loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/सुंदर पिचाई

भारत में 5-7 साल में 75 हज़ार करोड़ निवेश करेगी गूगल : सुंदर पिचाई

ऐसे समय में जब भारत की अर्थव्यवस्था बेहद ख़राब दौर से गुज़र रही है और कोरोना संकट ने स्थिति को गंभीर बना दिया है, गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई की एक घोषणा से उम्मीद बंधती दिखती है। गूगल अगले 5-7 साल में भारत में 75 हज़ार करोड़ रुपये निवेश करेगी। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने सोमवार को इसकी घोषणा की। वह गूगल फ़ॉर इंडिया वर्चुअल लाइव-स्ट्रीम इवेंट में बोल रहे थे। इस निवेश के साथ भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था को गति मिलने की उम्मीद है। यह संकेत अच्छे इसलिए हैं क्योंकि कोई भी कंपनी निवेश वहाँ करना चाहती है जहाँ उसे बाज़ार फलता-फुलता दिखता है। ऐसे में कोरोना संकट के बाद भारत की अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने की एक उम्मीद की किरण दिखती है। वह भी ऐसे समय में जब सभी इंडिकेटर्स भारत की अर्थव्यवस्था को निगेटिव में दिखा रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

इसी उम्मीद की बात सुंदर पिचाई ने भी की। उन्होंने इस निवेश का ज़िक्र कर कहा कि यह भारत के भविष्य और इसकी डिजिटल अर्थव्यवस्था में हमारे विश्वास का प्रतिबिंब है। उन्होंने कहा, 'आज मैं गूगल फ़ॉर इंडिया डिजिटलीकरण फ़ंड की घोषणा करते हुए उत्साहित हूँ। इस प्रयास के माध्यम से, हम अगले 5-7 वर्षों में भारत में 75,000 करोड़ रुपये या क़रीब 10 बिलियन डॉलर का निवेश करेंगे। हम यह इक्विटी निवेश, साझेदारी और परिचालन, बुनियादी ढाँचे और इकोसिस्टम इनवेस्टमेंट के माध्यम से करेंगे।'

इस कार्यक्रम में जो उन्होंने घोषणा की उसकी पूरी विस्तृत जानकारी उन्होंने वेबसाइट पर भी दी है। इसको लेकर उन्होंने ट्वीट भी किया। 

रिपोर्ट के अनुसार, 75,000 करोड़ रुपये का यह निवेश इस पर केंद्रित होगा कि भाषा से परे हर भारतीय को सूचना पाने के लिए सक्षम करे और उनको सस्ती पहुँच उपलब्ध कराए। इसके साथ ही इस निवेश से भारत की विशिष्ट ज़रूरतों के अनुसार सेवाएँ और उत्पाद मुहैया कराया जाएगा। इस बड़े निवेश से स्थानीय व्यवसायों को डिजिटल परिवर्तन की ओर बढ़ने में मदद मिलेगी। स्वास्थ्य, शिक्षा आदि जैसे क्षेत्रों में आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस यानी एआई को भी बढ़ावा मिलेगा। 

देश से और ख़बरें

पिचाई ने इंटरनेट साथी जैसे कार्यक्रमों की सफलता को साझा किया और दावा किया कि इसने भारत भर में 3 करोड़ से अधिक महिलाओं को डिजिटल कौशल सीखने और उन्हें अपने जीवन और समुदायों में शामिल करने में मदद की है। पिचाई ने अपने विजन डिजिटल इंडिया के कार्यान्वयन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी सराहना की जिन्होंने सस्ते स्मार्टफ़ोन, किफायती डाटा और विश्व स्तरीय दूरसंचार बुनियादी ढाँचे के माध्यम से एक अरब भारतीयों को इंटरनेट सुलभ कराया है।

इस बीच प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार सुबह ही सुंदर पिचाई के साथ वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से चर्चा की। प्रधानमंत्री ने इसको लेकर ट्वीट किया और लिखा, 'आज सुबह सुंदर पिचाई के साथ एक अत्यंत सकारात्मक बातचीत हुई। हमने कई विषयों पर बात की, विशेष रूप से भारत के किसानों, युवाओं और उद्यमियों के जीवन को बदलने के लिए उन्हें प्रौद्योगिकी की ताक़त देने के लिए।'

इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बातचीत के दौरान पिचाई और उन्होंने नई कार्य संस्कृति के बारे में बात की जो COVID-19 के समय में उभर रही है। उन्होंने कहा कि उन्होंने उन चुनौतियों पर चर्चा की जो वैश्विक महामारी ने खेल जैसे क्षेत्रों में ला दी है। उन्होंने डाटा सुरक्षा और साइबर सुरक्षा के महत्व के बारे में भी बात की।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें