loader

देश के अधिकतर हिस्से में 6-8 हफ़्ते लॉकडाउन रहे: ICMR प्रमुख

ऐसे हालात में जब देश के क़रीब 700 ज़िलों में से 533 ज़िलों में संक्रमण ख़तरनाक स्तर की तेज़ी से फैल रहा है तो क्या उपाए किए जाने चाहिए? सरकारी संस्था इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर के प्रमुख डॉ. बलराम भार्गव का कहना है कि देश के अधिकतर हिस्सों में 6-8 महीने लॉकडाउन होना चाहिए। वह न्यूज़ एजेंसी रायटर्स को दिए एक इंटरव्यू में बात कह रहे थे। उनका यह इंटरव्यू तब आया है जब दो दिन पहले ही केंद्र सरकार ने कहा है कि देश के 533 ज़िलों में पॉजिटिविटी रेट 10 फ़ीसदी से ज़्यादा है। 

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन प्रतिबंध उन सभी ज़िलों में लागू होना चाहिए जहाँ पॉजिटिविटी रेट यानी संक्रमण की दर परीक्षण किए गए लोगों के 10 प्रतिशत से ऊपर है। पॉजिटिविटी रेट से मतलब है कि जितने लोगों के सैंपल लिए गए उनमें से कितने लोग संक्रमित पाए गए। मिसाल के तौर पर 10 फ़ीसदी पॉजिटिविटी रेट का मतलब है कि 100 लोगों के सैंपल लिए गए तो उसमें से 10 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव की आई।

ताज़ा ख़बरें

डॉ. भार्गव की टिप्पणी पहली बार किसी एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी की ऐसी टिप्पणी है जिसमें संकट पर लगाम लगाने के लिए देश के बड़े हिस्से में लॉकडाउन लगाने की वकालत की गई है। लॉकडाउन लगाने से केंद्र और राज्य सरकारें बच रही हैं। ऐसा इसलिए कि देश की आर्थिक स्थिति ख़राब है। कोरोना की पहली लहर के दौरान आर्थिक स्थिति इतनी ख़राब हुई थी कि जीडीपी वृद्धि दर एक तिमाही में तो क़रीब 24 फ़ीसदी सिकुड़ गई थी यानी इतनी ग्रोथ रेट नेगेटिव रही थी। 

कई राज्यों ने कोरोना को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधों का सहारा लिया है। हालाँकि ज़्यादातर जगहों पर हफ़्ते या एक पखवाड़े के लिए ही लॉकडाउन लगाया गया है।

इस बीच डॉ. भार्गव ने कहा है, 'उच्च पॉजिटिविटी वाले ज़िले बंद ही रहने चाहिए। अगर वे 10 प्रतिशत पॉजिटिविटि रेट से 5 प्रतिशत पर आते हैं तो हम उन्हें खोल सकते हैं, लेकिन ऐसा होना ही होगा। यह स्पष्ट रूप से छह-आठ सप्ताह में नहीं होगा।' 

डॉ. भार्गव ने राजधानी दिल्ली का हवाला दिया जो सबसे बुरी तरह प्रभावित था और पॉजिटिविटी रेट क़रीब 35 प्रतिशत तक पहुँच गई थी। अब क़रीब यह दर गिरकर 17 प्रतिशत पहुँच गई है। भार्गव ने कहा कि, 'यदि दिल्ली को कल खोला जाता है, तो यह एक आपदा होगी।'

बता दें कि दो दिन पहले ही केंद्र ने कहा है कि देश के 533 ज़िलों में पॉजिटिविटी रेट 10 से ज़्यादा है। 5 प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट से ज़्यादा होने पर स्थिति बेहद ख़राब माना जाती है। केंद्र सरकार की ही रिपोर्ट कहती है कि देश के 90 फ़ीसदी हिस्से में उच्च पॉजिटिविटी रेट है।

icmr chief says most of india should be locked down for 6-8 weeks - Satya Hindi

पाँच राज्यों में 30 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी के मामले आ रहे हैं। केंद्र ने मंगलवार को कहा कि मध्य प्रदेश में 45 जिले, उत्तर प्रदेश में 38, महाराष्ट्र में 36, तमिलनाडु में 34, और बिहार में 33 ज़िलों में 10 प्रतिशत से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट है। 

आठ राज्यों में 20 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी रेट है- कर्नाटक में 28, राजस्थान में 28, ओडिशा में 27, छत्तीसगढ़ में 24, गुजरात में 23, हरियाणा में 22, पश्चिम बंगाल में 22, और असम में 20 ज़िले। अन्य आठ राज्यों में 10 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी रेट है- झारखंड में 18, पंजाब में 18, केरल में 14, अरुणाचल प्रदेश में 13, आंध्र प्रदेश में 12, हिमाचल प्रदेश में 12, उत्तराखंड में 12 और दिल्ली में 11 ज़िले।

देश से और ख़बरें
पॉजिटिविटी रेट से अलग भी देखें तो हालात बेहद ख़राब दिखते हैं। 13 राज्यों में 1-1 लाख से ज़्यादा सक्रिए मामले हैं। 6 राज्यों में 50 हज़ार से 1 लाख के बीच सक्रिए मामले हैं। 17 राज्यों में 50 हज़ार से कम सक्रिए केस हैं। देश में कुल सक्रिए मामले क़रीब 37 लाख हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें