loader

हेयरस्टाइलिस्ट जावेद हबीब ने माफी मांगी लेकिन थूका क्यों, यह सवाल बरकरार

पुलिस ने बताया कि शिकायत उस महिला ने दर्ज कराई है जिसके बालों में कार्यशाला के दौरान हबीब ने थूके थे।पिछले सोमवार को हेयर स्टाइलिस्ट ने एक कार्यशाला आयोजित की थी। उसी दौरान यह घटना हुई। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से साझा किया गया, वहां जावेद हबीब की काफी आलोचना हुई।
वीडियो में हबीब दर्शकों से कहते सुनाई दे रहे हैं, ''अगर पानी की कमी है तो लार का इस्तेमाल करें।'' यह एक टेक्निकल टर्म है, जिसे हबीब जुबानी भी बता सकते थे लेकिन उन्होंने महिला के बालों में थूक कर बताया कि ऐसे करें।

ताजा ख़बरें

हबीब ने बाद में इस घटना के लिए माफ़ी मांगी लेकिन यह भी कहा कि वर्कशाप लंबी थी, लोगों को हंसाने के लिए उन्होंने इसे जोड़ा था।

वर्कशॉप के दौरान हबीब ने जिस महिला के बालों पर थूका, उसने सोशल मीडिया पर अपना अनुभव बयां किया है। ब्यूटी पार्लर चलाने वाली पूजा गुप्ता के साथ यह घटना हुई थी। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा "कल, मैंने जावेद हबीब की एक कार्यशाला में भाग लिया। उन्होंने मुझे बाल कटवाने के लिए मंच पर आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि अगर पानी नहीं है, तो आप लार का उपयोग कर सकते हैं। अब से, मैं बाल कटवाने के लिए अपने सड़क किनारे नाई के पास जाऊंगी , लेकिन हबीब के पास नहीं जाऊंगी।"

देश से और खबरें
राष्ट्रीय महिला आयोग ने उत्तर प्रदेश पुलिस से वीडियो की सत्यता की तुरंत जांच करने और उचित कार्रवाई करने को कहा है। आलोचना के बाद, जावेद हबीब ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी किया। जिसमें बताया गया कि उन्होंने ऐसा क्यों किया और अपने कार्यों के लिए माफी मांगी। उन्होंने कहा कि "मैं सिर्फ एक बात कहना चाहता हूं कि ये प्रोफेशनल वर्कशॉप होती हैं। हमारे पेशे के लोग इसमें भाग लेते हैं। जब ये सेशन बहुत लंबे हो जाते हैं, तो हमें उन्हें हंसाना पड़ता है। मैं क्या कह सकता हूं? यदि आप वास्तव में आहत हैं , मैं तहे दिल से माफी मांगता हूं। कृपया मुझे माफ कर दो, मुझे खेद है।" उन्होंने सोशल मीडिया पर यह वीडियो पोस्ट किया है।

पुलिस ने कहा कि जावेद हबीब पर भारतीय दंड संहिता और महामारी रोग अधिनियम, 1897 के अपमान के इरादे से हमला या आपराधिक बल से संबंधित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें