loader

भारतीय सैनिकों के बुलेट- प्रूफ़ जैकेट में लगते हैं चीनी सामान? 

क्या आपको पता है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी सैनिकों का मुक़ाबला करने के लिए तैनात भारतीय सेना के जवान जो बुलेट-प्रूफ़ जैकेट पहनते हैं, उसमें चीन से आयातित उपकरण लगे होते हैं? सच तो यह है कि भारतीय सेना के लिए चीन में बने सामान का इस्तेमाल नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों के अनुकूल ही है। सरकार ने ही इस तरह के उपकरण और दूसरी चीजें चीन से खरीदने की अनुमति दे रखी है। 
इंडियन एक्सप्रेस ने एक ख़बर में कहा है कि लेह में अग्रिम पंक्ति पर तैनात सैनिकों के लिए तुरन्त 2 लाख बुलेट प्रूफ़ जैकेट व दूसरे प्रोटेक्टिव उपकरणों की ज़रूरत है। 
देश से और खबरें

बुलेट प्रूफ़ जैकेट में चीनी सामान

इन बुलेट प्रूफ़ जैकेट और दूसरे उपकरण बनाने वाली कंपनियाँ कच्चा माल और उपकरण चीन से खरीदती हैं।
चीन से ये चीजें आयात करने वालों में वह कंपनी भी शामिल है, जिसे 2017 में 1.86 लाख बुलेट प्रूफ़ जैकेट देने का ठेका दिया गया था। वह ठेका अब पूरा होने को है और जैकेट की आपूर्ति होने वाली ही है। बुलेट प्रूफ़ जैकेट का यह 639 करोड़ रुपए का ठेका एसएमपीपी लिमिटेड को दिया गया था। 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में कहा है कि सेना के लिए प्रोटेक्टिव उपकरण में चीन से आयातित कच्चे माल या उपकरण के इस्तेमाल पर रोक नहीं लगाई गई है।

क्या कहना है नीति आयोग का?

लेकिन अब, इस नीति पर पुनर्विचार किया जा रहा है। नीति आयोग के सदस्य व डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) के पूर्व प्रमुख वी. के. सारस्वत ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि दूरसंचार व सैनिकों के लिए प्रोटेक्टिव उपकरण जैसे मामलों में चीनी आयात को प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए। 
उन्होंने कहा, 'हमने बुलेट प्रूफ जैकेट जैसे उपकरणों में चीन से आयातित कच्चे माल के इस्तेमाल को एक साल पहले ही निरुत्साहित किया। जिस कंपनी को ठेका मिल चुका था, हमने उससे भी कहा कि वह हर चीज की जाँच ख़ुद करे।'
पीएचडी चैंबर ऑफ़ कॉमर्स ने शनिवार को इस मुद्दे पर एक चिट्ठी रक्षा उत्पादन विभाग को लिखी। इसमें कहा गया है कि 'चीनी उत्पादों का परित्याग किया जाना चाहिए।'

चीनी आयात पर रोक

इस ख़त में बुलेट प्रूफ़ जैकेट में इस्तेमाल होने वाले हाइ परफ़ॉर्मेंस पॉलिथिलीन (एचपीपीई) के चीन से आयात करने का मुद्दा खास तौर पर उठाया गया है। चैंबर ने चिट्ठी में कहा है कि चीन से होने वाले आयात की वजह से बहुत बड़ी रकम में विदेशी मुद्रा खर्च होती है। चीन से आयात पर रोक लगनी चाहिए ताकि हमारे सैनिकों की सुरक्षा पर कोई आँच न आए। 
एचपीपीई के अलावा फैब्रिक, बोरोन कार्बाइड और सेरामिक्स का आयात भी चीन से होता है, जिसका इस्तेमाल इन जैकेट में किया जाता है। 

वैकल्पिक आयात

सेना को बुलेट प्रूफ़ जैकेट की आपूर्ति करने वाली कंपनी एसएमपीपी प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक एस. सी. कंसल ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'हाँ, हम इन उत्पादों के लिए चीन पर निर्भर हैं, पर हम देश की भावनाओं को समझते हुए वैकल्पिक आयात पर विचार कर रहे हैं। हम इसके लिए डीआरडीओ पर निर्भर हैं।'
एक दूसरे सप्लायर स्टार वायर इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक महेंद्र गुप्ता ने भी कहा कि चीन से सामान आयात किया जाता है, पर भारतीय सैनिकों की शहादत को देखते हुए अब यह देखना होगा कि चीन से आयात की कितनी अनुमति है। 

क़रार रद्द

इसके पहले ही भारतीय रेलवे ने चीनी कंपनी के साथ हुए एक क़रार को रद्द कर दिया। यह क़रार 2016 में हुआ था। इससे पहले केंद्र सरकार ने बीएसएनएल से कहा था कि वह चीन में बने उपकरणों का इस्तेमाल न करे। यह क़रार चीन की कंपनी बीजिंग नेशनल रेलवे रिसर्च एंड डिजाइन इंस्टीट्यूट ऑफ़ सिग्नल एंड कम्युनिकेशन ग्रुप कंपनी लिमिटेड के साथ हुआ था। 
देश के कुछ हिस्सों से ख़बरें आ रही हैं कि वहाँ चीनी सामानों को नष्ट किया जा रहा है, उनकी होली जलाई जा रही है। इस सबको देखकर लगता है कि लोगों के मन में चीन के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त गुस्सा है, क्योंकि उसने न केवल हमारी ज़मीन पर कब्ज़ा कर लिया है, बल्कि हमारे 20 से भी ज़्यादा सैनिकों को मार डाला है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें