loader

कोरोना जाँच के लिए छह नए टेस्टिंग किट्स

ऐसे समय जब रोज़ाना कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या साढ़े तीन लाख से ऊपर हो गई है, सरकार ने कोरोना जाँच के लिए छह नए किस्म के किट्स की इजाज़त दे दी है।

यानी अब मौजूदा आरटी-पीसीआर और रैपिड एंटीजेन टेस्ट के अलावा दूसरे छह उपकरणों से कोरोना की जाँच की जा सकेगी। ऐसे किट्स से हुई जाँच के नतीजों को सत्यापित करने की ज़रूरत नहीं होगी। 

केंद्र सरकार की एजेंसी इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रीसर्च ने कहा है कि कोरोना टेस्टिंग किट की उपलब्धता बढ़ाने और नए परीक्षण समाधान पेश करने के लिए यह कदम उठाया गया है। 

ख़ास ख़बरें
आईसीएमआर के इस कदम से यूरोप, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील की कई वैश्विक एजेंसियों और विश्व स्वास्थ्य संगठन की आपातकालीन इस्तेमाल लिस्ट में अधिसूचित एजेंसियों को लाभ मिलेगा, वे भारत में अपने टेस्टिंग किट बेच सकेंगी और भारतीय लैबोरेटरी उनका इस्तेमाल कर सकेंगी। 

टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट प्रोटोकॉल

बता दें कि तेज़ी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र केंद्रीय गृह मंत्रालय ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जो 1 अप्रैल से लागू हो गए। इसके तहत राज्यों से टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट प्रोटोकॉल का पालन करने को कहा गया है।

यह अजीब संयोग और विडंबना है कि कोरोना रोकने के लिए पहली बार लॉकडाउन लगाने का एक साल पूरा हो रहा है और संक्रमण एक बार फिर बढ़ रहा है, जबकि केंद्र सरकार ने उस समय इस पर बहुत ही जल्दी काबू पा लेने का दावा किया था। 

ICMR allows 6 new corona testing kits - Satya Hindi

इसके पहले केंद्र सरकार ने सभी राज्यों व केंद्र-शासित क्षेत्रों से कहा था कि कम से कम 70 प्रतिशत आरटी-पीसीआर जाँच होनी चाहिए, जहाँ इससे कम हों वहाँ आरटी-पीसीआर जाँच बढ़ाई जानी चाहिए। 

यह भी कहा है कि ज़िला प्रशासन को यह अधिकार होगा कि वे अपने आकलन के आधार पर कंटेनमेंट ज़ोन तय करें और उसे सही तरीके से लागू करें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें