loader

कोरोना: 24 घंटों में संक्रमण के 3,48,421 मामले, रिकॉर्ड 4,205 लोगों की मौत

देश में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों ने एक बार फिर रफ़्तार पकड़ी है और बीते 24 घंटों में संक्रमण के 3,48,421 मामले सामने आए हैं। जबकि बीते दिन यह आंकड़ा 3,29,942 था। इस दौरान मौतों की संख्या भी बढ़ी है और बीते 24 घंटों में यह आंकड़ा 4,205 रहा है जबकि बीते दिन यह आंकड़ा 3,876 था। मौतों का यह आंकड़ा अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है। 

सबसे ज़्यादा मौतें महाराष्ट्र (793) में दर्ज की गईं, उसके बाद कर्नाटक में (480) मौतें हुई हैं। संक्रमण के भी सबसे ज़्यादा मामले महाराष्ट्र (40,956) से सामने आए और इसके बाद कनार्टक में 39,510, केरल में 37,290, तमिलनाडु में 29,272 और उत्तर प्रदेश में 20,445 मामले दर्ज किए गए। संक्रमण के कुल मामलों में इन राज्यों की हिस्सेदारी 48.06% रही। 

ताज़ा ख़बरें

भारत में अब तक कोरोना महामारी से 2,54,197 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि एक्टिव मामलों की संख्या 37,04,099 है। 

गांवों में हालात ख़राब

इस सबके बीच, उत्तर प्रदेश और बिहार के गांवों में कोरोना संक्रमण के फैलने और इनसे हो रही मौतों को लेकर दहशत का माहौल है। हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड के गांवों में भी कोरोना का संक्रमण फैल चुका है लेकिन टेस्टिंग और ज़रूरी स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में पता नहीं चल पा रहा है कि आख़िर कितने लोग कोरोना से संक्रमित हैं और कितने लोगों की मौत इस महामारी से हो रही है। 

देश से और ख़बरें

गांवों में लोग खांसी-बुखार से परेशान हैं। बदन-सिरदर्द के कारण बुरा हाल है, लक्षण सारे कोरोना वाले ही हैं लेकिन एक तो स्वास्थ्य महकमे की लापरवाही और दूसरा कोरोना को लेकर डर, इस वजह से न तो स्वास्थ्य महकमा लोगों तक जल्दी पहुंचता है और न ही लोग जल्दी अस्पताल जाते हैं और इसी वजह से हालात बिगड़ रहे हैं। 

पाबंदियां जारी

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए 26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पाबंदियां लगाई गई हैं। तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, राजस्थान, बिहार, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और महाराष्ट्र में पूरी तरह लॉकडाउन लगाया गया है जबकि गुजरात, तेलंगाना, असम और हिमाचल प्रदेश में प्रतिबंध लगाए गए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें