loader

मुसलमानों का नरसंहार वाले बयानों पर भड़के सेना व नेवी के पूर्व प्रमुख

हरिद्वार में हुई धर्म संसद में मुसलमानों के ख़िलाफ़ नफ़रती और भड़काऊ बयानबाज़ी के ख़िलाफ़ कई लोग सामने आए हैं। इन्होंने पंजाब में हुई मॉब लिंचिंग की घटनाओं का भी विरोध किया है। 

पूर्व नेवी चीफ़ रिटायर्ड अरुण प्रकाश ने सवाल पूछा है कि क्या हम सांप्रदायिक खूनी खेल खेलना चाहते हैं। उन्होंने कहा है कि इसे रोका क्यों नहीं जा रहा है। अरुण प्रकाश 1971 में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ हुई जंग के हीरो रहे हैं। उनके इस बयान के समर्थन में पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीपी मलिक भी आगे आए हैं। 

मलिक ने कहा कि इस तरह के भाषण सांप्रदायिक सौहार्द्र को बिगाड़ते हैं और राष्ट्रीय सुरक्षा पर भी असर डालते हैं। मलिक ने कहा कि इस मामले में कार्रवाई की जानी चाहिए। मलिक 1999 में कारगिल युद्ध के वक़्त सेना के प्रमुख थे। 

ताज़ा ख़बरें

रणनीतिक मामलों के विशेषज्ञ सुशांत सरीन ने धर्म संसद में हुई बयानबाज़ी को बेहूदा बताया और कहा कि यह  देश की सुरक्षा से खिलवाड़ है। 

मेजर जनरल रिटायर्ड यश मोर ने पंजाब में हुई लिंचिंग की घटनाओं की निंदा की है और कहा है कि हम दूसरा पाकिस्तान बनने जा रहे हैं। 

सोशल मीडिया पर इस मामले में जबरदस्त विवाद होने के बाद एफ़आईआर दर्ज की गई है। एफ़आईआर आरटीआई कार्यकर्ता साकेत गोखले की शिकायत पर दर्ज की गई है। एफ़आईआर में हिंदू धर्म अपना चुके वसीम रिज़वी उर्फ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी का नाम शामिल है। 

धर्म संसद हरिद्वार में 17 से 19 दिसंबर तक हुई। इसमें साधु-संतों के साथ ही हिंदू संगठनों से जुड़े लोग भी बड़ी संख्या में शामिल हुए। इस कार्यक्रम में बीजेपी के नेता अश्विनी उपाध्याय और उदिता त्यागी भी मौजूद रहे। उपाध्याय की सफाई आई है कि वे इस कार्यक्रम में सिर्फ़ 30 मिनट के लिए ही मौजूद रहे थे। 

देश से और ख़बरें

धर्म संसद में हिंदू रक्षा सेना के अध्यक्ष स्वामी प्रबोधानंद गिरी, महामडंलेश्वर साध्वी अन्नपूर्णा उर्फ पूजा शकुन पांडे, मुसलमानों के ख़िलाफ़ भड़काऊ बयानबाज़ी करने वाले यति नरसिंहानंद सरस्वती सहित कई लोगों ने ज़हरीली भाषणबाज़ी की। 

बीते कुछ महीनों में यह एक और घटना है, जिसमें मुसलमानों के ख़िलाफ़ नफ़रत को बढ़ावा दिया गया। इससे पहले त्रिपुरा में मसजिदों में आगजनी की घटना हुई, संसद से कुछ दूरी पर स्थित जंतर-मंतर पर मुसलमानों के ख़िलाफ़ ख़ूनी नारे लगाए गए। 

गुड़गांव में खुले में जुमे की नमाज़ का और दिल्ली के द्वारका में हज हाउस का विरोध भी हिंदू संगठनों के लोग कर चुके हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें