loader
फ़ाइल फ़ोटो।

प्रवासियों की मौत: आलोचनाओं पर सरकार की सफ़ाई- आँकड़े जुटाने का कोई तंत्र नहीं

प्रवासी मज़दूरों की मौत का आँकड़ा नहीं होने की बात कहने के लिए विपक्ष की तीखी आलोचनाओं के बाद सरकार ने अब सफ़ाई दी है। इसने कहा है कि ऐसा आँकड़ा जुटाने के लिए ज़िलों में कोई मैकनिज़्म यानी तंत्र नहीं है। यह प्रतिक्रिया संसद में नहीं आई है, बल्कि आलोचनाओं के बाद श्रम मंत्रालय के अधिकारियों ने सफ़ाई दी है। अब ज़ाहिर है जब कोई तंत्र ही नहीं है तो फिर आँकड़ा कहाँ से इकट्ठा किया जाएगा। 

एक दिन पहले जब संसद के मानसून सत्र में जब यह सवाल पूछा गया था कि क्या लॉकडाउन में अपने-अपने घर वापस जाने के दौरान मारे गए प्रवासी मज़दूरों के परिवार वालों को हर्जाना दिया गया है तो केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने कहा था कि प्रवासी मज़दूरों की मौत का आँकड़ा ही नहीं है तो हर्जाना देने का सवाल ही नहीं उठता है। 

ताज़ा ख़बरें

सरकार के इसी जवाब पर विपक्ष ने हमला किया। राहुल गाँधी ने भी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'मोदी सरकार नहीं जानती कि लॉकडाउन में कितने प्रवासी मज़दूर मरे और कितनी नौकरियाँ गयीं। तुमने ना गिना तो क्या मौत ना हुई? हाँ मगर दुख है सरकार पे असर ना हुई, उनका मरना देखा ज़माने ने, एक मोदी सरकार है जिसे ख़बर ना हुई।'

सरकार की उस प्रतिक्रिया पर सवाल उठाए जा रहे थे कि क्या सरकार अपनी ज़िम्मेदारी लेने से पीछे हट रही है? क्या सरकार इसलिए मौत के ये आँकड़े नहीं दे रही है क्योंकि इन आँकड़ों के आधार पर सवाल ये उठाए जाते कि क्या मोदी सरकार का लॉकडाउन विफल साबित हुआ? 

विपक्ष के हमले के बाद सरकार की तरफ़ से एक और ऐसा बयान आया जिस पर हंगामा मचा। कल शाम ही सरकार ने एक अन्य जवाब में कहा कि लॉकडाउन की अवधि को लेकर फ़ेक न्यूज़ के कारण बड़े स्तर पर प्रवासी मज़दूरों का पलायन हुआ। हालाँकि सरकार की यह सफ़ाई किसी के गले नहीं उतरी। 

दरअसल, भारत में जब लॉकडाउन हुआ तो करोड़ों प्रवासी मज़दूरों की जान पर बन आई। भूखे रहे। हज़ारों किलोमीटर पैदल चले। कई लोगों ने तो रास्ते में दम तोड़ दिया। कई दुर्घटना में मारे गए। जब ट्रेनें शुरू हुईं तो ट्रेनों में भी मौत की रिपोर्टें आईं।

यह तब की बात है जब लाखों लोग शहरों में काम बंद होने के बाद जैसे-तैसे अपने घर पहुँचने की जद्दोजहद में थे। लॉकडाउन शुरू होने पर तो बड़ी संख्या में लोग पैदल ही अपने-अपने घरों के लिए निकल गए थे, लेकिन यह सख़्ती के बाद भी जारी रहा। काम बंद होने के कारण ग़रीब मज़दूरों को शहर में रहना ज़्यादा ही मुश्किल हो रहा था। ऐसे लोगों के पास सबसे बड़ा संकट खाने को लेकर था। भूखे रहने की नौबत आने पर कुछ लोग हज़ार-हज़ार किलोमीटर तक पैदल चलने के लिए जोखिम उठा रहे थे। हालाँकि, सरकारों ने अपनी-अपनी तरफ़ से खाने-पीने की व्यवस्था करने के दावे किए और सरकार ने राहत पैकेज की घोषणा भी की थी, लेकिन ऐसी लगातार रिपोर्टें आती रहीं कि ये नाकाफ़ी साबित हो रहे थे।

देश से और ख़बरें
हालाँकि अब जो सरकार की सफ़ाई आई है वह उसकी डैमेज कंट्रोल की कोशिश है। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, आधिकारिक सूत्रों ने कहा, 'किसी ज़िले में प्रवासी श्रमिकों की मौत पर डेटा जुटाने के लिए नगरपालिका स्तर पर कोई तंत्र मौजूद नहीं है। इस मुद्दे पर श्रम मंत्रालय के रुख पर सवाल उठाना अपरिपक्वता है।' इसके साथ ही श्रम मंत्रालय ने कोरोना संक्रमण के दौरान कल्याणकारी उपायों के लिए अपनी पीठ ख़ुद थपथपाई और दावा किया है कि सरकार ने मज़दूरों के कल्याण और रोज़गार के लिए अप्रत्याशित क़दम उठाए हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें