loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2022

हिमाचल प्रदेश 68 / 68

बीजेपी
27
कांग्रेस
38
अन्य
3

गुजरात 182 / 182

बीजेपी
152
कांग्रेस
19
आप
7
अन्य
4

चुनाव में दिग्गज

फ़ाइल फ़ोटो।

हरियाणा पुलिस ने आंदोलनकारी किसानों पर छोड़े आँसू गैस के गोले

रविवार देर शाम को हरियाणा में किसानों पर आँसू गैस के गोले छोड़े गए हैं। इनमें अधिकतर किसान राजस्थान से थे। वे हरियाणा की सीमा पार कर दिल्ली आना चाह रहे थे लेकिन उन्हें रोक दिया गया। यह तब हो रहा है जब केंद्र सरकार इस मुद्दे को सुलझाने की हर कोशिश कर रही है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने तो छठे दौर की पिछली वार्ता के बाद कहा था कि बातचीत अच्छी रही है और किसानों की दो माँगें मान ली गई हैं। 

ख़ास ख़बरें

एक रिपोर्ट के अनुसार, क़रीब 50 किसान रेवाड़ी में राजस्थान-हरियाणा सीमा पर जबरन बैरिकेड पार करने की कोशिश कर रहे थे। तभी हरियाणा पुलिस ने आँसू गैस के गोले दागे। इससे पहले क़रीब 300 किसानों ने गुरुवार को रेवाड़ी में राजस्थान-हरियाणा सीमा पर 'जबरन' बैरिकेड को पार किया था। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार बावल के डीएसपी राजेश कुमार ने आँसू गैस छोड़े जाने की बात की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि किसानों ने बैरिकेड को तोड़कर आगे बढ़ने की कोशिश की। 

बातचीत के लिए सौहार्दपूर्ण माहौल बनाने की कोशिश तो की जा रही है, लेकिन दोनों तरफ़ से दबाव बनाने का प्रयास भी जारी है। सरकार की तरफ़ से अब तक कई बार कहा जा चुका है कि केंद्र सरकार किसी दबाव में नहीं झुकेगी तो किसान भी आंदोलन तेज करने की चेतावनी देते रहे हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों से किसान दिल्ली आ भी रहे हैं। फ़िलहाल बड़ी संख्या में किसान सिंघु बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं। 

शनिवार को ही किसानों ने सिंघु बॉर्डर से आगे बढ़ने की चेतावनी दी है। किसान यूनियनों ने कहा है कि यदि उनकी माँग नहीं मानी जाती है तो वे 26 जनवरी को दिल्ली में घुसेंगे।

सरकार और किसानों के बीच फ़िलहाल दो मुद्दों पर गतिरोध बरकरार है। किसानों की चार माँगों में से दो माँगों को सरकार ने पहले ही मान लिया है। किसान नये कृषि क़ानूनों को रद्द करने और एमएसपी पर क़ानूनी गारंटी की माँग कर रहे हैं। सरकार यह मानने को तैयार नहीं है। 

farmers protest talks today, haryana police fires tear gas - Satya Hindi
पिछली बैठक के बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा था कि किसानों की शंका थी कि पराली वाले अध्यादेश में किसानों को नहीं रखा जाना चाहिए, सरकार ने किसानों की इस बात को मान लिया है। तोमर ने कहा कि प्रस्तावित बिजली क़ानून को लेकर किसानों की कुछ मांग थी, सरकार और यूनियन के बीच में इस मांग को लेकर रजामंदी हो गई है।

किसान यूनियनों ने शनिवार को आगे की योजना की भी घोषणा की। 

बीकेयू (राजेवाल) के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि किसानों के आंदोलन के उद्देश्यों को लेकर जो झूठ फैलाया जा रहा है उसको बेनकाब करने के लिए 6 जनवरी से 20 जनवरी तक देश जागृति अभियान के तौर पर ट्रैक्टर/ट्रॉली रैलियाँ आयोजित की जाएँगी। उन्होंने कहा कि 'हम उस झूठ का पर्दाफाश करेंगे जिसमें हमें खालिस्तानी और बिचौलिए बताया जा रहा है।'

farmers protest talks today, haryana police fires tear gas - Satya Hindi
किसानों ने कहा कि 13 जनवरी को लोहड़ी पर तीनों क़ानूनों की प्रतियों को प्रतीकात्मक विरोध के रूप में जलाया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि महिला किसानों और प्रदर्शनकारियों को सम्मानित करने के लिए 18 जनवरी को महिला किसान दिवस के रूप में मनाया जाएगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें