loader

कैबिनेट विस्तार से पहले बड़ी संख्या में राज्यपालों का तबादला और नियुक्ति 

मोदी कैबिनेट 2.0 का पहला विस्तार होने से पहले ही कई राज्यों के राज्यपालों का तबादला किया गया है और 8 राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति भी की गई है। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है। 

केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। गहलोत सामाजिक कल्याण और सशक्तिकरण मंत्रालय का काम देख रहे हैं और राज्यसभा में बीजेपी संसदीय दल के नेता भी हैं। 

केंद्र सरकार को 19 जुलाई से शुरू होने जा रहे संसद के मॉनसून सत्र से पहले ही किसी नेता को राज्यसभा के संसदीय दल के नेता की जिम्मेदारी देनी होगी। 

ताज़ा ख़बरें

इन राज्यपालों का हुआ तबादला

मिज़ोरम के राज्यपाल पीएस श्रीधरन पिल्लई को गोवा, हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा और त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस को झारखंड भेजा गया है। हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय अब हरियाणा के राज्यपाल का पद संभालेंगे जबकि हरि बाबू कंभमपति मिज़ोरम के राज्यपाल होंगे।

मंगूभाई छगनभाई पटेल को मध्य प्रदेश का और  राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है। 

एससी-एसटी व ओबीसी को अहमियत

कहा जा रहा है कि राज्यपालों की नियुक्ति और तबादलों में समाज के सभी वर्ग के लोगों को जगह दी गई है और इसमें एससी-एसटी और ओबीसी वर्ग के लोग बड़ी संख्या में हैं। 

इनमें थावर चंद गहलोत के अलावा राजेंद्र अर्लेकर, सत्यदेव नारायण आर्या और बेबी रानी मौर्य से लेकर फागू चौहान, अनुसूइया उइके, रमैश बैंस सहित कई नाम शामिल हैं। 

हरि बाबू कंभमपति बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं और मंगूभाई छगनभाई पटेल गुजरात बीजेपी के नेता हैं जबकि राजेंद्र अर्लेकर गोवा विधानसभा के पूर्व स्पीकर रहे हैं। 

देश से और ख़बरें

8 को हो सकता है विस्तार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा नए बनने वाले मंत्रियों की सूची को अंतिम रूप दे रहे हैं। माना जा रहा है कि यह विस्तार काफ़ी बड़ा होगा और इसमें 20 नए चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है जबकि कुछ मंत्रियों की छुट्टी भी हो सकती है। 8 जुलाई को सुबह 10.30 बजे विस्तार होने की बात कही जा रही है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने बीते दिनों कई केंद्रीय मंत्रियों से अलग-अलग मुलाक़ात की है और उनके विभागों की समीक्षा की है। 

पांच राज्यों के चुनाव 

मई, 2019 में दूसरी बार सरकार बनने के बाद से दो साल का वक़्त गुजर चुका है और अब तक केंद्रीय कैबिनेट का विस्तार नहीं हुआ है। लेकिन पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों को देखते हुए इसकी ज़रूरत समझी जा रही है और मोदी सरकार और बीजेपी व संघ इस काम में जुटे हुए हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में तीन बार कैबिनेट का विस्तार किया गया था। 

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में बीजेपी के दो बड़े सहयोगी छिटक कर जा चुके हैं। ये सहयोगी शिव सेना और शिरोमणि अकाली दल हैं। इनके मंत्रियों के इस्तीफ़े के अलावा भी दो दर्जन से ज़्यादा पद खाली पड़े हैं और कुछ वरिष्ठ मंत्रियों के पास ज़्यादा विभाग हैं।

2022 की शुरुआत में पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इनमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा शामिल हैं। उसके बाद साल के आख़िर में हिमाचल प्रदेश और गुजरात में भी विधानसभा के चुनाव होने हैं। बीजेपी और संघ जानते हैं कि इन राज्यों में फ़तेह हासिल करने के बाद ही 2024 का रास्ता आसान होगा। 

ये चेहरे हो सकते हैं शामिल

जिन चेहरों के कैबिनेट में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही हैं, उनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, एलजेपी सांसद पशुपति पारस का नाम चर्चा में है। एक और सहयोगी दल जेडीयू को भी दो मंत्री पद मिल सकते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें