loader

अमेरिका ने साफ कहा, ऑकस में भारत को शामिल नहीं करेंगे

ऐसे समय जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका यात्रा पर हैं, वॉशिंगटन ने साफ कर दिया है कि भारत को ऑकस यानी ऑस्ट्रेलिया-यूके-अमेरिका सैन्य संगठन में शामिल नहीं किया जाएगा। 

मोदी थोड़ी देर बाद ही अमेरिका की उप राष्ट्रपति कमला हैरिस व ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन से मुलाक़ात करेंगे। वे जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा से भी मिलेंगे।

अमेरिका के राष्ट्रपति भवन ह्वाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने पत्रकारों से बात करते हुए गुरुवार को स्पष्ट किया कि भारत और जापान को इस संधि में शामिल करने की कोई योजना नहीं है।

ख़ास ख़बरें

क्या है ऑकस?

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका व ब्रिटेन ने एक संधि की है, जिसके तहत ऑस्ट्रेलिया अमेरिकी प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियाँ बनाएगा। 

इसके अलावा उसे आर्टिफ़िशियल इटेलीजेंस से चलने वाले हथियार बनाने की तकनीक भी मिलेगी।

साकी ने पत्रकारों से कहा,

राष्ट्रपति जो बाइडन ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को संकेत दिया है कि हिन्द- प्रशांत की सुरक्षा के लिए बने इस संगठन में किसी और को शामिल नहीं किया जाएगा।


जेन साकी, प्रेस सचिव, ह्वाइट हाउस

जॉकस?

जब उनसे पूछा गया कि क्या जापान या भारत के लिए कोई सैन्य संधि नहीं होगी, इस पर साकी ने मजाक करते हुए पूछा, "ऑकस, फिर यह क्या हो जाएगा, जॉकस या जायऑकस।" 

यह सवाल इसलिए उठ रहा है कि ऑकस के गठन के बाद ऑस्ट्रेलिया ने पनडुब्बियाँ बनाने के लिए फ्रांस को पहले से दिया हुआ ऑर्डर रद्द कर दिया।

India-US : india not in AUKUS - Satya Hindi
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन

क्वैड

भारत और ऑस्ट्रेलिया का मुद्दा इसलिए उठ रहा है कि क्वैड में ये देश भी हैं। क्वैड यानी क्वाडिलैटरल स्ट्रैटेजिक डायलॉग्स में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया के अलावा जापान और भारत भी हैं।

इस संगठन को राजनीतिक व क्षेत्रीय संगठन कहा जा रहा है, हालांकि पर्यवेक्षकों का कहना है कि यह चीन को दक्षिण चीन सागर में रोकने के लिए बनाया गया संगठन है ताकि बीजिंग हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में अपना विस्तार न कर सके।

मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान ही क्वैड की बैठक होगी, जिसमें चारों देशों के राष्ट्र प्रमुख भाग लेंगे। इसमें अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा शिरकत करेंगे।

फिर सवाल यह है कि जापान और भारत को क्यों ऑकस से बाहर रखा गया है?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें