loader

कोरोना: 1 लाख से 2 लाख केस पहुँचने में लगे सिर्फ़ 10 दिन

कोरोना संक्रमण इस बार कितनी तेज़ी से फैला है? आँकड़े चौंकाते हैं। 4 अप्रैल को पहली बार एक दिन में 1 लाख से ज़्यादा केस आए थे और 14 अप्रैल को एक दिन में 2 लाख से ज़्यादा केस हो गए। इसे कितनी रफ़्तार से फैलना कहेंगे!

भारत में पिछले साल 30 जनवरी को पहली बार कोरोना संक्रमण का मामला आया था। हर रोज़ संक्रमण के मामले घटते-बढ़ते रहे, लेकिन पहली बार एक दिन में एक लाख से ज़्यादा केस आने में 1 साल दो महीने लगे। यानी क़रीब 425 दिन। हर रोज़ अब एक लाख से दो लाख के पहुँचने में सिर्फ़ दस दिन लगे। 

इसकी रफ़्तार मापने का एक और पैमाना हो सकता है। पहली लहर और दूसरी लहर में तुलना की जाए। यह देखने के लिए सबसे पहले कोरोना की पहली लहर और दूसरी लहर के बीच के अंतर को समझना होगा। 

ताज़ा ख़बरें

पिछले साल 30 जनवरी को देश में कोरोना का पहला मामला आया था और सितंबर में यह अपने चरम पर था। इसके बाद संक्रमण के मामले कम होने शुरू हो गए और इस साल 8-9 फ़रवरी तक ऐसा ही चला। इसके बाद संक्रमण के मामले बढ़ने लगे। यानी कह सकते हैं कि यही वह दौर था जब कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत हुई। 

यानी दूसरी लहर के शुरू होने के साथ इस साल 9 फ़रवरी को 10 हज़ार केस थे। अब पहली लहर से इसकी तुलना कर देखें। पिछली लहर में 10 हज़ार संक्रमण के मामले 6 जून को आए थे। यह शिखर पर 11 सितंबर को था जब क़रीब 97 हज़ार केस आए थे। इसके लिए क़रीब 97 दिन लगे। अब इस लहर में संक्रमण के मामले 9 फ़रवरी को 10 हज़ार से 4 अप्रैल को 97 हज़ार को पार करने में क़रीब 56 दिन लगे, लेकिन दो लाख को पार करने में कुल मिलकार 66 दिन लगे। 

अब हालात ये हैं कि पिछले एक पखवाड़े से संक्रमण के मामले बढ़ने में इतनी तेज़ी आई है कि क़रीब तीन गुना मामले बढ़ गए हैं। 31 मार्च को एक दिन में संक्रमण के मामले क़रीब 72 हज़ार आए थे। लेकिन अब 14 दिनों बाद एक दिन में 2 लाख से ज़्यादा केस हैं। 

india daily coronavirus case speed - Satya Hindi
आँकड़े वर्ल्ड ओ मीटर्स इंफो से साभार।
ऐसी ही स्थिति मौत के मामलों में भी है। फ़रवरी के मध्य में जहाँ हर रोज़ मौत के मामले 100 से भी नीचे आने लगे थे वे अब बढ़कर हर रोज़ 1000 से ज़्यादा हो गए हैं।

बता दें कि देश में अब तक कोरोना से 1 लाख 73 हज़ार 123 लोगों की मौत हो चुकी है। कुल संक्रमण के मामले 1 करोड़ 40 लाख 74 हज़ार से ज़्यादा हो गए हैं। अब तक 1 करोड़ 24 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। देश भर में फ़िलहाल 14 लाख 71 हज़ार से ज़्यादा सक्रिये मामले हैं। 

देश से और ख़बरें

बहरहाल, देश में सबसे ज़्यादा मामले महाराष्ट्र से आए हैं। इसके अलावा उत्तर प्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, केरल, तमिलनाडु, गुजरात और राजस्थान में भी रिकॉर्ड मामले आ रहे हैं। 

india daily coronavirus case speed - Satya Hindi

'अप्रैल में शिखर पर होगी दूसरी लहर'

कोरोना संक्रमण के मामलों में जो तेज़ी आई है वह इस महीने यानी अप्रैल के दूसरे पखवाड़े में अपने शिखर पर होगी। यानी हर रोज़ कोरोना संक्रमण के मामले अप्रैल तक बढ़ते रहने के आसार हैं। स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया यानी एसबीआई ने पिछले महीने ही एक रिपोर्ट में यह आशंका जताई थी। 

कितने दिन तक कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर रहेगी, इसकी संभावना भी रिपोर्ट में दी गई है। रिपोर्ट का अनुमान है कि दूसरी लहर 100 दिन तक रह सकती है। दूसरी लहर को 15 फ़रवरी से गिना जा सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें