loader

तीन दिन तक दिल्ली में रहेंगी ममता, विपक्षी एकता को मज़बूत करने की करेंगी कोशिश?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दिल्ली पहुँच गयी हैं। यहाँ वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत विपक्षी दलों के तमाम नेताओं से मुलाक़ात करेंगी। ममता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिलेंगी। टीएमसी प्रमुख अगले तीन दिन तक राजधानी में रहेंगी और गुरुवार को कोलकाता लौटेंगी। 

कांग्रेस पार्टी छोड़ने और पश्चिम बंगाल में इसमें व्यापक तोड़फोड़ कर इसे लगभग मिट्टी में मिला देने की रणनीति और उसमें कामयाबी के बावजूद ममता बनर्जी के सोनिया गांधी से रिश्ते कभी खराब नहीं हुए।

ममता का सारा ज़ोर पश्चिम बंगाल कांग्रेस पर रहा और वह निशाने पर उन्हें ही लेती  रहीं, लेकिन कभी भी सोनिया के ख़िलाफ़ कुछ नहीं कहा।

ग़ैर- बीजेपी गठबंधन

पर्यवेक्षकों का कहना है कि ममता बनर्जी के इस दौरे का मुख्य लक्ष्य लोकसभा चुनाव 2024 में ग़ैर- बीजेपी गठबंधन पर काम करना है। वह पश्चिम बंगााल में कांग्रेस व तृणमूल गठजोड़ की संभावनाओं पर बात कर सकती हैं। इसके अलावा नरेंद्र मोदी को चुनौती देने वाले नेता के रूप में किसे पेश किया जाए, इस पर भी विचार विमर्श की शुरुआत कर सकती हैं।

ताज़ा ख़बरें
इस बार के पश्चिम बंगााल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी ने जिस तरह बीजेपी के ख़िलाफ़ मोर्चा संभाला और एक बार फिर जीत हासिल की, उससे उनका और पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल सातवें आसमान पर रहना स्वाभाविक है। 
तृणमूल कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पार्टी के विस्तार और ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री पद के भावी उम्मीदवार के रूप में पेश करने की योजना के ही तहत असम, त्रिपुरा और गोवा ही नहीं, उत्तर प्रदेश में भी पैर पसारने की योजना पर काम कर रही है।

टीएमसी की दिक्क़त

लेकिन तृणमूल कांग्रेस के साथ एक बड़ी दिक्कत यह है कि वह राहुल गांधी को कैसे रोके या उनके ख़िलाफ़ ममता बनर्जी की उम्मीदवारी पर कैसे बात करे। तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुदीप बंद्योपाध्याय यह कह चुके हैं कि उनकी पार्टी राहुल गांधी को स्वीकार नहीं कर पाएगी। इसी तरह पार्टी के नेता बीच बीच में इस आशय के बयान देते रहते हैं।

कांग्रेस की दिक्क़त

जाहिर है, कांग्रेस इससे नाराज होगी और ममता बनर्जी के साथ किसी तरह के गठबंधन से परहेज करेगी। लेकिन कांग्रेस के साथ दिक्क़त यह है कि उसके सामने शरद पवार, मायावती और अखिलेश यादव जैसे नेताओं की चुनौती भी है।

general election 2024 : TMC, trinmool congress to meet congress chief sonia - Satya Hindi

मायावती की बहुजन समाज पार्टी भले ही कमज़ोर हो चुकी हो, एक दलित नेता के रूप में उनकी पहचान और पकड़ को इनकार नहीं किया जा सकता है। इसी तरह अखिलेश यादव के पास ओबीसी  समर्थन का आधार है। यदि उत्तर प्रदेश विधानसभा  चुनाव में समाजवादी पार्टी और बीएसपी ने अच्छा प्रदर्शन कर लिया तो उनकी दावेदारी बढ़ जाएगी।

शरद पवार का आधार किसानों के बीच है और उनकी पार्टी महाराष्ट्र में सत्ता में है। 

कांग्रेस की यह सोच हो सकती है कि मायावती, अखिलेश और शरद पवार जैसे दिग्गजों को रोकने के लिए ममता बनर्जी का इस्तेमाल किया जाए।

सोनिया गांधी के साथ बैठक की यह खास अहमियत है।

ममता बनर्जी ने इसके पहले भी दिल्ली आकर सोनिया गांधी, राहुल गांधी ही नहीं, लालू प्रसााद यादव, अखिलेश यादव और शरद पवार से मुलाक़त की थी। बाद में पत्रकारों से बात  करते हुए उन्होंने कहा था कि विपक्ष का चेहरा बनने के लिए वह मैदान में नहीं है, यह तो जनता तय करेगी, पर बीजेपी को रोकना ज़रूरी है और उनका ज़ोर  इस पर है, पर सब जानते हैं कि राजनीति में इस तरह की बातें कही जाती हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें