loader

गुजरात, हिमाचल चुनाव: किसे मिलेगी सत्ता, नतीजों का इंतज़ार

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में बीजेपी की सत्ता बरकरार रहेगी या फिर सरकार बदलेगी, गुरुवार को चुनाव नतीजों से यह साफ़ हो जाएगा। दो चरणों में संपन्न हुए गुजरात विधानसभा और एक चरण में संपन्न हुए हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना गुरुवार को होगी। इसके साथ ही अलग-अलग विधानसभा की 6 और लोकसभा की एक सीट पर हुए उपचुनाव की मतगणना भी होगी। देर शाम तक सभी नतीजे आ जाने की उम्मीद है।

लेकिन सबसे पहले बात गुजरात विधानसभा चुनाव की। गुजरात के 182 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले गए हैं। यहाँ दो चरणों में मतदान हुआ। पहले चरण में 89 सीटों पर वोटिंग हुई, जबकि दूसरे चरण में 14 जिलों में 93 सीटों पर वोट डाले गए।

ताज़ा ख़बरें

इस चुनाव में कई बड़े चेहरे का भविष्य दाँव पर है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल घाटलोडिया से, हार्दिक पटेल वीरमगाम से, अल्पेश ठाकोर गांधीनगर दक्षिण से, कांग्रेस के महेंद्र सिंह बयाड़ से, बीजेपी के चंद्र सिंह राउलजी गोधरा से, कांग्रेस के जिग्नेश मेवानी वडगाम से, बीजेपी के कांतिलाल अमृतिया मोरबी से, बीजेपी की रिवाबा जडेजा जामनगर नॉर्थ से, आप के ईसुदान गढ़वी खंभालिया से, आप के ही गोपाल इटालिया कटारगाम से और कांग्रेस के अर्जुन मोढवाडिया पोरबंदर से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

27 वर्षों से गुजरात में सत्तारूढ़ भाजपा को इस बार कांग्रेस के साथ-साथ आम आदमी पार्टी से भी कड़ी चुनौती मिली है। समझा जाता है कि यह विधानसभा चुनाव एक त्रिकोणीय संघर्ष में बदल गया है। लेकिन मतदान बाद आए तमाम एग्ज़िट पोल बीजेपी की भारी जीत के दावे कर रहे हैं। 

टीवी9 भारत वर्ष ने अपने एग्जिट पोल में बीजेपी को 125-130 सीटों को अनुमान लगाया है। उसके मुताबिक बीजेपी को 47 फीसदी वोट मिल सकते हैं। इस सर्वे में कांग्रेस को 40-50 सीटें दी गई हैं और 35 फीसदी वोट मिलने की बात कही गई है। आप को 3-5 सीटें मिल सकती हैं और उसे 13 फीसदी वोटों से संतोष करना पड़ेगा।

इंडिया टुडे-एक्सेस माय इंडिया में बीजेपी को 131-151 सीटें दी गई हैं जो प्रचंड बहुमत का संकेत देता है। कांग्रेस को 60-30 सीटें मिलने की बात कही गई है। आप को अलबत्ता 9-21 सीटें मिल सकती हैं। यही एकमात्र सर्वे है जिसमें आप को ज्यादा सीटें दी जा रही हैं।

देश से और ख़बरें

हिमाचल में कांटे की टक्कर!

हिमाचल विधानसभा चुनाव के नतीजे भी गुरुवार को ही आएँगे। राज्य में चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी और कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंकी। बीजेपी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित बीजेपी शासित कई राज्यों के मुख्यमंत्री भी इस छोटे से राज्य में डेरा डाले रहे। जबकि कांग्रेस की ओर से राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने चुनाव प्रचार किया।

68 सीटों वाले हिमाचल प्रदेश में कई बड़े नेताओं का भविष्य दाँव पर है। बीजेपी के जयराम ठाकुर सिराज से, विक्रमादित्य सिंह शिमला ग्रामीण से, कांग्रेस के मुकेश अग्निहोत्री हरौली से, कांग्रेस के ही कुलदीप सिंह राठौर ठियोग से, कांग्रेस के सुखविंदर सिंह सुक्खू नादौन से, बीजेपी के सुरेश भारद्वाज कुसुम्पटी से बीजेपी के राजीव सैजल कसौली (सुरक्षित) से और बीजेपी के ही सुखराम चौधरी पावंटा साहिब से चुनाव मैदान में हैं। इन सबके भाग्य का फ़ैसला होगा। 

हिमाचल प्रदेश में 68 विधानसभा सीटों के लिए 12 नवंबर को मतदान हुआ था। चुनाव आयोग के अनुसार, राज्य में लगभग 76 फीसदी मतदान हुआ था।

2017 में, बीजेपी ने 44 सीटें जीतकर बहुमत का आंकड़ा पार किया था। कांग्रेस को 21 सीटें मिली थीं।

इस बार यहाँ दोनों दलों में कांटे की टक्कर बताई जा रही है। अधिकतर एग्ज़िट पोल में बीजेपी को आगे बताया गया है, जबकि एक पोल में कांग्रेस को ज़्यादा सीटें मिलती बताई गई हैं। इंडिया टुडे एक्सिस-माय इंडिया एग्जिट पोल ने भविष्यवाणी की है कि कांग्रेस हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव जीत सकती है, जबकि बीजेपी दूसरे नंबर पर रहेगी। बीजेपी को 24-34 और कांग्रेस को 30-40 सीटें मिल सकती हैं। आम आदमी पार्टी का खाता शायद ही खुले। अन्य को 4-8 सीटें मिल सकती हैं।

रिपब्लिक- एमएआरक्यू एग्जिट पोल ने भविष्यवाणी की है कि बीजेपी को 34 से 39 विधानसभा सीटें मिल सकती हैं। बहुमत के लिए 35 से ज्यादा सीटें चाहिए। इस एग्जिट पोल में कांग्रेस को 28 से 33 सीटें मिलने का अनुमान है। आप को 0-1 सीट, अन्य और निर्दलीयों को 1 से 4 सीटें मिल सकती हैं। न्यूज एक्स के सर्वे में बीजेपी की सरकार बनती दिखाई जा रही है। उसके एग्जिट पोल में बीजेपी को 32-40 और कांग्रेस को 27-34 सीटें मिलने की उम्मीद जताई गई है। अन्य को शून्य सीटों की उम्मीद जताई गई है। 

ख़ास ख़बरें

उपचुनाव के नतीजे

विधानसभा की 6 और लोकसभा की एक सीट के लिए मतगणना होगी। विधानसभा सीटों में उत्तर प्रदेश की रामपुर सदर और खतौली, ओडिशा की पदमपुर, राजस्थान की सरदारशहर, बिहार की कुढ़नी और छत्तीसगढ़ की भानुप्रतापपुर सीट शामिल हैं। उत्तर प्रदेश की मैनपुरी लोकसभा सीट पर भी वोट डाले गए हैं और इसका नतीजा भी गुरुवार को आएगा। 

मैनपुरी लोकसभा सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार रघुराज सिंह शाक्य और समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव आमने-सामने हैं। यह सीट समाजवादी पार्टी के संस्थापक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के निधन से खाली हुई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें