loader

ईरान का दावा खारिज; बैठक में नहीं उठा था पैगंबर पर टिप्पणी का मुद्दा: केंद्र

भारत सरकार ने आज इस बात से इनकार किया है कि ईरान के मंत्री ने सत्तारूढ़ बीजेपी सदस्यों द्वारा पैगंबर मुहम्मद पर विवादास्पद टिप्पणी का मुद्दा उठाया था। विदेश मंत्रालय ने इस बात पर जोर दिया कि दोनों विदेश मंत्रियों के बीच बैठक के दौरान ऐसा कुछ नहीं हुआ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने मीडिया से रूबरू होते हुए ईरानी बयान की रिपोर्टों के जवाब में कहा, 'ईरानी बयान को हटा दिया गया है।' अधिकारी ने कहा, 'यह मुद्दा विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ चर्चा के दौरान नहीं उठाया गया था। हमने यह स्पष्ट कर दिया है कि ट्वीट और टिप्पणियाँ सरकार के विचारों को व्यक्त नहीं करती हैं। यह देशों को अवगत कराया गया है और तथ्य यह है कि कार्रवाई की गई है।'

ताज़ा ख़बरें

भारत के विदेश मंत्रालय का यह बयान तब आया है जब इससे पहले पीटीआई ने ईरानी विदेश मंत्रालय के बयान के हवाले से रिपोर्ट दी थी, 'भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने इसकी पुष्टि की कि भारत सरकार और अधिकारी पैगंबर मुहम्मद का सम्मान करते हैं और कहा कि दोषियों से सरकार और संबंधित स्तरों पर इस तरह से निपटा जाएगा कि दूसरे भी सबक लेंगे।' 

रिपोर्ट के अनुसार ईरान के विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा था, 'ईरानी विदेश मंत्री ने मुसलमानों की धार्मिक पवित्रता के प्रति संवेदनशीलता पर गंभीरता से ध्यान देने का आह्वान किया। अमीर अब्दुल्लाहियन ने कहा कि मुसलमान दोषियों से निपटने में भारतीय अधिकारियों के रुख से संतुष्ट हैं।'

एक ईरानी बयान में दावा किया गया था कि उसके विदेश मंत्री होसैन अमीर अब्दुल्लाहियन ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ एक बैठक में विवादास्पद टिप्पणी उठाई थी।

देश से और ख़बरें

ईरान के विदेश मंत्री ने भी बुधवार को ट्वीट कर कहा था, 'हमारे द्विपक्षीय रणनीतिक वार्ता को आगे बढ़ाने के लिए पीएम मोदी, एफएम जयशंकर और अन्य भारतीय अधिकारियों से मिलकर खुशी हुई। तेहरान और नई दिल्ली पवित्र धर्मों और इसलामी पवित्रताओं का सम्मान करने और विभाजनकारी बयानों से बचने की आवश्यकता पर सहमत हैं। संबंधों को नई ऊंचाइयों पर लाने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।' 

पीटीआई ने ईरानी बयान के हवाले से कहा था कि अब्दुल्लाहियन ने पैगंबर पर 'अपमानजनक' टिप्पणियों से उत्पन्न 'नकारात्मक माहौल' का मुद्दा उठाया था और भारतीय पक्ष ने इस्लाम के संस्थापक के लिए भारत सरकार के सम्मान को दोहराया। बयान में यह भी कहा गया था कि ईरानी विदेश मंत्री ने देश में विभिन्न धर्मों के अनुयायियों के बीच ऐतिहासिक मित्रता का भी उल्लेख किया। समझा जाता है कि अब उस ईरानी बयान को हटा लिया गया है।

ख़ास ख़बरें
बता दें कि बीजेपी ने पैगंबर पर टिप्पणियों को लेकर रविवार को अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा को निलंबित कर दिया और पार्टी की दिल्ली इकाई के मीडिया प्रमुख नवीन जिंदल को निष्कासित कर दिया है। बीजेपी की इस कार्रवाई के बीच ही बीजेपी नेताओं की टिप्पणियों को लेकर कम से कम 15 इस्लामी देशों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। इसमें सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, इंडोनेशिया, जॉर्डन, बहरीन, मालदीव, मलेशिया, ओमान, इराक और लीबिया जैसे देश शामिल थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें