loader

सरकार का काम यह बताना नहीं है कि लोग क्या खाएं, क्या नहींः नकवी

दिल्ली के जहांगीरपुरी से लेकर कर्नाटक में हुबली और आंध्र प्रदेश के कुरनूल में साम्प्रदायिक तनाव के बीच केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि सरकार का काम यह बताना नहीं है कि लोग क्या खाएं और क्या नहीं खाएं। अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नकवी ने कहा कि भारतीयों को अपना फेथ (धार्मिक आस्था) मानने की आजादी है। उन्होंने हिजाब के मुद्दे पर कहा कि भारत में हिजाब पर कोई रोक नहीं है।

दक्षिणपंथी विचारधारा को मानने वाली मोदी सरकार के मंत्री नकवी के इंटरव्यू को द इकोनॉमिक टाइम्स ने प्रकाशित किया है।हालांकि पिछले दस दिनों से देश के तमाम राज्यों से साम्प्रदायिक हिंसा की खबरें लगातार आ रही हैं। इनमें बीजेपी शासित राज्य ज्यादा है। हनुमान जयंती पर शनिवार को नई दिल्ली में एक हिंदू धार्मिक जुलूस के दौरान हिंसक झड़पें हुईं, जिसमें छह पुलिसकर्मियों सहित कई लोग घायल हो गए।

ताजा ख़बरें
नकवी ने द इकोनॉमिक टाइम्स अखबार को बताया कि कुछ लोग देश में शांति और समृद्धि को पचा नहीं पा रहे हैं। भारत की मिलीजुली संस्कृति को बदनाम करने की कोशिश करते हैं। बता दें कि देश के कुछ हिस्सों में धार्मिक जुलूसों के दौरान बहुसंख्यक हिंदू और अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के बीच छोटी-छोटी बातों पर साम्प्रदायिक हिंसा की घटनाएं हुई हैं। दिल्ली में जेएनयू परिसर में रामनवमी के दौरान हॉस्टल में मांसाहारी भोजन परोसने पर विवाद हुआ। जिसमें कुछ छात्र-छात्राओं को मारा-पीटा गया। विवाद फैलाने का आरोप एबीवीपी पर लगा है। उसका कहना है कि विवाद के लिए वामपंथ समर्थक छात्र जिम्मेदार हैं।  नकवी ने इस सवाल पर कहा- 

लोगों को क्या खाना चाहिए या नहीं, यह बताना सरकार का काम नहीं है। देश में हर नागरिक को अपनी पसंद का खाना खाने की आजादी है।


-मुख्तार अब्बास नकवी, केंद्रीय मंत्री, द इकोनॉमिक टाइम्स में रविवार को

हाल के वर्षों में, पीएम मोदी के बीजेपी के शासन ने कट्टर धार्मिक समूहों को उन मुद्दों को उठाने के लिए प्रोत्साहित किया है, जिसमें वो कहते हैं कि वे हिंदू धर्म की रक्षा कर रहे हैं। कर्नाटक में मुस्लिम छात्राओं के हिजाब पहनकर कॉलेज-स्कूल जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया था।
भारत के 13 विपक्षी दलों ने शनिवार को सार्वजनिक रूप से चिंता व्यक्त की कि कई धार्मिक मान्यताओं वाले भारत में हिंदुओं का प्रभुत्व है, लेकिन 20 करोड़ से अधिक मुसलमानों सहित तमाम अल्पसंख्यकों के साथ, पीएम मोदी के शासन में सहिष्णुता कम होती जा रही है।

नकवी ने हिजाब के मुद्दे पर कहा कि भारत में हिजाब पर कोई प्रतिबंध नहीं है। कोई भी बाजारों और अन्य जगहों पर हिजाब पहन सकता है। लेकिन हर कॉलेज या संस्थान का एक ड्रेस कोड, अनुशासन और मर्यादा होती है। हमें इसे स्वीकार करना होगा। अगर आपको यह पसंद नहीं है, तो आप कर एक अलग संस्थान चुनें।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें