loader

'तांडव' से भावनाएँ आहत हुईं? सरकार से अमेज़ॉन प्राइम को समन

वेब सीरीज़ तांडव भी विवादों में फँस गई है। हिंदू की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का आरोप लगा है। शिकायत है कि हर बार हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया जाता है। शिकायत करने वाले दक्षिणपंथी विचार वाली पार्टी बीजेपी के विधायक और सांसद हैं। और अब सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने इस पर अमेज़ॉन प्राइम से जवाब भी माँग लिया है। भारत में अमेज़ॉन प्राइम के अधिकारियों को तलब किया गया है।

दरअसल, बीजेपी के सांसद मनोज कोटक की आपत्ति है कि अमेज़ॉन प्राइम वीडियो पर रिलीज हुई वेब सीरीज तांडव ने कथित तौर पर हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया है। उन्होंने तो सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को ख़त लिख दिया। वेब सीरीज़ को लेकर महाराष्ट्र बीजेपी विधायक राम कदम को भी ऐसी ही आपत्ति है। उन्होंने सीरीज़ को बनाने वाले, अभिनेताओं और निर्देशक के ख़िलाफ़ शिकायत दी है। अक्सर विवादों में रहने वाले बीजेपी के एक और नेता कपिल मिश्रा ने भी इस सीरीज को हिंदू धर्म के ख़िलाफ़ नफ़रत फैलाने वाला क़रार दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

वैसे, यह पहली बार नहीं है कि ओटीटी यानी ओवर द टॉप प्लेटफ़ॉर्म या फ़िल्मों पर हिंदू देवी-देवताओं को निशाना बनाए जाने का आरोप लगा है। इससे पहले हाल ही में नवंबर महीने में 'ए सूटेबल ब्वॉय' को लेकर ऐसी ही आपत्ति की गई थी। इस मामले में ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म नेटफ्लिक्स के ख़िलाफ़ मध्य प्रदेश के रिवा ज़िले में एफ़आईआर दर्ज कराई गई थी। ख़ुद को संस्कृति के स्वयंभू रक्षक मानने वालों को आपत्ति उस दृश्य पर थी जिसमें एक लड़का और लड़की को मंदिर में किस करते दिखाया गया था। 

बहरहाल, बीजेपी विधायक राम कदम ने तांडव सीरीज़ में ऐसे दृश्यों का ज़िक्र किया है जिसमें उन्होंने कहा कि भगवान शिव का मजाक उड़ाया गया है और उन्हें हटाने की मांग की। उन्होंने यह भी माँग की कि सीरीज़ में एक अन्य अभिनेता मोहम्मद जीशान अय्यूब माफी मांगें।

कदम ने अमेज़ॉन प्राइम और नेटफ्लिक्स जैसे ओटीटी द्वारा स्ट्रीम की गई सामग्री की समीक्षा के लिए सेंसर बोर्ड गठित करने के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का आह्वान किया। 

विधायक ने ट्वीट किया, 'फिल्मों और वेब सीरीज में हर बार हिंदू देवी-देवताओं का अपमान क्यों किया जाता है? तांडव सीरीज़ इसकी ताज़ा मिसाल है (और) सैफ अली ख़ान एक बार फिर ऐसी फ़िल्म या सीरीज़ का हिस्सा हैं जिसमें हिंदू भावनाओं को चोट पहुँचाई गई है।'

उन्होंने आगे कहा, 'शिव का मजाक उड़ाने वाले (दृश्यों) को हटाना होगा। अभिनेता जीशान अयूब और निर्देशक अली अब्बास जफर को माफी मांगनी होगी। जब तक जरूरी बदलाव नहीं किए जाते हैं, तब तक 'तांडव' का बहिष्कार किया जाएगा।'

बीजेपी के एक अन्य नेता कपिल मिश्रा ने भी इस सीरीज़ की आलोचना की। ये वही कपिल मिश्रा हैं जिनकी दिल्ली दंगे से पहले कथित तौर पर भड़काऊ बयान को लेकर आलोचना की जाती रही है। उन्होंने शनिवार को ट्वीट किया, 'चूँकि यह दिन ख़त्म होने को आया... हमारे धर्म और हमारे देवताओं के ख़िलाफ़ भारी नफरत फैलाने वाली, आतंकवादियों को हीरो बताने वाली और हमारे जवानों का मजाक उड़ाने वाली ऑनलाइन वेब सीरीज़ अभी भी उपलब्ध है... यह अभी भी चल रही है।'

उत्तर पूर्व मुंबई से बीजेपी सांसद मनोज कोटक ने सीरीज पर सवाल उठाते हुए कहा था लगातार वेब सीरीज के नाम पर हिंदू विरोधी सामग्री परोसी जा रही है। उन्होंने इस पर तुरंत रोक लगाई जाने की ज़रूरत बताई। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार शनिवार को प्रकाश जावड़ेकर को लिखे ख़त में कोटक ने कहा था कि ओटीटी यानी ओवर द टॉप प्लेटफ़ॉर्म पर हिंसा, ड्रग्स, गाली-गलौज, नफ़रत जैसी सामग्री परोसी जा रही है। 

जावड़ेकर को लिखे अपने पत्र में मनोज कोटक ने कहा, 

ऐसा लगता है कि तांडव के निर्माता (जानबूझकर) हिंदू देवताओं का मजाक उड़ा रहे हैं और हिंदू भावनाओं का अपमान कर रहे हैं।


मनोज कोटक द्वारा जावड़ेकर को लिखे ख़त का अंश

बता दें कि पिछले महीने ही केंद्र सरकार ने एमेज़ॉन प्राइम वीडियो जैसी सामग्री देने वाले प्लेटफ़ॉर्म और ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल को जावड़ेकर के मंत्रालय के अधीन कर दिया है। पहले डिजिटल सामग्री को नियंत्रित करने वाला कोई क़ानून नहीं था। केंद्र सरकार ने यह कार्रवाई तब की जब सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए उससे उस पर प्रतिक्रिया माँगी थी जिसमें ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म को नियमित करने के लिए एक स्वतंत्र नियामक की बात कही गई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें