi

संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया है कि भारत सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि किसानों के साथ ऐसा व्यवहार न हो और अन्नदाताओं और सरकार के बीच संघर्ष के दौरान कोई भी अप्रिय घटना न घटे। मोर्चा ने कहा है कि किसानों की आवाज़ को नहीं सुना गया और अध्यादेश लाकर क़ानून बना दिया गया। 

किसान आंदोलन पर सुनिए चर्चा- 

किसानों ने कहा है, ‘प्रधानमंत्री जी, इस बारे में आप तक अपनी बात भी पहुंचाई गई लेकिन किसी तरह का कोई जवाब नहीं मिला। अब तो कम से कम भारत सरकार को यह संघर्ष वाला रवैया छोड़ देना चाहिए और किसानों से बातचीत की प्रक्रिया शुरू करनी चाहिए।’ 

केंद्र सरकार की ओर से यह कहे जाने पर कि किसानों को 3 दिसंबर को बातचीत के लिए बुलाया गया है, किसानों ने पत्र में लिखा है कि यह पूरी तरह फिजूल बात है कि सरकार बातचीत के लिए बुला रही है लेकिन वह ऐसा माहौल नहीं बनने दे रही है, जहां पर बात हो सके। 

farmers protest in delhi wrote letter to PM Modi  - Satya Hindi

‘आने के लिए रास्ता दें’

पत्र में प्रधानमंत्री मोदी से मांग की गई है कि किसानों को दिल्ली आने के लिए सुरक्षित और खुला रास्ता दिया जाए। अखिल भारतीय और क्षेत्रीय स्तर के किसान संगठनों को बातचीत के लिए बुलाया जाए और कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्रियों से उनकी बातचीत हो। किसानों ने कहा है कि उनकी मांग यही है कि तीन नए कृषि क़ानूनों और इलेक्ट्रिसिटी बिल 2020 को ख़त्म कर दिया जाए। 

देश से और ख़बरें

पत्र से इतर किसान नेता योगेंद्र यादव का कहना है कि नए कृषि क़ानूनों के लागू होने से एमएसपी बंद हो जाएगी। इससे मंडी नहीं होगी और सरकारी रेट पर फसलों की ख़रीद धीरे-धीरे खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा है कि किसानों और कंपनी के बीच कॉन्ट्रैक्ट की नई व्यवस्था शुरू होने से किसान कंपनी और उसके वकीलों का बंधक बन जाएगा।

यादव के मुताबिक़, इन क़ानूनों में व्यापारियों को जमाखोरी और कालाबाजारी की पूरी छूट दे दी गई है। इससे किसान की फसल सस्ती बिकेगी और खरीदार को ज्यादा महंगी पड़ेगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें