loader
भारत में पिछले दिनों बिहार में एक मस्जिद पर भगवा झंडा फहरा दिया गया

भारत ने धार्मिक आजादी पर अमेरिकी रिपोर्ट खारिज की, यूएस में गन हिंसा याद दिलाई

भारत में अल्पसंख्यकों पर हमलों की अमेरिकी रिपोर्ट पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, भारत सरकार ने शुक्रवार को रिपोर्ट को खारिज कर दिया। अमेरिकी अधिकारियों ने "दुर्भावनापूर्ण टिप्पणियों" और "वोट बैंक की राजनीति" का आरोप बीजेपी सरकार पर लगाया। भारत सरकार ने कहा कि अमेरिकी मूल्यांकन "प्रेरित इनपुट और पक्षपातपूर्ण विचारों" पर आधारित है।

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हमने अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर यूएस स्टेट डिपार्टमेंट 2021 रिपोर्ट जारी करने और वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारियों द्वारा गलत सूचना देने वाली टिप्पणियों को नोट किया है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अंतरराष्ट्रीय संबंधों में वोट बैंक की राजनीति को देखा जा रहा है। हम आग्रह करेंगे कि मूल्यांकन में पक्षपाती विचारों से बचा जाना चाहिए।

ताजा ख़बरें
उन्होंने कहा, एक स्वाभाविक बहुलतावादी समाज के रूप में, भारत धार्मिक स्वतंत्रता और मानवाधिकारों को महत्व देता है। अमेरिका के साथ हमारी चर्चा में, हमने वहां नस्लीय और जातीय रूप से प्रेरित हमलों, घृणा अपराधों और बंदूक हिंसा सहित कई मुद्दों को नियमित रूप से उजागर किया है। यानी भारत ने यह कहने की कोशिश है कि अमेरिका में भी तो नस्लीय हमले होते हैं, वहां गन कल्चर है। अंदाजा लगाया जा सकता है कि भारत ने किस तरह अपना बचाव किया है।

अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी विदेश विभाग की 2021 की रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि भारत में अल्पसंख्यक समुदायों पर हमले, जिनमें हत्याएं, हमले और डराना-धमकाना शामिल है, पूरे साल जारी रहे।

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट एंटनी ब्लिंकन द्वारा जारी की गई रिपोर्ट, भारत सहित दुनिया भर में धार्मिक स्वतंत्रता की स्थिति और उल्लंघन के बारे में बात करती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में धर्मस्थलों पर भी हमले हुए हैं। ब्लिंकन ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों और महिलाओं को पाकिस्तान, अफगानिस्तान और चीन में भी निशाना बनाया जा रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों पर हमले, हत्याएं, डराने धमकाने की घटनाएं साल भर होती रही। ऐसी घटनाओं में गौ हत्या या गौ मांस के व्यापार को लेकर गौ रक्षकों द्वारा गैर हिंदुओं पर हमले किए गए। 

रिपोर्ट में  रिपोर्ट में आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान को भी शामिल किया गया है जिसमें भागवत ने कहा था कि भारत में हिंदुओं और मुसलमानों का डीएनए एक है और इन्हें धर्म के आधार पर अलग-अलग नहीं किया जाना चाहिए। अमेरिकी विदेश मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में पुलिस ने मीडिया या सोशल मीडिया में हिंदुओं या हिंदू धर्म के खिलाफ टिप्पणी करने पर गैर हिंदुओं को गिरफ्तार कर लिया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें