loader

कोरोना वैक्सीन के दुष्प्रभाव पर अस्पताल का ख़र्च बीमा के दायरे में!

कोरोना वैक्सीन लगवाने पर यदि कोई दुष्प्रभाव हुआ और अस्पताल में जाने की ज़रूरत पड़ी तो क्या बीमा कंपनियाँ इलाज का ख़र्च उठाएँगी? यदि स्वास्थ्य बीमा कराने वालों के मन में यह सवाल है तो बता दें कि यह बीमा के दायरे में आएगा। जानिए यह किस तरह कवर होगा।

बीमा क्षेत्र से जुड़े सूत्रों ने कहा है कि मौजूदा चिकित्सा पॉलिसी किसी भी अन्य बीमारी की तरह ही दुष्परिणाम के कारण अस्पताल में भर्ती होने पर मरीज बीमा के दायरे में आएँगे। 

यह काफ़ी महत्पूर्ण इसलिए है कि कोरोना वैक्सीन देश की बहुत बड़ी आबादी को लगाई जानी है। इसलिए यदि कोई इसका इसका दुष्परिणाम होता है तो इससे प्रभावित होने वालों को बड़ी राहत मिल सकती है। 

ताज़ा ख़बरें

देश की इस बड़ी आबादी को टीका लगाए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। हालाँकि टीकाकरण 16 जनवरी को ही शुरू हो चुका है लेकिन तब यह सिर्फ़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही लगाई जा रही थी। अब इस टीकाकरण का दायरा बढ़ाया गया है। एक मार्च से शुरू हुए टीकाकरण अभियान के इस दूसरे चरण में 60 से ज़्यादा उम्र के लोगों और कोमोर्बिडिटीज वाले 45 से ज़्यादा उम्र के लोगों को ही वैक्सीन दी जाएगी। कहा जा रहा है कि दूसरे चरण में क़रीब 27 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा। इसमें से 60 से ज़्यादा उम्र के क़रीब 10 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा। 

इसका मतलब है कि दूसरे चरण में काफ़ी बड़ी आबादी कवर होगी।

इस लिहाज से कोरोना वैक्सीन का दुष्परिणाम होने पर अस्पताल का ख़र्च बीमा के दायरे में आना काफ़ी अहम है। 

'बिज़नेस लाइन' की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक स्वास्थ्य बीमाकर्ता ने कहा कि वैक्सीन से संबंधित उन मामलों में जिनमें अस्पताल में भर्ती करने की ज़रूरत होगी, हेल्थ पॉलिसी के तहत कवर की जाएगी। एक सामान्य नियम के रूप में, पॉलिसी दस्तावेज़ में विशेष रूप से जिन मामलों को बाहर नहीं रखा गया है, वे इसमें शामिल हैं।'

रिपोर्ट के अनुसार, बीमाकर्ता भी दावों के लिए कमर कस रहे हैं। एक जनरल बीमाकर्ता ने कहा कि ऐसे सभी मामलों को कवर किया जाएगा। टीकाकरण के ख़र्च को शामिल नहीं किया जाएगा, लेकिन 24 घंटे से अधिक के लिए मरीज़ को भर्ती रखे जाने पर कवर किया जाएगा।

हालाँकि, बीमा कंपनियों के कार्यकारी अधिकारी कहते हैं कि इस तरह के मामले अब तक एक भी नहीं आए हैं। 'बिज़नेस लाइन' की रिपोर्ट के अनुसार, एक कार्यकारी अधिकारी ने कहा, ‘अब तक हमें दावों के लिए ऐसा कोई दुष्परिणाम का मामला नहीं बताया गया है क्योंकि टीकाकरण कार्यक्रम शुरू में स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स तक सीमित था। अब आम जनता को भी वैक्सीन मिलने के साथ, हम किसी भी दावे की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए तैयार हैं।’

देश से और ख़बरें

रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण भी इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण के साथ सामने आ सकता है ताकि बीमाधारकों को फिर से आश्वस्त किया जा सके।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें