loader
फ़ोटो क्रेडिट - https://www.indianarmy.nic.in/

भारत-चीन के सैनिकों के बीच हुई 100-200 राउंड फ़ायरिंग, तनाव बरकरार

ड्रैगन के साथ सीमा पर चल रहे तनाव के बीच दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प की लगातार ख़बरें आ रही हैं। गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों ने सैन्य, कूटनीतिक स्तर पर वार्ता जारी रखी है लेकिन लगता है कि ड्रैगन पैंगोंग त्सो झील के इलाक़े से पीछे हटने को तैयार नहीं है और लगातार उकसावे की कार्रवाई कर रहा है। इसे लेकर सीमा पर तनाव बरकरार है। 

ताज़ा ख़बर यह आई है कि 10 सितंबर को जब भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर और उनके चीनी समकक्ष वांग ई की मॉस्को में मुलाक़ात हुई थी, तो उससे पहले पैंगोंग त्सो के उत्तरी इलाक़े में दोनों देशों के सैनिकों के बीच फ़ायरिंग हुई थी। 

ताज़ा ख़बरें

इस घटना से वाक़िफ सरकार के एक आला अधिकारी ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया कि फ़ायरिंग की यह घटना उस वक्त़ हुई जब दोनों देशों के सैनिकों की ओर से पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी इलाक़े की चोटियों पर हावी होने की कोशिश की जा रही थी। अफ़सर ने बताया कि हवा में दोनों ओर से 100 से 200 गोलियां दागी गईं। 

45 साल बाद चली गोली

इससे पहले भारत और चीन के बीच चुशूल के इलाक़े में भी मुखपारी की चोटियों पर फ़ायरिंग की घटना हुई थी। अफ़सरों का कहना है कि 45 साल में यह पहली बार हुआ है जब एलएसी पर गोलियां चली हैं। अफ़सर ने अख़बार से कहा कि सितंबर के पहले हफ़्ते में पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी और दक्षिणी इलाक़े में काफ़ी मूवमेंट रहा और फ़ायरिंग की कई घटनाएं हुईं। 

चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी के जवानों ने 29-30 अगस्त की रात को पैंगोंग त्सो झील के इलाक़े में भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश की थी। इसके बाद पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी किनारे पर काला टॉप और हेलमेट टॉप आदि चोटियों पर भारतीय सैनिकों द्वारा कब्जा जमा लेने के बाद चीनी सेना तिलमिलाई हुई है। 

अख़बार के मुताबिक़, पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी इलाक़े में भारत और चीन के जवान एक-दूसरे से सिर्फ़ 300 मीटर की दूरी पर हैं। इसी तरह उत्तरी इलाक़े में, जहां फ़ायरिंग की घटना हुई, दोनों देशों के सैनिक एक-दूसरे से 500 मीटर की दूरी पर तैनात हैं।

चीनी विदेश मंत्री के साथ हुई बैठक में एस. जयशंकर ने स्पष्ट रूप से कहा था कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीनी सेना द्वारा की गई भारी सैन्य तैनाती के पीछे कोई कारण नहीं था और यह बेहद चिंताजनक है। उन्होंने यह भी कहा था कि एलएसी पर भारी संख्या में चीनी सैनिकों की जमावट 1993 और 1996 के विश्वास निर्माण समझौतों के विपरीत है और इससे संघर्ष की स्थिति पैदा हुई है। 

भारत की ओर से यह बार-बार कहा गया है कि वह सीमा पर शांति का पक्षधर है लेकिन क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के साथ किसी भी क़ीमत पर कोई समझौता नहीं होगा। 

इस विषय पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार स्मिता शर्मा की रॉ के पूर्व अतिरिक्त सचिव जयदेव रानाडे के साथ चर्चा। 

मीडिया में आ रही ख़बरों में भी दिखाया जा रहा है कि भारत की ओर से भी चीन को जवाब देने के लिए सीमा पर जवान, युद्ध के साजो-सामान की तैनाती की जा रही है। सीमा पर भारतीय लड़ाकू विमान लगातार उड़ान भर रहे हैं और भारत ने चीन को स्पष्ट संदेश दिया है कि यथास्थिति को बदलने की उसकी किसी भी नापाक हरक़त का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। 
देश से और ख़बरें

रक्षा मंत्री का स्पष्ट संदेश 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी चीनी रक्षा मंत्री के साथ हुई मुलाक़ात के बाद 15 सितंबर को संसद में कहा कि 6 जून को दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए थे कि एलएसी को माना जाएगा लेकिन 15 जून को चीन की ओर से हिंसक झड़प की स्थिति बनाई गई। राजनाथ सिंह ने स्पष्ट रूप से कहा, ‘चीन को बता दिया गया है कि इस तरह की गतिविधियां एलएसी पर यथास्थिति को बदलने का प्रयास है और यह भारत को किसी भी स्थिति पर मंजूर नहीं है।’ 

राजनाथ सिंह ने कहा था कि चीन की वजह से कई बार एलएसी के आसपास झड़प की स्थिति पैदा हुई है। उन्होंने कहा कि हालांकि इस बार की स्थिति पहले से बहुत अलग है लेकिन हम फिर भी मौजूदा हालात का शांतिपूर्ण हल चाहते हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें