loader

बातचीत के लिए शर्त किसानों का अपमान: किसान नेता

किसान नेताओं ने कहा है कि बातचीत के लिए शर्त रखना किसानों का अपमान है। इसके साथ ही उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह की बातचीत की पेशकश को ठुकरा दिया है। गृह मंत्री ने एक दिन पहले ही कहा था कि सरकार किसानों की सभी माँगों पर बात करने को तैयार है बशर्ते वे सरकार द्वारा तय जगह पर चले जाएँ। लेकिन किसानों ने यह मानने से इनकार कर दिया है। अब किसान आरपार के मूड में हैं। 

बीकेयू क्रांतिकारी (पंजाब) के राज्य अध्यक्ष सुरजीत सिंह फूल ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, 'बातचीत के लिए सामने रखी गई शर्त किसानों का अपमान है। हम कभी बुराड़ी (दिल्ली) नहीं जाएँगे। यह एक पार्क नहीं बल्कि एक खुली जेल है।' उन्होंने कहा, 'बुराड़ी में खुली जेल में जाने के बजाय, हमने तय किया है कि हम दिल्ली में 5 मुख्य प्रवेश की जगहों को बंद करके दिल्ली का घेराव करेंगे।' किसानों ने चार माँगें भी सामने रखीं, जिनमें एमएसपी की गारंटी, तीन कृषि बिलों को ख़त्म करना, बिजली अध्यादेश को रोकने और पराली जलाने पर जुर्माने को ख़त्म करना शामिल है।

गृह मंत्री की पेशकश को ठुकराने का सीधा मतलब यह है कि किसान अपनी शर्तों पर ही प्रदर्शन करते रहेंगे और नये कृषि क़ानूनों को वापस लिए जाने पर अड़े रहेंगे। किसान नये कृषि क़ानूनों को कृषि विरोधी बता रहे हैं। उन्हें डर है कि नये प्रावधान से मंडी व्यवस्था, न्यूनतम समर्थन मूल्य का प्रावधान ख़त्म हो जाएगा और कृषि पर उद्योगपतियों का कब्ज़ा हो जाएगा। इसी के ख़िलाफ़ पंजाब और हरियाण के किसान प्रदर्शन कर रहे हैं और वे दिल्ली बॉर्डर पर जमे हुए हैं। 

ख़ास ख़बरें

किसानों ने शनिवार को भी बुराड़ी के निरंकारी समागम ग्राउंड पर जाने से इनकार कर दिया और कहा है कि उन्हें जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की इजाजत दी जाए। किसान नेताओं का कहना है कि जब तक उन्हें जंतर-मंतर पर जाने की इजाजत नहीं दी जाती, वे दिल्ली के बॉर्डर पर ही जमे रहेंगे। 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा था कि अगर किसान संगठन ये चाहते हैं कि भारत सरकार उनसे 3 दिसंबर से पहले बात करे तो वे दिल्ली पुलिस द्वारा तय की जगह पर आ जाएँ, उसके दूसरे ही दिन भारत सरकार उनसे बातचीत करेगी। 

किसानों ने कहा कि पेशकश सशर्त थी, मंत्री ने कहा था कि अगर बातचीत करनी है तो किसानों को अपने प्रदर्शन को दिल्ली में एक तय जगह पर जाने के लिए सहमत होना होगा। किसानों ने कहा कि उन्हें यह मंजूर नहीं है। प्रदर्शन करने वाले किसानों के नेता सिंघू सीमा पर शाम चार बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। सिंघू बॉर्डर दिल्ली और हरियाणा को जोड़ता है। 
सरकार की परेशानी यह है कि किसान अड़े हुए हैं। वे कह रहे हैं कि छह महीने का राशन साथ लेकर आए हैं, कम पड़ेगा तो और मंगा लेंगे। यानी उनका कहना साफ़ है कि नये कृषि क़ानून को वापस लिए जाने तक वे दिल्ली में ही प्रदर्शन करते रहेंगे।

बता दें कि किसानों की इस घोषणा से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी नये कृषि क़ानूनों का ज़िक्र किया। किसान जिन क़ानूनों के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरे हैं उनको प्रधानमंत्री ने रविवार को किसानों के लिए नई संभावनाओं के दरवाजे खोलने वाला बताया है। प्रधानमंत्री ने तो यहाँ तक कहा कि वर्षों से किसानों की जो माँगें थीं वे अब पूरी हुई हैं। प्रधानमंत्री का यह बयान नये कृषि क़ानून के संदर्भ में है। प्रधानमंत्री का यह बयान 'मन की बात' कार्यक्रम में आया है। 

farmers reject amit shah offer of talks over farm laws deadlock - Satya Hindi
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'पिछले दिनों हुए कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के दरवाजे भी खोले हैं। सालों से किसानों की जो माँगें थीं, जिसे पूरा करने के लिए राजनीतिक दलों ने उनसे वादा किया है, वो वादा पूरा हुआ। काफ़ी विचार-विमर्श के बाद संसद ने कृषि सुधारों को मंजूरी दी है। इन सुधारों ने किसानों के बंधन समाप्त किए हैं और उन्हें अधिकार भी दिए हैं।'

प्रधानमंत्री मोदी के इस बयान से पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का भी बयान आया था। उन्होंने कहा था कि यदि किसानों में ग़ुस्सा है और उनकी माँगें हैं तो वह किसानों से बात करेंगे। अब ज़ाहिर है गृह मंत्री ऐसी बात कर रहे हैं तो उन्हें भी पता है कि किसान नये कृषि क़ानूनों से नाराज़ हैं। यह पूरा देश यह जानता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें